28 May 2022 Current Affairs

Spread the love

यह 28 May 2022 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. पहली हिंदी लेखिका, जिनके उपन्यास को बुकर प्राइज 2022 मिला?

a. गीता श्री
b. गीतांजलि श्री
c. मृणाल पांडे
d. जूपाका सुभद्रा

Answer: b. गीतांजलि श्री

————
2. बुकर प्राइज 2022 जीतने वाले पहले हिन्दी उपन्यास (रेत समाधि) के ट्रांसलेटेड वर्जन का नाम बताएं?

a. मैला आंचल
b. टॉम्ब ऑफ सैंड
c. कर्स्ड बनी
d. राग दरबारी

Answer: b. टॉम्ब ऑफ सैंड

– लेखिका गीतांजलि श्री के इस उपन्यास को बुकर प्राइज 2022 से 26 मई को सम्‍मानित किया।
– गीतांजलि की यह पुस्तक हिंदी में ‘रेत समाधि’ के नाम से प्रकाशित हुई थी।

————
3. बुकर प्राइज 2022 जीतने वाली पहली हिन्‍दी लेखिका गीतांजलि श्री की पुस्‍तक ‘रेत समाधि’ की अंग्रेजी अनुवादक का नाम बताएं?

a. डेजी रॉकवेल
b. अनीता दास
c. अरुंधति रॉय
d. ऐनी टायलर

Answer: a. डेजी रॉकवेल

– गीतांजलि श्री की पुस्‍तक ‘रेत समाधि’ का english Translation ‘टॉम्ब ऑफ सैंड’नाम से डेजी रॉकवेल ने किया है।
– गीतांजलि का यह अनुवादित हिंदी उपन्यास, ‘टॉम्ब ऑफ सैंड’, बुकर प्राइज 2022 से सम्मानित होने वाली किसी भी भारतीय भाषा की पहली पुस्तक बन गई है।
– दोनों को 50,000 पाउंड (लगभग 47 लाख रुपये) का साहित्यिक पुरस्कार मिला।
– मतलब 25 हजार पाउंड लेखिका गीतांजलि श्री को और इतनी ही रकम ट्रांसलेटर डेजी रॉकवेल को मिला।

उपन्यास के बारे में
– ‘रेत समाधि’ उत्तर भारत की एक 80 साल की महिला की कहानी है जो अपने पति की मौत के बाद तनाव में चली जाती है और एक नया जीवन शुरू करना चाहती है।

गीतांजलि के बारे में
– 64 वर्षीय गीतांजलि उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में जन्मी उपन्यासकार हैं।
– गीतांजलि श्री का पहला उपन्यास ‘माई’ था।
– इसके बाद इनका उपन्यास ‘हमारा शहर उस बरस’ नब्बे के दशक में आया था, जो सांप्रदायिकता (communalism) पर केंद्रित सबसे संजीदा उपन्यासो में से एक है।
– इसके कुछ साल बाद गीतांजलि श्री का अगला उपन्यास ‘तिरोहित’ आया।
– यह स्त्री समलैंगिकता (homosexuality) पर आधारित है।
– इनके उपन्यास ‘खाली जगह’ को भी खूब पढ़ा गया और अब ‘रेत समाधि’ प्रकाशित हुआ है।

————
4. PM मोदी ने देश के सबसे बड़े ड्रोन महोत्‍सव “भारत ड्रोन महोत्सव 2022” का उद्घाटन कहां किया?

a. दिल्ली
b. लखनऊ
c. पटना
d. जयपुर

Answer: a. दिल्ली

– “भारत ड्रोन महोत्सव 2022” का आयोजन दिल्‍ली के प्रगति मैदान में 27 और 28 मई 2022 को आयोजित हुआ।
– इसका उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया।
– इस दौरान उन्होंने ने 150 ड्रोन पायलट सर्टिफिकेट भी दिए।
– उन्होंने किसान ड्रोन पायलटों से बातचीत की और ओपन-एयर ड्रोन उड़ान प्रदर्शन देखा।
– इसके अलावा ड्रोन प्रदर्शनी केंद्र में स्टार्ट-अप पर चर्चा की।

4 अहम क्षेत्रों में ड्रोन बनेंगे गेमचेंजर
– सप्लाई: ड्रोन के जरिए रेस्टोरेंट से 5 किग्रा तक फूड सप्लाई हो सकेगा।
– मेडिसिन: शहर से 60 किमी दूर रिमोट इलाके तक दवा-टीके पहुंचाए जा सकेंगे।
– डिफेंस: ड्रोन का एक ऐसा परीक्षण भी हुआ जो दुश्मन के घर में घुसकर एके-47 से सर्जिकल स्ट्राइक करने में सक्षम है।
– कृषि: कीटनाशकों के छिड़काव और कृषि की निगरानी में बड़ी भूमिका हो रही है।

ड्रोन महोत्सव
– भारत ड्रोन महोत्सव 2022 ड्रोन के प्रदर्शन और महत्व का महोत्सव है।
– महोत्सव में सरकारी अधिकारियों, विदेशी राजनयिकों, सशस्त्र बलों, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों, सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों, निजी कंपनियों और ड्रोन स्टार्ट-अप आदि सहित 1600 से अधिक प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया।
– 70 से अधिक प्रदर्शकों ने ड्रोन्स का प्रदर्शन किया।
– देश में अभी ड्रोन का कारोबार जो 60 करोड़ रुपए हैं, वह आने वाले पांच साल में बढ़कर 15 हजार करोड़ पहुंच सकता है।

————
5. 12वें इंटरनेशनल जंपिग मीटिंग में किस भारतीय ने गोल्ड मेडल जीता?

a. मुरली श्रीशंकर
b. यश वीर सिंह
c. मोहम्मद अनीस याहिया
d. एमपी जबीर

Answer: a. मुरली श्रीशंकर

– इंटरनेशनल जंपिंग मीटिंग चैंपियनशिप का आयोजन कालिथिया (ग्रीस) में मई 2022 को हुआ।
– भारत के एथलीट (लॉन्ग जंपर) मुरली श्रीशंकर ने 8.31 मीटर की जंप लगाकर गोल्ड मेडल जीता।
– उन्होंने यह मेडल 25 मई 2022 को जीता।

मुरली श्रीशंकर
– वह केरल के हैं।
– वह तोक्यो ओलंपिक खेल चुके हैं।
– उनके नाम 8.36 मीटर का राष्ट्रीय रिकॉर्ड है।

————
6. आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी ने ‘हिन्दुस्तान जिंक लिमिटेड’ (HZL) में बची हुई केन्द्र सरकार की कितनी हिस्सेदारी को बेचने की मंजूरी दी?

a. 29.5%
b. 30.2%
c. 35.7%
d. 36.9%

Answer: a. 29.5%

– यह फैसला आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी (CCEA)ने 25 मई 2022 को लिया।

HZL
– हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड (HZL) की स्‍थापना केंद्र सरकार ने 10 जनवरी 1966 को की थी।
– ‘हिन्दुस्तान जिंक लिमिटेड’ भारत का सबसे बड़ा और दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा जिंक-लीड माइनिंग कंपनी है।
– हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड जिंक, लीड, चांदी और कैडमियम का एक भारतीय एकीकृत खनन और संसाधन उत्पादक है।
– वर्ष 2001 के बाद से केंद्र सरकार ने इसका हिस्‍सा कई चरणों में वेदांता ग्रुप को बेचना शुरू किया।
– अब केंद्र सरकार के पास 29.5% की हिस्सेदारी बची है।
– मई 2022 तक वेदांता ग्रुप के पास HZL की 64.9% हिस्सेदारी है।

सरकार को बची हुई हिस्सेदारी बेचने से क्या फायदा?
– वर्तमान में कंपनी के शेयरों के दाम के मुताबिक इससे केंद्र सरकार को 38,062 करोड़ रुपये मिलेंगे।
– इस रकम से सरकार को वित्तीय वर्ष 2022-23 के अपने वित्तीय वर्ष के 65,000 करोड़ के लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

HZL
मुख्यालय- उदयपुर
चेयरमैन- किरण अग्रवाल

————-
7. नरिंदर बत्रा को किस खेल संघ के अध्‍यक्ष पद से मई 2022 में हटाया गया?

a. ICC
b. BCCI
c. IOA
d. IHA

Answer: c. IOA (भारतीय ओलंपिक संघ)

– नरिंदर बत्रा वर्ष 2017 में इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन के अध्‍यक्ष बने थे।
– बत्रा के खिलाफ अप्रैल 2022 में हॉकी इंडिया से जुडे़ एक मामले में सीबीआई ने प्राथमिक जांच शुरू की थी।
– इसके बाद आईओए के सदस्यों ने उनसे आईओए का अध्यक्ष पद छोड़ने की मांग की थी।
– आरोप है कि हॉकी इंडिया के 35 लाख रुपये बत्रा के निजी फायदे के लिए इस्तेमाल किए गए।
– दिल्‍ली हाई कोर्ट ने हॉकी इंडिया में नरिंदर बत्रा के ‘लाइफ मेंबर’ पद को अवैध करार दिया था।
– इसी लाइफ मेंबरशिप के आधार पर वह IOA के अध्‍यक्ष बने थे।
– इसी के बाद उन्‍हें भारतीय ओलंपिक संघ (IOA) के पद से हटा दिया गया।
– हालांकि नरिंदर बत्रा ने कहा है कि उन्‍होंने इस्‍तीफा दिया है।
– भारतीय ओलंपिक संघ के उपाध्‍यक्ष अनिल खन्‍ना को इस संगठन का प्रभारी अध्‍यक्ष बनाया गया है।
– एसोसिएशन ने कहा है कि नरिंदर बत्रा अब अध्‍यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ पाएंगे।

– नरिंदर बत्रा, अंतर्राष्ट्रीय हॉकी महासंघ के अध्यक्ष (FIH) भी हैं।

————–
8. 75वीं विश्व स्वास्थ्य सभा (WHA) में समिति B  का अध्यक्ष किस भारतीय अधिकारी को चुना गया?

a. विनोद दास
b. राजेश भूषण
c. विल्‍पब देब
d. राकेश शर्मा

Answer: b. राजेश भूषण

– वह केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य सचिव (मई 2022) हैं।
– दरअसल, वर्ल्‍ड हेल्‍थ असेंबली के अंतर्गत ही विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन है।
– इस असेंबली की दो समितियां हैं – समिति ए और समिति बी।
– समिति ए WHO की तकनीकी और स्वास्थ्य मामलों पर ध्‍यान देती है।
– जबकि समिति बी WHO के प्रशासनिक और वित्तीय मामलों पर ध्‍यान देती है।
– जैसे – वर्ष 2022-23 के लिए डब्ल्यूएचओ का बजट, डब्ल्यूएचओ की ऑडिट रिपोर्ट, सार्वजनिक स्वास्थ्य पर वैश्विक रणनीति, पूर्वी यरुशलम और कब्जे वाले सीरियाई गोलान सहित कब्जे वाले फिलिस्तीनी क्षेत्र में स्वास्थ्य की स्थिति, यौन शोषण की रोकथाम, डब्ल्यूएचओ की सार्वजनिक स्वास्थ्य पर वैश्विक रणनीति और कार्य योजना में सुधार।

WHO
मुख्‍यालय – जेनेवा, स्‍विट्जरलैंड
महानिदेशक – डॉ. टेड्रोस अधानोम

—————
9. पुस्तक ‘लिसन टू योर हार्ट: द लंदन एडवेंचर’ के लेखक कौन हैं?

a. रस्किन बॉन्‍ड
b. गीतांजलि श्री
c. राकेश दयाल
d. अमरजीत सिंह

Answer: a. रस्किन बॉन्‍ड

– रस्किन बॉन्ड के 88वें जन्मदिन (19 मई 2022) पर यह पुस्‍तक लॉन्‍च हुई।
– वह प्रसिद्ध बाल लेखक हैं।
– जन्म कसौली (हिमाचल प्रदेश) में हुआ था और वे जामनगर (गुजरात), देहरादून (उत्तराखंड), नई दिल्ली और शिमला (हिमाचल प्रदेश) में पले-बढ़े।

————–
10. चेसेबल मास्टर्स 2022 के फाइनल में भारतीय खिलाड़ी आर प्रज्ञानानंद किस खिलाड़ी से हारकर दूसरे स्‍थान पर रहे?

a. देव पटेल
b. मैग्नस कार्लसन
c. अभिमन्यु मिश्रा
d. डिंग लिरेन

Answer: d. डिंग लिरेन

– आर प्रज्ञानानंद को 27 मई 2022 को चीनी खिलाड़ी डिंग लिरेन ने चेसेबल मास्टर्स 2022 के फाइनल में हरा दिया।
– डिंग लिरेन ने चेसेबल मास्टर्स 2022 का खिताब जीता।
– वह रैंकिंग में दुनिया के नंबर 2 खिलाड़ी हैं।

चेसेबल मास्टर्स 2022
– चेसेबल मास्टर्स मेल्टवॉटर चैम्पियन्स चेस टूर 2022 के अंतर्गत एक ऑनलाइन टूर्नामेंट है।

आर प्रज्ञानंद
– वह भारतीय ग्रैंडमास्‍टर हैं। उम्र 16 वर्ष है।
– पूरा नाम रमेशबाबू प्रज्ञानंद है।
– जन्म 10 अगस्त 2005 को चेन्नई में हुआ था।
– वह भारतीय शतरंज खिलाड़ी वैशाली रमेशबाबू के छोटे भाई हैं।

————–
11. सुपरकंप्यूटर ‘परम पोरुल’ का उद्घाटन किस संस्थान में मई 2022 में किया गया?

a. एनआईटी, पटना
b. आईआईटी, बॉम्बे
c. एनआईटी, तिरुचिरापल्ली
d. आईआईटी, कानपुर

c. एनआईटी, तिरुचिरापल्ली (तमिलनाडु)

– इस सुपरकंप्यूटर का उद्घाटन 25 मई 2022 को हुआ।
– इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (DST) की एक संयुक्त पहल – ‘राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन’ (NSM) के तहत इस सुपरकंप्यूटर को स्‍थापित किया गया है।
– इस मिशन (NSM) के तहत मई 2022 तक देश में 15 सुपरकंप्‍यूटर स्‍थापित किए जा चुके हैं। सभी को जोड़ लें तो कुल क्षमता 24 पेटा फ्लॉप होगी।
– इन सभी सुपरकंप्यूटरों का निर्माण भारत में किया गया है और यह स्वदेशी रूप से विकसित सॉफ्टवेयर स्टैक के साथ काम कर रहे हैं।

सुपरकंप्‍यूटर ‘परम पोरुल’
– ‘राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन’ (NSM) के स्‍टेज 2 के तहत निर्माण हुआ।
– लागत : 119 करोड़ रुपए
– किसने निर्माण किया : सी-डैक (C-DAC)
– स्‍पीड : 838 TeraFlops (सामान्‍य कंप्‍यूटर की तुलना में करीब ढाई लाख गुना स्‍पीड)
– परम पोरुल सिस्टम डायरेक्ट कॉन्टैक्ट लिक्विड कूलिंग तकनीक पर आधारित है।

परम पोरुल का उपयोग
– इसका प्रयोग आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग, डीप लर्निंग से जुड़ी सामाजिक परियोजनाओं के विकास में होगा।
– मौसम और जलवायु, जैव सूचना विज्ञान, और कम्प्यूटेशनल केमिस्‍ट्री में मदद मिलेगी।