27 June 2022 Current Affairs

Spread the love

यह 27 June 2022 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. देश की सबसे बुजुर्ग एथलीट का नाम बताएं, जिन्होंने ‘नेशनल ओपन मास्टर्स एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2022’ में गोल्ड जीता?

a. मान कौर
b. अजीत सिंह
c. वीआर चावला
d. रामबाई

Answer: d. रामबाई

– रामबाई ने 105 वर्ष की आयु में ‘1st नेशनल ओपन मास्टर्स एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2022’ में दो गोल्ड मेडल जीते।
– उन्होंने वुमेन 100 मीटर रन (100 वर्ष+) और वुमेन 200 मीटर रन (100 वर्ष+) कैटेगरी में गोल्ड मेडल जीते है।
– उन्होंने 100 मीटर की रेस को 45.40 सेकंड में पूरा किया और 200 मीटर की रेस को 01 मिनट 52.17 सेकंड में पूरा किया।
– 1st नेशनल ओपन मास्टर्स एथलेटिक्स चैंपियनशिप 2022 वड़ोदरा, गुजरात में 16-19 जून 2022 के बीच आयोजित हुई।

मान कौर का रिकॉर्ड तोड़ा
– मान कौर, 101 साल की उम्र में, 2017 में सिर्फ 74 सेकंड में 100 मीटर स्पर्धा में भाग लेने और जीतने वाली सबसे उम्रदराज भारतीय ट्रैक और फील्ड एथलीट बनी थीं।
– लेकिन अब उनका रिकॉर्ड रामबाई ने तोड़ दिया है।

रामबाई
– वह 105 वर्ष की हैं।
– वह हरियाणा की रहने वाली हैं।

————-
2. कॉमनवेल्थ हेड्स ऑफ गवर्नमेंट मीटिंग (CHOGM) 2022 कहां आयोजित हुई?

a. फ्रांस
b. ऑस्ट्रेलिया
c. रवांडा
d. श्रीलंका

Answer: c. रवांडा

– CHOGM 2022 किगाली, रवांडा में 20 से 25 जून 2022 को आयोजित हुई।
– CHOGM 2022 की थीम- ‘डिलीवरिंग अ कॉमन फ्यूचर: कनेक्टिंग, इनोवेटिंग, ट्रांसफॉर्मिंग’
– यह 26वीं कॉमनवेल्थ हेड्स ऑफ गवर्नमेंट मीटिंग थी।
– इस मीटिंग में भारत का प्रतिनिधित्व विदेश मंत्री एस जयशंकर ने किया।

रवांडा ने पहली बार की CHOGM की मेजबानी
– रवांडा ने पहली बार कॉमनवेल्थ हेड्स ऑफ गवर्नमेंट मीटिंग की मेज़बानी की है।
– ब्रिटिश उपनिवेश (कॉलोनी) का हिस्सा न होते हुए भी रवांडा (पूर्वी अफ्रीकी देश) वर्ष 2009 में कॉमनवेल्थ में शामिल हुआ।
– रवांडा कॉमनवेल्थ में इसलिए शामिल हुआ क्योंकि उसका मानना है कि जितनी ज्यादा मल्टीलेटरल फोरम में वो रहेगा उतनी ज्यादा उसके देश की तरक्की होगी।
– वर्ष 2009 में कॉमनवेल्थ में शामिल होने के बाद से ही रवांडा का मकसद 53 देशों के इस ब्लॉक के साथ आईटी, कृषि, और व्यापार के क्षेत्र में साझेदारी और तरक्की करना है।

कॉमनवेल्थ के बारे में
– राष्ट्रमंडल या कॉमनवेल्थ 6 महाद्वीपों में फैले 54 सदस्यों का एक स्वैच्छिक संघ है।
– इसमें अधिकतर ऐसे देश हैं जो पूर्व में ब्रिटेन के उपनिवेश रह चुके हैं।
– इन सभी देशों ने लोकतंत्र, लैंगिक समानता, अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं।
– यह संगठन सदस्य देशों की सहमति से चलता है।

कॉमनवेल्थ का इतिहास
– कॉमनवेल्‍थ की स्‍थापना 1931 में हुई थी, लेकिन इसकी शुरुआत काफी पहले ही हो गई थी।
– कॉमनवेल्थ की शुरुआत महारानी विक्टोरिया के कॉलोनियों पर नियंत्रण बनाए रखने के प्रयास से हुई थी।
– वर्ष 1867 में, कनाडा ने क्‍वीन विक्‍टोरिया से आजादी मांगी।
– क्‍वीन ने इस मांग को काफी हद तक स्वीकार लिया और कनाडा को डोमिनियन देश का दर्जा दे दिया।
– डोमिनियन का मतलब था कि कनाडा का स्व-शासन होगा।
– लेकिन ब्रिटेन कनाडा की नीतियों में हस्तक्षेप रहेगा।
– कुछ वर्ष बाद ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और दक्षिण अफ्रीका जैसी ब्रिटिश कॉलोनियां को डोमिनियन का दर्जा प्राप्त हो गया।
– प्रथम विश्वयुद्ध के बाद इन आजाद देशों में राष्ट्रवाद चरम पर आ गया।
– इसके चलते वर्ष 1926 में ब्रिटेन और डोमिनियन देश इस बात पर सहमत हुए कि वे दोनों समान अधिकार वाले होंगे।
– वर्ष 1931 में इस घोषणा से ब्रिटिश कॉमनवेल्थ ऑफ नेशन्स की स्थापना हुई।
– वर्ष 2022 में कॉमनवेल्‍थ के 54 सदस्‍य देश हैं।

भारत का कॉमनवेल्थ को लेकर क्या रुख रहा?
– भारत कॉमनवेल्थ की वार्ताओं में मौजूद रहा, लेकिन उसने पूर्ण स्वतंत्रता के लिए जोर देना जारी रखा।
– वर्ष 1949 में जब भारत को कॉमनवेल्थ में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया।
– इसपर तत्‍कालीन प्रधान मंत्री नेहरू एक महत्वपूर्ण चेतावनी के साथ सहमत हुए थे।
– उन्होंने भारत को कॉमनवेल्थ में शामिल कराने के लिए एक शर्त रखी कि भारत महारानी के प्रति निष्ठा की शपथ नहीं लेगा।
– इस प्रस्ताव को मान लिया गया और अगले वर्ष भारत, पाकिस्तान और श्रीलंका कॉमनवेल्थ में शामिल हो गए।

रवांडा
राजधानी- किगाली
राष्ट्रपति- पाउल कागमे
मुद्रा : रवांडन फ्रैंक
आबादी : 1.29 करोड़म

————–
3. चीन को पछाड़ते हुए वित्तीय वर्ष 2021-22 में भारत का सबसे बड़ा ट्रेड पार्टनर कौन बना?

a. अमेरिका
b. कनाडा
c. रूस
d. जापान

Answer: a. अमेरिका

– विदेश व्‍यापार का आंकड़ा वाणिज्‍य मंत्रालय ने जारी किया।

वित्‍त वर्ष 2021-22 में भारत का व्यापार (आयात और निर्यात)
1. यूएसए : 119.42 बिलियन डॉलर
2. चीन : 115.42 बिलियन डॉलर
3. यूएई : 72.9 बिलियन डॉलर
4. सऊदी अरब : 42.85 बिलियन डॉलर
5. इराक : 34.33 बिलियन डॉलर

अमेरिका- भारत का व्यापार

– अमेरिका से भारत का व्यापार सरप्लस में रहा है।
– वर्ष 2021-22 में भारत का अमेरिका के साथ 32.8 बिलियन डॉलर का व्यापार सरप्लस रहा था।

भारत, अमेरिका को क्या निर्यात करता है?
– पेट्रोलियम पॉलिश्ड हीरे
– फार्मास्युटिकल उत्पाद
– आभूषण
– झींगा

भारत, अमेरिका से क्या आयात करता है?
– कच्चे हीरे
– नेचुरल गैस
– सोना
– कोयला
– बादाम

चीन- भारत का व्यापार

– वर्ष 2013-14 से 2017-18 तक और 2020-21 में भी चीन भारत का शीर्ष व्यापारिक भागीदार था।
– चीन से पहले यूएई देश का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार था।
– भारत से व्‍यापार में चीन सरप्‍लस में है। मतलब भारत ज्‍यादा आयात करता है और निर्यात कम करता है।

भारत का अमेरिका के साथ व्यापार और मजबूत होगा
– द हिन्दू के व्यापार विशेषज्ञों का मानना है कि आने वाले वर्षों में भी अमेरिका के साथ व्यापार बढ़ने का सिलसिला जारी रहेगा।
– क्योंकि दोनों देश आर्थिक संबंधों को और मजबूत करने में लगे हुए हैं।
– इसके अलावा भारत,चीन से अपनी निर्भरता कम करने में जुटा हुआ है।

IPEF (इंडो-पैसिफिक इकोनॉमिक फ्रेमवर्क) भारत-अमेरिका के संबंधों को मजबूत करेगा
– भारत मई 2022 में अमेरिका के ट्रेड पहल IPEF में शामिल हुआ।
– IPEF का उद्देश्य इस पहल में शामिल देशों की निर्भरता को चीन से कम करना है।
– भारत भी इसी कारण से इस पहल में शामिल हुआ, जिससे उसके अमेरिका सहित दूसरे देशों के साथ संबंध मजबूत हो सकें।

भारत के वाणिज्‍य मंत्री – पियूष गोयल

—————
4. नेशनल इन्फॉर्मेटिक्स सेन्टर (NIC) के महानिदेशक कौन बने?

a. राजेश गेरा
b. प्रीतम नायक
c. रवि कौशिक
d. राज सिकारे

Answer: a. राजेश गेरा

राजेश गेरा
– वह वैज्ञानिक हैं।
– वह NIC के साथ करीब 31 वर्षों से जुड़े हैं।

NIC
– इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MeitY) के तहत NIC की स्थापना वर्ष 1976 में हुई।
– इसकी स्थापना केंद्र और राज्य सरकारों को टेक्नोलॉजी से जुड़े समाधान प्रदान करने के उद्देश्य से की गई थी।

—————-
5. ब्रुसेल्स में “मैंगो फेस्टिवल” का उद्घाटन किस भारतीय मंत्री ने किया?

a. निर्मला सीतारमण
b. पीयूष गोयल
c. अमित शाह
d. राजनाथ सिंह

Answer: b. पीयूष गोयल

– बेल्जियम की राजधानी ब्रुसेल्‍स में जून 2022 में मैंगो फेस्टिवल का आयोजन हुआ।
– इसका उद्घाटन केंद्रीय वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने किया।
– यूरोपीय लोगों के बीच आम के प्रति जागरूकता बढ़ाने और यूरोप में भारतीय आमों के मार्केट स्थापित करने के लिए यह आयोजन हुआ।
– भारत विश्व में आमों का एक बड़ा आपूर्तिकर्ता है

बेल्जियम
राजधानी – ब्रुसेल्‍स
सम्राट (Monarch)- फिलिप
प्रधानमंत्री – एलेक्ज़ेंडर डी क्रू
मुद्रा – यूरो

—————
6. देश का पहला लिक्विड मिरर टेलीस्कोप कहां स्थापित किया गया?

a. मुंबई
b. लखनऊ
c. दिल्ली
d. नैनीताल

Answer: d. नैनीताल (उत्तराखंड)

– इसका नाम ‘इंटरनेशनल लिक्विड मिरर टेलीस्कोप’ (ILMT) है।
– यह आर्यभट्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ ऑब्जर्वेशनल साइंसेज (ARIES) के देवस्थल ऑब्जर्वेटरी कैंपस में स्थित है।
– समुद्रतल से इसकी ऊंचाई 2450 मीटर है।
– इस टेलीस्कोप को कनाडा, बेल्जियम और भारत के वैज्ञानिकों ने मिलकर बनाया है।
– यह विश्व का इकलौता ऑपरेशनल टेलीस्कोप है।

लिक्विड मिरर टेलीस्कोप
– इस टेलीस्कोप में लगभग 50 लीटर पारा (Mercury) है, जिसका वजन 700 किलोग्राम है।
– इस टेलीस्कोप में एक पैराबोलिक रिफ्लेक्टर होता है।
– यह रिफ्लेक्टर एक मिरर का काम करता है।

‘इंटरनेशनल लिक्विड मिरर टेलीस्कोप’ (ILMT) का क्या उपयोग होगा?
– अंतरिक्ष स्रोतों की पहचान करेगा।
– इसके अलावा स्पेस डेबरिस (अंतरिक्ष का कचरा), ऑबजेक्ट्स और ऐस्टरॉइड की पहचान करेगा।
– इस टेलीस्कोप से एकत्रित किए गए डाटा से पांच वर्ष तक फोटोमीट्रिक सर्वे किया जा सकेगा।

ILMT ने ली पहली तस्वीर
– टेलीस्कोप ने अपनी पहली तस्वीर 03 जून 2022 को जारी की।
– इसने कुछ तारों और एक गैलेक्सी NGC 4274 की तस्वीर ली।
– गैलेक्सी NGC 4274 पृथ्वी से 45 मिलियन लाइट ईयर दूर है।

—————-
7. केंद्र सरकार के नए नियम के अनुसार VPN प्रोवाइडर्स को यूजर का रिकॉर्ड कितने वक्‍त तक रखना होगा?

a. एक वर्ष
b. दो वर्ष
c. चार वर्ष
d. पांच वर्ष

Answer: d. पांच वर्ष

– यह गाइडलाइन केंद्रीय इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के ‘इंडियन कंप्‍यूटर इमर्जेंसी रेस्‍पांस’ ऑफ‍िस ने जारी की।
– गाइडलाइन 30 जून 2022 से लागू हो रही है।

VPN (वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क)
– VPN का मुख्य काम है प्राइवेसी को सुनिश्चित करना।
– VPN मूल रूप से इंटरनेट जैसे पब्लिक नेटवर्क का उपयोग करते हुए एक सुरक्षित कनेक्शन बनाता है।
– सरल शब्दों में समझे तो, यह आपकी ऑनलाइन आईडी को छिपा देता है।
– इससे थर्ड पार्टी के लिए आपके डेटा को ट्रैक करना, चोरी करना और कलेक्ट करना मुश्किल हो जाता है।
– VPN का उपयोग पत्रकार, कार्यकर्ता और जासूस अपने काम के लिए करते हैं।

VPN प्रोवाइडर को यूजर की कौन सी जानकारी रखनी होगी?
– यूजर की ईमेल आईडी,आईपी एड्रेस
– फोन नंबर, व्यक्तिगत जानकारी
– सर्विसेज, उपयोग पैटर्न और अन्‍य जानकारी

VPN कंपनियों के अलावा दूसरे संस्थानों के लिए क्या मानदंड है?
– डाटा सेन्टर्स, वर्चुअल सर्विस नेटवर्क प्रोवाइडर्स और क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर्स को भी यह सारी जानकरी रिकॉर्ड करनी होगी।
– नो योर कस्टमर (KYC) के रूप में, वर्चुअल एसेट सर्विस प्रोवाइडर, वर्चुअल एसेट एक्सचेंज प्रोवाइडर और कस्टोडियन वॉलेट प्रोवाइडर भी वित्तीय लेनदेन के रिकॉर्ड के साथ अन्य जानकारी को रिकॉर्ड करेंगे।

डाटा सरकार को नहीं सौंपा तो क्या होगा?
– अगर डेटा सरकार को नहीं सौंपा जाता है, तो संस्थाओं को दंडात्मक कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा।

सरकार ने यह नियम क्यों जारी किए?
– देश में साइबर सिक्योरिटी और सुरक्षित इंटरनेट को बढ़ावा देने के लिए।

नए नियमों से VPN यूजर्स को क्या दिक्कत होगी?
– नए नियमों के अनुसार VPN का उपयोग करने के लिए साइन अप करते समय ग्राहकों को एक सख्त KYC प्रक्रिया से गुजरना होगा।
– इसके अलावा VPN सर्विसेज का उपयोग करने का उद्देश्य बताना होगा।

नए नियम से VPN का प्रयोग व्यर्थ
– नए नियमों के साथ सरकार के पास मूल रूप से ग्राहकों की व्यक्तिगत जानकारी तक पहुंच होगी।
– यह VPN के प्रयोग को व्यर्थ करता है।

सरकार ने नए नियमों के बारे में क्या बोला?
– सरकार ने कहा कि यह नियम इस समय आवश्यक है।
– यह नियम साइबर स्पेस की स्थिरता को सुनिश्चित करेंगे।
– सरकार ने कहा जो कंपनी यह नियम मानेगी उसे अपनी सर्विसेज को भारत से हटाना होगा।

केंद्रीय इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के मंत्री : अश्‍विनी वैष्‍णव

————-
8. DRDO और इंडियन नेवी ने जून 2022 में VL-SRSAM मिसाइल का परीक्षण किया, इसे किससे दागा जाता है?

a. रॉकेट लॉन्चर
b. हेलिकॉप्टर
c. युद्धपोत
d. इनमें से कोई नहीं

Answer: c. युद्धपोत

– इस मिसाइल को युद्धपोत से दागा जाता है।
– DRDO और भारतीय नेवी ने वर्टिकल-लॉन्च- शॉर्ट-रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल (VL-SRSAM) का तीसरा सफल परीक्षण 24 जून 2022 को किया।
– मिसाइल का परीक्षण भारतीय नौसैनिक युद्धपोत से किया गया।
– यह परीक्षण ओडिशा के चांदीपुर तट पर हुआ।

VL-SRSAM
– इस मिसाइल को DRDO ने विकसित किया है।
– यह मिसाइल अस्ट्रा मार्क 1 एयर-टू-एयर मिसाइल पर आधारित है।
– इस मिसाइल में समुद्री टारगेट सहित हवाई खतरों को बेअसर करने की क्षमता है।
– यह सी-स्किमिंग टारगेट (एक तकनीक जिसे एयरक्राफ्ट रडार से बचने के लिए प्रयोग करते है) को बेअसर करने में कामयाब है।
– यह 40 से 50 किलोमीटर की दूरी पर और लगभग 15 किमी की ऊंचाई पर हाई स्पीड हवाई टारगेटों पर हमला कर सकती है।

DRDO (Defence Research and Development Organisation)
मुख्‍यालय : नई दिल्‍ली
चेयरमैन : डॉ. जी सतीश रेड्डी

इंडियन नेवी चीफ – एडमिरल आर हरि कुमार

————–
9. किस वित्‍तीय संगठन ने भारतीय रेलवे के भाड़ा और लॉजिस्टिक बुनियादी ढांचे के आधुनिकीकरण के लिए 24.5 करोड़ डॉलर के ऋण को मंज़ूरी दी है?

a. विश्व बैंक
b. एसबीआई
c. आरबीआई
d. आईएमएफ

Answer: a. विश्व बैंक

– यह ऋण 22 साल की अवधि के लिए दिया गया है।
– इस परियोजना का उद्देश्य माल और यात्री दोनों के परिवहन को अधिक कुशल बनाना और हर साल लाखों टन के कार्बन उत्सर्जन को कम करना है।

—————-
10. बिहार सरकार ने राज्य के किन जिलों में तेल भंडार की खोज के लिए लाइसेंस देने की प्रक्रिया शुरू की?

a. जमुई, मुजफ्फरपुर
b. नालंदा, नवादा
c. गोपालगंज, सिवान
d. समस्तीपुर , बक्सर

Answer: d. समस्तीपुर , बक्सर

– बिहार सरकार ने इससे पहले जमुई में सोने के भंडार की खोज की अनुमति दी थी।
– राज्‍य सरकार ने स्वर्ण भंडार के बाद जून 2022 में तेल भंडार की खोज के लिए लाइसेंस देने की प्रक्रिया शुरु कर दी है।
– सरकार ने पेट्रोलियम एक्सप्लोरेशन लाइसेंस (PEL) देने की प्रक्रिया शुरू की है।
– यह लाइसेंस बिहार के समस्तीपुर, बक्सर में तेल भंडार की उपस्थिति का आकलन करने की लिए दिए जाएंगे।

किस तेल कंपनी ने लाइसेंस के लिए आवेदन किया?
– ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉर्पोरेशन (ONGC) लिमिटेड ने बक्सर और समस्तीपुर में तेल की खोज के लिए PEL (पेट्रोलियम एक्सप्लोरेशन लाइसेंस) के लिए आवेदन कर दिया है।

PEL (पेट्रोलियम एक्सप्लोरेशन लाइसेंस)
– पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस नियम, 1959 के नियम 5(1) के प्रावधानों के तहत PEL दिया जायेगा।
– PEL की अभीष्ट अवधि चार वर्ष है।

समस्तीपुर, बक्सर में तेल की खोज कितने एरिया में?
– गंगा किनारे समस्तीपुर (308.32 वर्ग किमी एरिया) और बक्सर (52.13 वर्ग किमी एरिया) में तेल भंडार की खोज की जायेगी।

बिहार
राजधानी – पटना
सीएम – नीतीश कुमार
गवर्नर – फगु चौहान