26 & 27 April 2022 Current Affairs

Spread the love

यह 26th & 27th April 2022 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. पहला ‘लता दीनानाथ मंगेशकर अवॉर्ड’ किस राजनीतिज्ञ को मिला?

a. मनमोहन सिंह
b. नरेंद्र मोदी
c. उद्धव ठाकरे
d. नीतीश कुमार

Answer: b. नरेंद्र मोदी

– पीएम मोदी को 24 अप्रैल 2022 को पहला लता दीनानाथ मंगेशकर अवॉर्ड मिला।
– यह अवॉर्ड मुंबई में आयोजित 80वें वार्षिक मास्टर दीनानाथ मंगेशकर पुरस्कार समारोह में ही दिया गया।
– पीएम मोदी को यह अवॉर्ड देश और समाज के लिए उनकी निस्वार्थ सेवा के लिए मिला।

लता दीनानाथ मंगेशकर अवॉर्ड
– लता दीनानाथ मंगेशकर अवॉर्ड महान गायिका लता मंगेशकर की स्मृति और सम्मान में स्थापित किया गया है।
– लताजी का निधन 6 फरवरी 2022 में 92 वर्ष की आयु में हुआ था।
– मास्टर दीनानाथ मंगेशकर स्मृति प्रतिष्ठान चैरिटेबल ट्रस्ट के अनुसार, यह पुरस्कार हर वर्ष केवल एक व्यक्ति को दिया जाएगा।
– यह पुरस्कार उस व्यक्ति को दिया जायेगा, जिसने राष्ट्र, उसके लोगों और समाज के लिए शानदार और बेहतरीन काम किया है।

पीएम मोदी को मिले अवॉर्ड्स
– वर्ष 2016: स्टे्ट ऑर्डर ऑफ गाजी अमिर अमानुल्लाह खान अवॉर्ड
– वर्ष 2016: ऑर्डर ऑफ अब्दुलअज़ीज़ अल सउदी
– वर्ष 2018: सियोल पीस प्राइज
– वर्ष 2018: ग्रेंड कॉलर ऑफ द स्टे्ट ऑफ पेलेस्टाइन अवॉर्ड
– वर्ष 2019: किंग हमद ऑर्डर ऑफ द रेनएयिशंस
– वर्ष 2019: ऑर्डर ऑफ द डिस्टिंग्यूस्ड रूल ऑफ निशान इजुद्दीन
– वर्ष 2019: ऑर्डर ऑफ सेंट एंड्रियू अवॉर्ड
– वर्ष 2019: ऑर्डर ऑफ जयद अवॉर्ड
– वर्ष 2019: ग्लोबल गोलकीपर अवॉर्ड
– वर्ष 2020: लेजन ऑफ मेरिट बाई द यूएस गर्वनमेंट अवॉर्ड
– वर्ष 2021: ग्लोबल एनर्जी एंड इनवोरोमेंट लीडरशिप अवॉर्ड
– वर्ष 2021: भूटान हाईएस्ट सिविलियन अवॉर्ड
– वर्ष 2022: लता दीनानाथ मंगेशकर अवॉर्ड

——————
2. एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप में लगातार तीन स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय फ्रीस्टाइल पहलवान कौन हैं?

a. रवि कुमार दहिया
b. बजरंग पुनिया
c. सुशील कुमार
d. योगेश्वर दत्त

Answer: a. रवि कुमार दहिया

– रवि कुमार दहिया एशियाई कुश्‍ती चैंपियनशिप 2022 में 57 किलोग्राम भारवर्ग में तीसरा स्वर्ण पदक जीता।
– उन्‍होंने कजाखस्तान के खिलाड़ी रखत कालजान को हराकर यह खिताब जीता।
– यह चैंपियनशिप मंगोलिया की राजधानी उलानबाटार में अप्रैल 2022 में आयोजित हुआ।

कब पदक जीते
– 2022 में उलानबाटार (मंगोलिया) में आयोजित चैंपियनशिप में गोल्‍ड
– 2021 में अलमाटी (कजाकिस्‍तान) में आयोजित चैंपियनशिप में गोल्‍ड
– 2020 में दिल्‍ली (भारत) में आयोजित चैंपियनशिप में गोल्‍ड

रवि दाहिया
– 2021 में आयोजित टोक्यो ओलंपिक 2020 में रवि दाहिया ने सिल्‍वर मेडेल जीता था।

बजरंग पुनिया
– एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप में बजरंग पुनिया ने 65 किलोग्राम भारवर्ग में सिल्‍वर (रजत) मेडेल जीता।

—————
3. ट्विटर के बोर्ड ने कंपनी को किस उद्योगपति को बेचने को मंजूरी दी?

a. जेफ बेजोस
b. एलन मस्‍क
c. मुकेश अंबानी
d. वारेन बफेट

Answer: b. एलन मस्‍क

– एलन मस्क ने इस माइक्रो ब्लॉगिंग साइट को खरीदने के लिए 44 बिलियन डॉलर (3,368 अरब रुपए) की डील की हैं।
– मस्क को ट्विटर के हर शेयर के लिए 54.20 डॉलर (4,148 रुपए) चुकाने होंगे।
– उनके पास पहले से ही ट्विटर में 9% की हिस्सेदारी मौजूद है।
– ताजा डील के बाद उनके पास कंपनी की 100% हिस्सेदारी होगी और ट्विटर उनकी प्राइवेट कंपनी बन जाएगी।
– अगर सब कुछ योजना के अनुसार होता है, तो वह साल के अंत तक मंच के मालिक भी होंगे।

कुल 44 बिलियन डॉलर
– ट्वीटर की डील 44 बिलियन डॉलर पर हुई है।
– इसमें से 21 बिलियन डॉलर एलन मस्‍क के पास मौजूद हैं। बाकि जुटाने होंगे। शायद इसके लिए टेस्‍ला के शेयर बेचने पड़े।

नियामक मंजूरी बाकी
– एक बार अमेरिका, यूरोपीय संघ और अन्य नियामकों द्वारा सौदे को मंजूरी मिलने के बाद, एलन मस्क कंपनी को निजी तौर पर ले सकेंगे।
– मस्क ने एक टेड मंच पर कहा कि उनका प्रस्ताव पैसा कमाने के बारे में नहीं था, बल्कि बोलने की आजादी के बारे में था।

—————
4. UGC ने किन डिग्री प्रोग्राम्स के लिए भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों और विदेशी संस्थानों को कलैबरेशन करने की मंजूरी दी?

a. जॉइंट डिग्री
b. ट्विनिंग प्रोग्राम्स
c. ड्यूल डिग्री
d. उपरोक्त सभी

Answer: d. उपरोक्त सभी

– UGC (यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमीशन) ने कुछ भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों और विदेशी संस्थानों को कलैबरेशन करके ड्यूल डिग्री, जॉइंट डिग्री या ट्विनिंग प्रोग्राम्स को प्रदान करने की अनुमति दे दी है।
– इन प्रोग्राम्स को प्रदान करने के लिए भारतीय और विदेशी शिक्षण संस्थानों को एक समाझौता ज्ञापन (MoU) साइन करना होगा।
– इस कोलेबोरेशन के लिए शिक्षण संस्थानों को कुछ मानक पूरे करने होंगे।

कोलेबोरेशन के लिए क्या मानक है?
– भारतीय कॉलेज, संस्थान या विश्वविद्यालय को शीर्ष वैश्विक 1,000 क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी या टाइम्स हायर एजुकेशन रैंकिंग में शामिल होना चाहिए।
– नेशनल इंस्टीट्यूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क (NIRF) के तहत शीर्ष 100 विश्वविद्यालयों में शामिल होना चाहिए।
– कॉलेज या विश्वविद्यालय को राष्ट्रीय मूल्यांकन और प्रत्यायन परिषद (NAAC) से 4-पॉइंट स्केल पर 3.01 की न्यूनतम ग्रेडिंग प्राप्त होनी चाहिए।
– इसी तरह, विदेशी संस्थान को भी 1,000 वैश्विक शीर्ष क्यूएस या टाइम्स हायर एजुकेशन रैंकिंग में शामिल होना चाहिए।

कोलेबोरेशन को किस रेगुलेशन के अंडर नियंत्रित किया जायेगा?
– इस कोलेबोरेशन को UGC रेगुलेशंस 2022 के तहत नियंत्रित किया जायेगा।
– लेकिन अभी तक कोई स्पष्टता नहीं है कि फाइनल पॉलिसी इस तरह के “अप्रूवल मोड” कोलेबोरेशन के लिए प्रदान करती है या नहीं।
– एक बार अधिसूचित होने के बाद, नया रेगुलेशन UGC रेगुलेशंस 2016 का स्थान लेगा।

जारी होने वाले नए रेगुलेशन में क्या होगा?
– UGC रेगुलेशंस 2016 के तहत, एक संस्थान को विदेशी सहयोग के लिए अप्रूवल के लिए यूजीसी में आवेदन करने की आवश्यकता थी।
– लेकिन जल्द ही अधिसूचित होने वाले रेगुलेशंस के तहत, योग्य विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को ऐसी अनुमति लेने की आवश्यकता नहीं होगी।

कोलेबोरेशन से छात्रो की डिग्री कैसे मिलेगी?
– ट्विनिंग डिग्री प्रोग्राम के लिए, एक छात्र कोलेबोरेटिव विदेशी विश्वविद्यालय से कुल पाठ्यक्रम का 30% तक क्रेडिट उपयोग प्राप्त कर सकता है।
– जॉइंट और ड्यूल डिग्री प्रोग्राम्स के लिए, छात्रों को विदेश में विश्वविद्यालय या संस्थान से कुल पाठ्यक्रम क्रेडिट का 30% से अधिक प्राप्त करने की अनुमति होगी।

——————
5. सबसे बड़े पाम ऑयल उत्पादक किस देश ने इसके निर्यात पर बैन लगा दिया है, जिससे भारत में खाने के तेल की महंगाई बढ़ने की आंशका हो गई है?

a. रूस
b. यूक्रेन
c. इंडोनेशिया
d. मलेशिया

Answer: c. इंडोनेशिया

– इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो ने 22 अप्रैल 2022 को इस बात की घोषणा की।
– यह बैन 28 अप्रैल 2022 से लागू किया जायेगा।

इंडोनेशिया ने पाम ऑयल के निर्यात पर बैन क्यों लगाया?
– इंडोनेशिया में इन दिनों काफी महंगाई बढ़ गई है।
– घरेलू कमी को कम करने और महंगाई को काबू करने के लिए यह बैन लगाया गया है।
– इंडोनेशिया में पाम ऑयल की कमी भी आ गई है।

पाम ऑयल की कमी के कारण
– दो मुख्य कारण है।
– पहला रूस-यूक्रेन विवाद।
– दूसरा इंडोनेशिया द्वारा पाम ऑयल का ज्यादा उपयोग।
– रूस-यूक्रेन विवाद के चलते सूरजमुखी के तेल की सप्लाई और उत्पादन नहीं हो पा रहा।
– इसके कारण विश्वभर के देश पाम ऑयल पर निर्भर हो गए।
– इसी से पाम ऑयल की मांग ज्यादा बढ़ गई।
– लेकिन इंडोनेशिया ज्यादा मात्रा में सप्लाई नहीं कर सकता।
– क्योंकि उसने पहले ही बायो फ्यूल के रूप में पाम ऑयल का काफी इस्तेमाल कर लिया है।
– इंडोनेशियाई सरकार ने 2020 से ही फोजिल फ्यूल के आयात को कम करने के लिए पाम ऑयल के साथ डीजल का 30% की मिलावट को अनिवार्य कर दिया था।
– इंडोनेशिया में पाम ऑयल की घरेलू खपत 17.1 मिलियन टन होने का अनुमान है।
– इसमें से 7.5 मिलियन टन बायो-डीजल के लिए और शेष 9.6 मिलियन टन घरेलू और अन्य उपयोग के लिए है।
– इन सभी चीजों को ध्यान में रखकर इंडोनेशिया ने पाम ऑयल के निर्यात पर बैन लगाया है।

पाम ऑयल का किन-किन चीजों में प्रयोग?
– खाने में इस्तेमाल किया जाता है।
– इसके अलावा पाम ऑयल को भिन्न प्रकार के खाने वाले तेल में भी मिलाया जाता है।
– यह मिलावट वाल तेल बहुत सस्ता होता है।
– पाम ऑयल में कोई महक नहीं होती है।
– इसलिए यह आसानी से प्राप्त हो जाता है।
– शैम्पू, साबुन, टूथपेस्ट मेकअप आइटम और विटामिन की गोलियों में पाम ऑयल मिलाया जाता है।
– पेट्रोल-डीजल में बायोफ्यूल के रूप मिलाया जाता है।
– बिजली बनाने में।
– उद्योगों में भी प्रयोग।

पाम ऑयल के निर्यात पर बैन से भारत को क्या चिंता?
– भारत खाने वाले तेल के मामले में पाम ऑयल पर काफी निर्भर है।
– भारत में घरेलू खाने का तेल के तौर पर ज्‍यादातर सरसो तेल, सूरजमुखी तेल, राइस ब्रान तेल, मूंगफली का तेल का इस्‍तेमाल होता है। इसे सस्‍ता रखने के लिए सरकार ने इन तेलों में पाम आयल की मिलावट (ब्‍लेंडिंग) करने की अनुमति दी हुई है।
– ऐसे में जब दुनिया में पाम आयल का संकट होगा और कीमत बढ़ जाएगी, तो महंगाई का असर खाने के तेल पर भी होगा।

भारत में पाम आयल का कितना आयात
– वर्तमान में भारत करीब 90 लाख टन पाम ऑयल आयात करता है।
– इस आयात में 70 फीसदी तेल इंडोनेशिया का है और बाकी 30 फीसदी मलेशिया का है।
– पाम ऑयल के बैन होने से भारत अपने देश के लोगों की आवश्यकता की पूर्ति नहीं कर सकेगा।

भारत का पाम ऑयल का उत्पादन कितना लक्ष्य?
– भारत सरकार पाम ऑयल के उत्पादन पर जोर दे रही है।
– नेशनल मिशन ऑफ एडिबल ऑयल के तहत वर्ष 2025-26 तक भारत में पाम ऑयल का उत्पादन 3 गुना करने का लक्ष्य रखा गया है।

भारत पाम ऑयल के उत्पादन पर क्यों दे रहा है जोर?
– पाम ऑयल के उत्पादन पर जोर इसलिए दिया जा रहा है।
– क्योंकि सरसों तेल की तुलना में उतनी ही जमीन पर पाम ऑयल का उत्पादन करीब तीन गुना तक अधिक होता है।

दुनिया के दूसरे सबसे बड़े उत्पादक मलेशिया पर ज्यादा निर्भर होना पड़ेगा
– भारत सहित अन्य एशियाई देशों को पाम ऑयल के लिए अब पाम ऑयल के दूसरे सबसे बड़े उत्पादक मलेशिया पर निर्भर होना पड़ेगा।
– इससे दामों में बढ़त होने की आंशका है।
– लेकिन मलेशिया भी पाम ऑयल की पूर्ति करने में ज्यादा सक्षम नहीं है।

पाम ऑयल के बढ़ते दाम के कारण भारत में महंगाई
– इंडोनेशिया के तेल बैन होने के कारण, भारत को अब मलेशिया से तेल लेने पड़ेगा।
– इसका फायदा उठाकर मलेशिया भी पाम ऑयल के दामों में बढ़ोत्तरी कर सकता है।
– इससे भारत में महंगाई का खतरा हो सकता है, क्योंकि देश ज्यादा आबादी पाम ऑयल पर डायरेक्टली या इंडायरेक्टली निर्भर है।

भारत में महंगाई दर कितनी?
– मार्च 2022 में खुदरा महंगाई दर का 6.95 प्रतिशत रही।
– जबकि थोक मूल्य सूचकांक (WPI), जो थोक मूल्य-आधारित मुद्रास्फीति को मापता है, मार्च 2022 में चार महीने के उच्च स्तर 14.55% पर पहुंच गया।

भारत के अलावा किन देशों के लिए परेशानी?
– भारत के अलावा बांग्लादेश, पकिस्तान को पाम ऑयल के निर्यात पर बैन से काफी दिक्कत होगी।
– क्योंकि यह दोनों देश भी पाम ऑयल का खूब प्रयोग करते है।
– ऐसे में यह देश पाम ऑयल की पूर्ति करने में सक्षम नहीं है।

——————
6. फ्रांस का राष्ट्रपति चुनाव लगातार दूसरी बार किसने जीता?

a. इमैनुएल मैक्रों
b. मरीन ले पेन
c. एरिक ज़ेमोर
d. यानिक जादोट

Answer: a. इमैनुएल मैक्रों

– फ्रांस के मौजूदा राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने दूसरी बार 24 अप्रैल 2022 को राष्ट्रपति का चुनाव जीत लिया।
– उन्होंने प्रतिद्वंदी उम्‍मीदवार मरीन ले पेन को हराया।
– मैक्रो पिछले 20 वर्षों में लगातार दूसरा कार्यकाल हासिल करने पहले फ्रांसीसी राष्ट्रपति बन गए है।
– मरीन ले पेन, दक्षिणपंथी है।
– उन्होंने 07 अप्रैल 2022 को घोषणा की थी कि वह अगर राष्ट्रपति बनेंगी तो सार्वजनिक स्थानों पर हिजाब पहनने वालों को जुर्माना देना पड़ेगा।
– हालांकि इमैनुएल मैक्रों का चुनाव जीतने में मदद उनकी मध्यमार्गी (सेन्ट्रिस्ट) वाली इमेज ने किया है।
– उनका डुकाव ना तो वामपंथ की ओर है और ना ही दक्षिणपंथ की ओर।

इमैनुएल मैक्रों के बारे में
– वह 44 वर्ष के हैं।
– उनका जन्म दिसंबर 1977 में फ्रांस के एमिएंस शहर में हुआ था।
– वर्ष 2017 में वह पहली बार फ्रांस के राष्ट्रपति बने।

भारत और फ्रांस के संबंध
– दोनों देशों का संबंध दशकों से फ्रेंडली रहा है।
– भारत ने वर्ष 2015 में 36 राफेल विमान खरीदने के लिए फ्रांस के साथ डील की थी।
– इस डील के तहत अबतक कई राफेल भारत को उपलब्ध करवा दिए गए है।
– भारत में एक हजार से भी अधिक फ्रांस की कंपनिया एक्टिव है।
– प्रोजेक्ट 75 के तहत फ्रांस ने सबमरीन निर्माण के लिए भारत को तकनीक ट्रांसफर किया है।
– फ्रांस और इंडिया के बीच ट्रांसफर ऑफ टेक्‍नालॉजी एग्रीमेंट पर 2005 में सिग्‍नेचर हुए थे।
– इसके तहत 6 स्‍कॉर्पियन क्‍लास सबमरीन बनाए गए।
– भारत ने फरवरी 2022 में फ्रांस के साथ ब्लू इकोनॉमी एंड ओशियन गवर्नेंस को बढ़ावा देने के लिए रोडमैप पर साइन भी किया।

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फ्रांस जाएंगे
– नरेंद्र मोदी फ्रांस, जर्मनी और डेनमार्क की यात्रा पर 2 से 4 मई तक यात्रा करेंगे।
– इस दौरान पेर‍िस में फ्रेंच प्रेसिडेंट इमैन्‍युएल मैक्रों से मुलाकात करेंगे।

फ्रांस
– राजधानी : पेरिस
– मुद्रा : यूरो
– आबादी : 6.75 करोड़

—————-
7. विश्व बौद्धिक संपदा दिवस कब मनाया जाता है?

a. 22 अप्रैल
b. 24 अप्रैल
c. 26 अप्रैल
d. 28 अप्रैल

Answer: c. 26 अप्रैल

2022 की थीम
– IP and Youth: Innovating for a better future
– बौद्धिक संपदा और युवा: बेहतर भविष्य के लिए नवाचार

विश्व बौद्धिक संपदा संगठन
– मुख्यालय: जिनेवा, स्विट्जरलैंड
– सीईओ: डैरन टैंग
– स्थापना: 14 जुलाई 1967

——————
8. इंटरनेशनल चेरनोबिल डिजास्टर रिमेंबरेंस डे कब मनाया जाता है?

a. 22 अप्रैल
b. 24 अप्रैल
c. 26 अप्रैल
d. 28 अप्रैल

Answer: c. 26 अप्रैल

– इस दिन 1986 में, चेरनोबिल परमाणु ऊर्जा संयंत्र के पावर प्‍लांट 4 में विस्फोट हो गया था।
– यह यूक्रेन के प्रेपियाद शहर में हुआ था।
– इस घटना की सूचना दुनिया के दूसरे देशों को नहीं दी गई थी।
– यह बेहद खतरनाक था।
– इससे बेलारूस, यूक्रेन और रूसी संघ के बड़े क्षेत्रों में रेडिएशन फैल गया था।
– चेरनोबिल यूक्रेन में मौजूद है।
– सोवियत संघ के विखंडन से पहले यह इसी संघ का हिस्‍सा था।
– इस परमाणु प्‍लांट को 1977 से 1983 के बीच बनाया गया था।
– घटना के कुछ दिन बाद करीब एक हजार किलोमीटर दूर स्‍वीडेन में रेडिएशन डिटेक्‍ट किया गया।
– तब पता चला कि इतना बड़ा हादसा हो गया था।
– संयुक्त राष्ट्र (UN) ने 26 अप्रैल, 2016 को इस दिन को घोषित किया था।

—————-
9. किस राज्‍य की प्रसिद्ध लेखिका बीनापाणी मोहंती का निधन 24 अप्रैल 2022 को हो गया?

a. बिहार
b. यूपी
c. एमपी
d. ओडिशा

Answer: d. ओडिशा

– 85 वर्ष की उम्र में
– उन्‍हें वर्ष 2020 में पद्मश्री पुरस्‍कार मिल चुका था।
– वर्ष 2019 में ओडिशा साहित्य अकादमी द्वारा सर्वोच्च साहित्यिक पुरस्कार मिल चुका है।

—————
10. कर्नाटक सरकार ने निमोनिया रोकने के लिए कौन सा सामाजिक जागरूकता अभियान शुरू किया?

a. SAANS
b. SASHAS
c. HAWAI
d. VIVEK

Answer: a. SAANS

– निमोनिया को सफलतापूर्वक रोकनेहेतु सामाजिक जागरूकता और कार्रवाई (SAANS)
– पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों में निमोनिया की शीघ्र पहचान और अधिक जागरूकता सुनिश्चित करने के लिए शुरू किया गया है।

कर्नाटक
– राजधानी: बेंगलुरु
– मुख्यमंत्री: बसवराज एस बोम्मई
– राज्यपाल: थावर चंद गहलोत