24 & 25 April 2022 Current Affairs

24 & 25 April 2022 Current Affairs

Spread the love

यह 24th & 25th April 2022 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. किस संविधान संशोधन की याद में 24 अप्रैल को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस मनाया जाता है?

a. 70वें
b. 71वें
c. 72वें
d. 73वें

Answer: d. 73वें

– दरअसल, 24 अप्रैल 1993 को प्रभावी हुए संविधान (73वां संशोधन) अधिनियम 1992 ने पंचायती राज संस्थाओं को संवैधानिक दर्जा दिया।
– इसी वजह से इस दिन को दिवस घोषित किया गया।
– पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 24 अप्रैल 2010 को पहला राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस घोषित किया था।
– यह दिन सत्ता के विकेंद्रीकरण के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

पंचायती राज मंत्री – गिर‍िराज सिंह

—————–
2. ISRO और IISc ने किस ग्रह के लिए अंतरिक्ष ईंट (Space Brics) बनाने की तकनीक विक‍िसित की?

a. बुध (Mercury)
b. शुक्र (Venus)
c. मंगल (Mars)
d. शनि (Saturn)

Answer: c. मंगल (Mars)

– इसरो और IISc ने ऐसा ब्रिक्‍स बनाया है, जो मार्स के स्‍वॉयल (मिट्टी) के ऊपर कंस्‍ट्रक्‍शन में मदद करेगा।
– इसे बैक्‍टीरिया और यूरिया और कुछ चीजों से बनाया गया है।

क्‍यों बनाई गई खास ईंट
– भविष्‍य में मंगल ग्रह पर रिसर्च स्‍टेशन बनाए जाने की योजना दुनियाभर की स्‍पेस एजेंसी बना रही है।
– इसके लिए वहां ऐसे स्‍ट्रक्‍चर बनाने होंगे, जो मंगल के वातावरण के खतरे से हमें प्रोटेक्‍ट कर सके।
– मंगल पर हवा का घनत्‍व बेहद कम है।
– मिट्टी में मिनिरल्‍स ज्‍यादा होने से यह मनुष्‍यों के लिए जहरीली है।
– इसलिए खास तरह की ईंट का निर्माण किया गया है।
– इसके निर्माण के लिए मंगल की मिट्टी, बैक्‍टीरिया और केमिल का इस्‍तेमाल किया गया है।
– सवाल है कि मंगल से अभी तक कोई भी उपकरण लौटकर नहीं आया, तो यह मिट्टी आई कहां से।
– इसके बारे में आगे बताते हैं –

पृथ्‍वी और मंगल के कुछ तथ्‍य
– सूर्य से पृथ्‍वी की दूरी : 93 मिलियन माइल्‍स (लगभग 15 करोड़ किलोमीटर)
– सूर्य से मंगल की दूरी : 142 मिलियन माइल्‍स (लगभग 23 करोड़ किलोमीटर)
– दिन-रात की अवधि (पृथ्‍वी) : 23 घंटे 56 मिनट
– दिन-रात की अवधि (मंगल) : 24 घंटे 37 मिनट

मंगल का वातावरण
– मंगल ग्रह पर करोड़ों साल पहले पानी हुआ करता था, पृथ्‍वी की तरह। लेकिन किसी परिस्थिति की वजह से पानी गायब हो गया या कहें तो अंतरिक्ष में बिखर गया।
– वहां अभी भी जमीन के नीचे और ध्रुवों पर पानी मौजूद है।
– मंगल ग्रह पर ऑक्‍सीजन भी मौजूद थी, लेकिन यह एटमॉस्‍फेरिक चेंज की वजह से अंतरिक्ष में चला गया। अभी बेहद सूक्ष्‍म मात्रा में ऑक्‍सीजन है।
– ऐसे में मानव बस्तियां बसाना आसान नहीं है। इस मुश्किल का हल निकालने के लिए वैज्ञानिक काम कर रहे हैं।
– इसी के तहत इसरो ने खास तरह की स्‍पेस ब्रिक्‍स बनाई हैं।

पृथ्‍वी और मंगल की मिट्टी में अंतर
– पृथ्‍वी : 50% एयर और वाटर, 5% ऑर्गेनिक मैटर, 45% मिनरल मैटर
– मंगल : 98% मिनरल मैटर और 2% वाटर है।
– मंगल की मिट्टी में ऐसे मिनरल हैं, जो मनुष्‍यों के लिए जहरीली हो सकती है।

मंगल की मिट्टी, बैक्‍टीरिया और केमिकल से बनी ईंट
– सवाल है कि मंगल से अभी तक कोई भी उपकरण लौटकर नहीं आया, तो यह मिट्टी आई कहां से।
– अमेरिका के हवाई इलाके में मंगल पर मौजूद मिट्टी की तरह की मिट्टी पाई गई है।
– इसके अलावा वैज्ञानिकों ने मंगल की तरह की मिट्टी लैब में तेयार की है। जैसे कि चांद की मिट्टी इसरो के वैज्ञानिकों ने कुछ साल पहले तैयार की थी।

नासा भी बना चुका है मंगल के लिए ईंट
– करीब 20 साल पहले अमरिकी स्‍पेस एजेंसी नासा ईंट बना चुका है।
– इसका नाम JSC MARS-1 रखा गया था।
– लेकिन यह इतना ज्‍यादा सक्‍सेसफुल नहीं हो पाया कि मार्स के क्‍लाइमेट पर काम कर सके।

इसरो की स्‍पेस ब्रिक्‍स
– इसरो ने जो स्‍पेस ब्रिक्‍स बनाई है, वह स्‍टील से भी ज्‍यादा हार्ड है।
– रिसर्चर्स ने इसमें ग्‍वार फली, बैक्‍टीरिया स्‍पैरासार्सिना (Sporosarcina), यूरिया और निकेल कार्बोनेट का यूज किया है।
– जब सारी चीजों को शेप बनाया तो कुछ दिन बाद देखा गया कि बैक्‍टीरिया ने यूरिया को खास तरह के कैल्शियम कार्बोनेट के छोटे-छोटे क्रिस्‍टल में कन्‍वर्ट कर दिया।
– जब हम इस कैल्शियम कार्बोनेट को काम पर लेंगे, तो बहुत स्‍ट्रॉंग सीमेंट के टाइप का कांक्रीट स्‍ट्रक्‍चर बन जाएगा।
– यहां समस्‍या थी कि स्‍वायल टॉक्सिक है, इसलिए बैक्‍टीरिया ग्रो नहीं कर रहा था। लेकिन जब इसमें निकेल क्‍लोराइड को शामिल किया तो बैक्‍टीरिया द्वारा स्रावित बायोपॉलिमर ने इसकी जगह ले ली।
– कोशिश की गई कि ब्रिक्‍स पोरस (महीन छिद्र) न हो।
– क्‍योंकि ज्‍यादातर दिक्‍कत यही हुई कि ईंट में पोरस (महीन छिद्र) होती है।
– इस समस्‍या का समाधान बैक्‍ट्रीरिया ने किया। वह ईंट के बहुत ही डीप कोर स्‍पेस में जाकर वहां स्‍पेस ऑक्‍यूपाई की, ताकि यह पोरस को खत्‍म कर सके।

– अब वैज्ञानिक यह देखेंगे कि मंगल के एटमॉस्‍फेयर को यह ईंट बर्दाश्‍त कर पाता है।
– कुछ डिवाइस भी बनाई जा सके कि बैक्‍टीरिया को डेवलप किया जा सके।

– टीम अब इस बात की जांच करने के लिए कमर कस रही है कि मंगल ग्रह का वातावरण कम गुरुत्वाकर्षण के साथ ‘अंतरिक्ष ईंटों’ को कैसे प्रभावित करता है।
– क्‍योंकि मंगल ग्रह का वातावरण पृथ्वी की तुलना में सौ गुना पतला है, और इसमें 95% से अधिक कार्बन डाइऑक्साइड है, जो बैक्टीरिया के विकास को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित कर सकता है।

लैब में मंगल की तरह का वातावरण
– लाल ग्रह पर स्थितियों को फिर से बनाने के लिए, शोधकर्ताओं ने एक उपकरण-MARS (मार्टियन एटमॉस्फियर सिम्युलेटर) का निर्माण किया है।

मंगल पर अब तक क्‍या हुआ है?
– भारत ऐसा पहला देश है, जिसने पहली बार में मंगल के ऑर्बिट तक मिशन पहुंचाया।
– मंगलयान मिशन 5 नवंबर 2013 को लॉन्‍च हुआ था और 24 सितंबर 2014 को मंगल के ऑर्बिट में प्रवेश किया।

मिट्टी लाने को नासा का 9 बिलियन डॉलर मिशन
– नासा अपने कई मिशन को मंगल पर उतार चुका है।
– नासा का पर्सविरंस रोवर सितंबर 2021 में मंगल के जेजेरो क्रेटर पर उतरा।
– यह रोवर मंगल ग्रह पर एंसिएंट लाइफ (प्राचीनकाल के जीवन) के सबूत खोजने के लिए भेजा गया है।
– नासा के इस मिशन में भारतीय मूल की स्‍वाती मोहन (नेविगेशन एंड कंट्रोल ऑपरेशंस लीड) भी काम कर रही हैं।

– इसमें एन्‍जेन्‍यूटी नामक एक हेलिकॉप्‍टर भी था, जिसने वहां उड़ान भी भरी।

– पर्सविरंस रोवर ने मंगल की मिट्टी के सैंपल लिए हैं, उसे पृथ्‍वी पर लाने की योजना है।

– वहां की मिट्टी पृथ्‍वी पर लाने के लिए नासा 9 बिलियन डॉलर (68 हजार करोड़ रुपए) खर्च कर रहा है।
– नासा ने मॉक्‍सी (MOXIE) नामक उपकरण भी पर्सविरंस रोवर के साथ भेजा है, जो वहां के वायुमंडल में मौजूद कार्बनडाई ऑक्‍साइड से ऑक्‍सीजन बनाता है।

इसरो चेयरमैन – एस सोमनाथ

——————
3. बोरिस जॉनसन ने गुजरात के किस जिले में JCB की छठी बुल्‍डोजर फैक्‍ट्री का उद्घाटन किया?

a. पंचमहल
b. भरूच
c. अमरेली
d. अहमदाबाद

Answer: a. पंचमहल

– ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन ने 21 अप्रैल 2022 को गुजरात के सीएम भूपेंद्र पटेल के साथ जेसीबी (JCB) की नई फैक्ट्री का उद्घाटन किया।
– यह फैक्‍ट्री गुजरात के पंचमहल जिले के हलोल नामक जग‍ह में स्थित है।
– जेसीबी की यह भारत में छठी फैक्ट्री है।
– इस फैक्ट्री का निर्माण लगभग 650 करोड़ रुपए की कीमत पर किया गया है।

जेसीबी (JCB) के बारे में
– जेसीबी एक ब्रिटिश कंपनी है।
– यह कंपनी बुलडोजर्स और कंन्सट्रक्शन उपकरणों का निर्माण करती है।
– जेसीबी इंडिया, यूके स्थित जेसी बैमफोर्ड एक्सकेवेटर्स की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है।

अडानी से मुलाकात
– बोरिस जॉनसन ने 21 अप्रैल 2022 को देश के उद्योगपति गौतम अडानी से भी मुलाकात की।
– इस दौरान दोनों में यूके की कंपनियों के साथ डिफेंस और एरोस्पेस टेक्नोलॉजिस के निर्माण पर भी बातचीत हुई।

—————-
4. बोरिस जॉनसन की भारत यात्रा के दौरान कितने समझौता ज्ञापनों (MoU) का आदान-प्रदान हुआ?

a. तीन
b. चार
c. पांच
d. छह

Answer: d. छह

– पीएम बोरिस जॉनसन ने 21-22 अप्रैल 2022 तक भारत की आधिकारिक यात्रा की।
– इस यात्रा के दौरान उन्होंने पीएम मोदी से मुलाकात की और गुजरात की भी यात्रा की।
– मोदी से मुलाकात के दौरान के कई मुद्दो पर बातचीत हुई।
– इसके अलावा भारत और ब्रिटेन के बीच छह अहम समझौता ज्ञापनों (MoU) का आदान-प्रदान भी हुआ।

आदान-प्रदान किए गए समझौता ज्ञापनों की सूची
G2G समझौता ज्ञापन (अंतर सरकारी)
(1) दोनों देशों के बीच ग्लोबल इनोवेशन पार्टनरशिप को लागू करने के लिए MoU साइन हुआ।
(2) ग्लोबल सेन्टर फॉर न्यूक्लियर एनर्जी पार्टनरशिप (GCNEP) के सहयोग के लिए MoU साइन हुआ।

गैर-सरकारी समझौता ज्ञापन
(3) बर्मिंघम सिटी यूनिवर्सिटी में शॉर्ट टर्म चेयर की स्थापना के लिए ICCR(इंडियन काउंसिल फॉर कल्चरल रिलेशंस) और बर्मिंघम सिटी यूनिवर्सिटी के बीच MoU साइन हुआ।
(4) ब्रिटिश हाई कमीशन और अडानी ग्रुप के बीच आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर छेवनिंग/अडानी छात्रवृत्ति पर MoU साइन हुआ है।
(5) न्यू स्पेस इंडिया लिमिटेड (NSIL) और वनवेब के बीच सेटेलाइट लॉन्‍च प्रोग्राम पर MoU साइन हुआ।
(6) भारत सरकार और ऑफशोर रिन्यूएबल एनर्जी कैटापुल्ट (OREC) के बीच ऑफशोर विंड एनर्जी के क्षेत्र में सहयोग के इरादे की संयुक्त घोषणा।

मोदी और जॉनसन ने किन मुद्दो पर बातचीत की?
– दोनों प्रधानमंत्रियों ने मई 2021 में वर्चुअल समिट में शुरू किए गए रोडमैप 2030 पर हुई प्रगति पर बातचीत की।
– वर्तमान में चल रही FTA (फॉरेन ट्रेड एग्रीमेंट) पर बातचीत को लेकर की विचार-विमर्श किया गया।
– इसके अलावा दोनों ने अक्टूबर 2022 के अंत तक एक व्यापक और संतुलित व्यापार समझौते पर हस्ताक्षर करने पर सहमति व्यक्त की।

डिफेंस और सिक्योरिटी की बेहतरी
– दोनों नेताओं ने डिफेंस और सिक्योरिटी कोपोरेशन (सहयोग) को भारत-यूके व्यापक रणनीतिक साझेदारी के एक प्रमुख तत्व के रूप में बदलने पर सहमति जताई।
– दोनों देशों के आर्म्ड फोर्सेस की जरूरतों को पूरा करने के लिए को-डेवलपमेंट और को-प्रोडक्शन सहित रक्षा सहयोग के अवसरों पर चर्चा की।
– दोनों पक्षों ने साइबर सिक्योरिटी के मुख्य क्षेत्र साइबर गर्वरनेंस, साइबर डेटरनेंस और नेशनल इंफ्रास्ट्रक्चर को बेहतर करने के लिए एक जाइंट स्टेटमेंट भी जारी किया।
– इसके अलावा आतंकवाद और कट्टरपंथी उग्रवाद के लगातार खतरे का मुकाबला करने के लिए सहमति जताई।
– रूस-यूक्रेन विवाद पर भी दोनों ने बातचीत की और गहरी चिंता व्यक्त की।

हिंद-प्रशांत महासागर की पहल में ब्रिटेन के शामिल होने पर भारत ने स्वागत किया
– दोनों प्रधानमंत्रियों ने हिंद-प्रशांत, अफगानिस्तान, UNSC, जी20 और राष्ट्रमंडल में सहयोग सहित पारस्परिक हित के क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर भी विचारों का आदान-प्रदान किया।
– भारत ने समुद्री सुरक्षा स्तंभ के तहत हिंद-प्रशांत महासागर की पहल में ब्रिटेन के शामिल होने का स्वागत किया और भारत-प्रशांत क्षेत्र में जुड़ाव बढ़ाने पर सहमति व्यक्त की।

मुख्य घोषणाएं
(1) स्ट्रेटजिक टेक डायलॉग
– 5जी, आर्टिफिशियल आदि जैसी नई और उभरती कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी पर मंत्रिस्तरीय स्तर की वार्ता।
(2) कॉलेर्बोरेशन ऑन इंटिग्रेटड इलेक्ट्रिक प्रोपलजन
– दोनों नौसेनाओं के बीच टेक्नोलॉजी का साथ में विकास

——————
5. विश्व मलेरिया दिवस कब मनाया जाता है?

a. 24 अप्रैल
b. 26 अप्रैल
c. 25 अप्रैल
d. 23 अप्रैल

Answer: c. 25 अप्रैल

– विश्व मलेरिया दिवस सबसे पहले 2008 में मनाया गया था।
– भारत ने वर्ष 2030 तक मलेरिया को खत्‍म करने का संकल्‍प किया हुआ है।
– मलेरिया मादा मच्छर एनोफिलीज के काटने से फैलता है।
– इन मच्छरों में प्लास्मोडियम पैरासाइट पाया जाता है जो ब्‍लड से होकर शरीर में फ़ैल जाता है।
– खासकर लीवर में पहुंचकर यह स्थायी हो जाता है। इसके बाद वह आरबीसी को संक्रमित करने लगता है।
– इससे लाल रक्त कोशिकाओं के अंदर के परजीवी कई गुना बढ़ जाते हैं, जिससे संक्रमित कोशिकाएं फट जाती हैं।
– पैरासाइट लाल रक्त कोशिकाओं को संक्रमित करना जारी रखते हैं, जिसके परिणामस्वरूप ऐसे लक्षण होते हैं जो एक समय में दो से तीन दिन तक रहते हैं। मलेरिया चार तरह के पैरासाइट से फैलता है।

—————–
6. किस राज्‍य के पूर्व मुख्यमंत्री जे डी रिंबई का निधन 21 अप्रैल 2022 को हो गया?

a. असम
b. मणिपुर
c. मेघालय
d. पश्चिम बंगाल

Answer: c. मेघालय

– वह 83 वर्ष के थे, उनके निधन के बाद तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया गया।
– रिंबाई ने 1982 में चुनावी राजनीति में प्रवेश किया था।
– भारतीय राष्‍ट्रीय कांग्रेस से विधायक और विधानसभा अध्‍यक्ष रहे।
– 15 जून 2006 को मेघालय के मुख्‍यमंत्री बने और 2007 तक सेवा की।

मेघालय की राजधानी- शिलोंग
मुख्यमंत्री – कॉनरॉड संगमा
राज्‍यपाल- सत्‍यपाल मलिक

—————–
7. विश्‍व पुस्‍तक और कॉपीराइट दिवस (World Book and Copyright Day) कब मनाया जाता है?

a. 23 अप्रैल
b. 24 अप्रैल
c. 25 अप्रैल
d. 26 अप्रैल

Answer: a. 23 अप्रैल

– वर्ल्ड बुक और कॉपीराइट डे को इंटरनेशनल डे ऑफ बुक के रूप में भी जाना जाता है।
– बुक डे को किताबें पढ़ने, लिखने, ट्रांसलेट, पब्लिशिंग और कॉपीराइट के महत्व को दर्शाने के लिए इस दिन को खास तौर पर मनाया जाता है।
– UNESCO ने विलियम शेक्सपीयर और मिगुएल सर्वेंटिस जैसे साहित्यकारों को रिस्पेक्ट देने के लिए 23 अप्रैल की तारीख को चुना था।

—————–
8. अंग्रेजी भाषा दिवस कब मनाया जाता है?

a. 24 अप्रैल
b. 23 अप्रैल
c. 22 अप्रैल
d. 21 अप्रैल

Answer: b. 23 अप्रैल

अंग्रेजी दिवस क्‍यों
– 23 अप्रैल को विश्‍व के महान अंग्रेजी लेखक विलियम शेक्सपियर की जन्म तिथि और पुण्यतिथि के रुप में ये दिवस मनाया जाता है।
– यह दिवस संयुक्‍त राष्‍ट्र ने घोषित किया हुआ है।

—————–
9. स्‍पेनिश भाषा दिवस कब मनाया जाता है?

a. 24 अप्रैल
b. 23 अप्रैल
c. 22 अप्रैल
d. 21 अप्रैल

Answer: b. 23 अप्रैल

स्‍पेनिश दिवस क्‍यों
– यह स्पेन में मिगुएल डे सर्वेंट्स सावेद्रा की मृत्यु की सालगिरह के साथ-साथ इंग्लैंड में विलियम शेक्सपियर के जन्म और मृत्यु की भी तारीख है ।
– अंग्रेजी और चीनी के बाद, स्पेनिश अब इंटरनेट पर तीसरी सबसे लोकप्रिय भाषा है।
– यह दिवस संयुक्‍त राष्‍ट्र ने घोषित किया हुआ है।

—————
10. भारत ने किस पड़ोसी देश को ईंधन खरीदने में मदद के लिए 500 मिलियन डॉलर की वित्‍तीय सहायता प्रदान की?

a. नेपाल
b. श्रीलंका
c. पाकिस्‍तान
d. बांग्‍लादेश

Answer: b. श्रीलंका

– यह दूसरा 500 मिलियन डॉलर का गैसोलीन क्रेडिट है जो भारत ने श्रीलंका की सरकार को दिया है।
– श्रीलंका वर्तमान में सबसे बड़े वित्तीय संकट से जूझ रहा है।
– भारत ने पहले से ही भोजन (चावल पहले ही भेजा जा चुका है), दवाइयाँ, और अन्य ज़रूरतों की खरीद में मदद करने के लिए कुल $2 बिलियन से अधिक की दो क्रेडिट लाइनें दी हैं।
– भारत ने आईएमएफ, या अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष से भी अनुरोध किया कि वह श्रीलंका को जल्द से जल्द वित्तीय सहायता प्रदान करे।