21 May 2022 Current Affairs

Spread the love

यह 21 May 2022 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. दुर्लभ बीमारी ‘मंकीपॉक्‍स’ का संक्रमण किन महादेशों (continent) में पाया गया?

a. अफ्रीका
b. उत्‍तरी अमेरिका
c. यूरोप
d. उपरोक्‍त सभी

Answer: d. उपरोक्‍त सभी

– मई 2022 के शुरुआत में इसका शुरुआती संक्रमण ब्रिटेन में पाया गया।
– यह संक्रमण अफ्रीकी देश नाइजीरिया से आए व्‍यक्ति के जरिए ब्रिटेन पहुंचा।
– इसके कुछ हफ्ते बाद मंकीपॉक्‍स का संक्रमण कई यूरोपीय देशों और उत्‍तरी अमेरिकी देशों में सामने आया।
– अब अमेरिकी और यूरोपीय देशों में बहस हो रही है कि क्‍या मंकीपॉक्‍स को महामारी घोषित किया जाए।

भारत ने तैयारी शुरू की
– भारत सरकार ने इंटरनेशनल एंट्री प्‍वाइंट्स (एयरपोर्ट और पोर्ट) पर मंकीपॉक्‍स को लेकर निगरानी बढा दी है।
– नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (NIV) को ऐसे मामलों के सैंपल की जांच के लिए तैयार रहने को कहा गया है।

—————–
2. WHO के अनुसार मंकीपॉक्‍स बीमारी का संक्रमण किस तरह के यौन संबंध रखने वाले पुरुषों में सबसे ज्‍यादा मिले?

a. समलैंगिक (Gay)
b. उभयलिंगी (Bisexual)
c. a और b
d. इनमें से कोई नहीं

Answer: c. a और b

– मंकीपॉक्स पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करने के दौरान WHO की असिस्टेंट डायरेक्टर जनरल डॉक्टर सोस फॉल ने “हम पुरुषों के साथ यौन संबंध रखने वाले पुरुषों में इंफेक्‍शन देख रहे हैं।”
– खासतौर पर यूनाइटेड किंगडम और कुछ अन्‍य देशों में इसके बहुत सारे मामले देखे गए हैं।
– यह एक नई जानकारी है।
– यह नई सूचना है और इंफेक्‍शन के इंवेस्टिगेशन में इसका ख्‍याल रखा जा रहा है।
– UK हेल्थ सिक्योरिटी एजेंसी (UKHSA) के अनुसार पहले इसे सेक्सुअल ट्रांसमिटेड डिजीज के तौर पर पहचाना नहीं गया था।
– यह संबंध बनाने के दौरान सीधे संपर्क में आने से हो सकती है।
– ब्रिटेन ने अपने नागरिकों से कहा है कि अगर किसी गे और बाइसेक्‍सुअल युवकों को फोड़े या मंकीपॉक्‍स के लक्षण दिखते हैं, तो तुरंत हेल्‍थ अथॉरिटी को कांटेक्‍ट करें।
– हालांकि डॉक्‍टर्स का कहना है कि मंकीपॉक्‍स इंफेक्‍शन गे संबंधों से हो रहा है, यह कहना जल्दबाजी होगी।

मंकीपॉक्स क्‍या है?
– मंकीपॉक्स एक दुर्लभ जूनोटिक (जानवरों से मनुष्यों में फैलने वाली) वायरल बीमारी है।
– यह बीमारी स्मालपॉक्स (चेचक) के समान वायरस वाली फैमिली में आती है।

मंकीपॉक्स नाम क्यों पड़ा?
– मंकीपॉक्स पहली बार 1958 में जानवरों में खोजा गया था।
– जब रिसर्च के लिए रखे गए बंदरों में इस बीमारी के दो प्रकोप हुए थे।
– इसीलिए इस बीमारी का नाम मंकीपॉक्स पड़ गया।

इंसानों में पहली बार यह बीमारी कब आई?
– वर्ष 1970 में।
– उस वक्‍त पहली बार इंसानों में मंकीपॉक्स अफ्रीकी देश ‘डेमोक्रैटिक रिपब्लिक ऑफ द कांगो (DRC)’ में पाया गया था।
– तब से मंकीपॉक्स के मामले वेस्टर्न और सेन्ट्रल अफ्रीका में पाए जा रहे है।
– DRC में तो मंकीपॉक्स को स्थानिक महामारी माना जाता है।

मंकीपॉक्स कैसे फैलता है?
– इसका ट्रांसमिशन जानवरों से मनुष्यों में होता है।
– यह संक्रमित जानवरों के रक्त, तरल पदार्थ, या त्वचा या घावों के सीधे संपर्क के माध्यम से हो सकता है।
– संक्रमित जानवर का अधपका मांस या एनिमल प्रोडक्ट को खाने से मंकीपॉक्स हो सकता है।

किन जानवरों से हो सकता है मंकीपॉक्स?
– अफ्रीका में कई जानवरों की प्रजातियों में मंकीपॉक्स के साक्ष्य पाए गए हैं।
– इनमें गिलहरी, गैम्बियन शिकार चूहे, डॉर्मिस और बंदरों की विभिन्न प्रजातियां शामिल हैं।

मंकीपॉक्स के लक्षण
– मंकीपॉक्स और स्मालपॉक्स (चेचक) में लक्षण काफी हद तक समान होते है।
– बस एक अंतर है कि मंकीपॉक्स में लिम्फ नोड्स (शरीर में गांठ जिसमें लिम्फ बहता है) फूल जाते है।
– इसके अलावा बुखार, सिरदर्द, मांसपेशियो में दर्द, पीठ में दर्द और थकान भी मुख्य लक्षण है।
– चेहरे पर दाने और फुंसी हो जाती और फिर पूरे शरीर पर फैल जाते है।

मंकीपॉक्स का इलाज
– मंकीपॉक्स के लिए वर्तमान में कोई विशिष्ट उपचार नहीं है।
– हालांकि, कई रिसर्च से पता चला है कि चेचक के खिलाफ इस्तेमाल की जाने वाली वैक्सीनिया वैक्सीन मंकीपॉक्स की रोकथाम में 85% असरदार रही है।
– जबकि मूल चेचक का टीका (वैक्सीनिया) अब बड़े पैमाने पर बीमारी के खत्म हो जाने के बाद से उपलब्ध नहीं है।
– वर्ष 2019 में मंकीपॉक्स की रोकथाम के लिए वैक्सीन के एक नए वर्जन को मंजूरी दी गई थी।

मंकीपॉक्स के पिछले वर्षों के मामले
– 2003 में, मंकीपॉक्स के पहले मानव मामले अफ्रीका के बाहर रिपोर्ट किए गए थे।
– जब अमेरिका में 47 केसों की पुष्टि हुई थी।
– वर्ष 2017 में नाइजीरिया में मंकीपॉक्स के 170 से अधिक संदिग्ध मामले पाए गये थे।
– वर्ष 2018 में ब्रिटेन में भी मंकीपॉक्स के तीन केसेज पाए गए थे।
– वर्ष 2019 में इजरायल और सिंगापुर में भी मंकीपॉक्स का एक केस पाया गया था।
– वर्ष 2021 में अमेरिका में भी मंकीपॉक्स के दो केस पाए गए थे।

नोट: 2018 से 2021 के मामले नाइजीरिया से यात्रा करने वाले लोगों मे ही पाए गए है।

—————-
3. IBA वुमेन्स वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप 2022 में किस भारतीय महिला बॉक्सर ने गोल्ड मेडल जीता?

a. पूजा रानी
b. जीत तोशी
c. निकहत जरीन
d. सिमरनजीत कौर

Answer: c. निकहत जरीन

– उन्‍होंने 19 मई 2022 को फ्लाईवेट वुमेन कैटेगरी में इस चैम्पियनशिप में गोल्ड जीता।
– उन्होंने थाईलैंड की बॉक्सर जुतामास जितपोंग को 5-0 से हराया।
– यह चैंपियनशिप इस्तांबुल में आयोजित हुआ।

चैंपियनशिप जीतने वाली पांचवीं भारतीय महिला
– निकहत जरीन, वुमेंस वर्ल्‍ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप जीतने वाली पांचवीं भारतीय खिलाड़ी हैं।
– इससे पहले एम.सी. मैरी कॉम, सरिता देवी, आरएल जेनी और के.सी. लेख यह खिताब जीत चुकी हैं।

चैंपियनशिप में इन्होंने ने जीते ब्रॉन्ज मेडल
– IBA वुमेन्स वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप 2022 में ब्रॉन्ज जीतने वाली महिला बॉक्सर

– बॉक्सर-कैटगरी-मेडल
– मनीषा मौन- फीदरवेट वुमेन- ब्रॉन्ज
– परवीन हूड्डा- लाइट वेल्टरवेट वुमेन-ब्रॉन्ज

—————-
4. चीन, लद्दाख में किस झील पर दूसरा ब्रिज बना रहा है, जिस पर भारत ने कहा कि यह निर्माण चीनी कब्‍जे वाले इलाके में है?

a. त्सो मोरीरी झील
b. त्सो कर झील
c. क्यागर त्सो झील
d. पैंगोंग त्‍सो झील

Answer: d. पैंगोंग त्‍सो झील

– पैंगोंग त्सो 135 किलोमीटर लंबी landlocked झील है।
– इसकी ऊंचाई समुद्र तल से 14,000 feet है।
– एक तिहाई हिस्‍से पर भारत का और बाकी हिस्‍से पर चीन का कब्‍जा है।
– लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (LAC) इससे होकर जाता है।

चीन ने पहले बनाया छोटा पुल अब बड़ा पुल
– चीनी सेना (PLA) ने इस पैंगोंग त्‍सो झील पर पहले छोटा ब्रिज बनाया। इसका काम अप्रैल 2022 में खत्‍म हुआ।
– चीन ने इस ब्रिज का निर्माण नॉर्थ और साउथ पर तटों को जोड़ने लिए किया।
– अब चीन इसी के बराबर (पैरेलल) में एक बड़ा ब्रिज बना रहा है।
– छोटे ब्रिज से कंस्‍ट्रक्‍शन मैटेरियल और इक्‍यूपमेंट को दूसरी ओर भेजा जा रहा है।
– मतलब कि छोटा ब्रिज बनाने का मकसद, बड़े ब्रिज बनाने के लिए उपयोग करना था।
– इसकी दूरी लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) से 20 किमी से अधिक है। यह चीनी कब्‍जे का इलाका है।
– चीन यह ब्रिज खुर्नाक इलाके में बना रहा है।

यह ब्रिज चीन की क्या मदद करेगा?
– माना जा रहा है कि ब्रिज का मुख्य उद्देश्य हैं झील के पास पीएलए सैनिकों को जल्द से जल्द mobilise किया जाए।
– चीनी सैनिक को चुशुल (भारतीय इलाके) जाने के लिए उन्हें उत्तरी तट पर कठिन भूभाग पर जाना पड़ता था और दक्षिणी तट पर और भी कठिन भूभाग पर वापस जाना पड़ता था।
– अभी उसे यहां तक पहुंचने में 180 किलोमीटर का फासला तय करना पड़ता है।
– ब्रिज बन जाने के बाद यह दूरी 40 से 50 किलोमीटर रह जाएगी।
– यानी जिस सफर में चीनी सेना को अभी करीब 8 घंटे लगते हैं, उस दूरी को वो 2 घंटे में ही पूरा कर लेगी।

भारतीय सेना को रोकना मकसद
– ‘द प्रिंट’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, चीनी सेना ने यह कदम अगस्त 2020 में भारतीय सेना के ऑपरेशन से मिले झटके के बाद उठाया है।
– तब भारतीय सेना ने चीनी सेना यानी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) को पछाड़ते हुए पैंगोंग त्सो लेक के दक्षिणी हिस्से में मौजूद तमाम पहाड़ी चोटियों पर कब्जा कर लिया था।
– इसी इलाके में चीन कुछ नई सड़कें भी बना रहा है। इसका फायदा उसे सैनिकों और हथियारों की तैनाती में होगा।
– अगस्त 2020 में चीनी सेना को यहां तक पहुंचने में एक से दो दिन लगे थे।
– चीन ने पिछली गलती से सबक सीखा है और अब वे तैयारी दुरुस्त कर रहे हैं।

LAC के पास बन रहा नया पुल
– ब्रिज उत्तरी तट पर फिंगर 8 से लगभग 20 किमी पूर्व (east) में पड़ता है।
– सड़क वाले रास्ते से यह 35 किमी पड़ता है।
– भारत का मानना है कि Line of Actual Control (LAC) फिंगर 8 पर स्थित है।
– ब्रिज की जगह भारत की दावा रेखा (claim line) के भीतर है, हालांकि यह क्षेत्र 1958 से चीनी नियंत्रण में है।
– यह साइट खुर्नक किले नामक एक पुराने खंडहर के पूर्व (east) में है।

यह जगह इतनी महत्वपूर्ण क्यों हैं?
– दरअसल, पैंगोंग त्‍सो लेक में एक खास जगह पर पहाडि़यां फिंगर की तरह विभाजित होती हैं।
– इसके पास उत्तरी तट पर दोनों सेनाओं के बीच संघर्ष होता रहा है।
– फिंगर 4 भारत और चीन के पिछले गतिरोध में पहले संघर्ष क्षेत्रों में से एक था।
– मई 2020 में यही झील के तट सबसे संवेदनशील संघर्ष वाला स्थान था।
– फरवरी 2021 तक सेना और टैंक कुछ स्थानों पर सौ मीटर की दूरी पर एक-दूसरे का सामना भी कर चुके हैं।
– अगस्त 2020 में, भारत ने दक्षिण तट पर कैलाश रेंज की unoccupied जगहों पर चीन की कब्जा करने की कोशिशों को नाकाम कर दिया था।
– जब भारत ने इस ऑपरेशन को अंजाम दिया, तब चीनी सैनिक जल्दी से mobilise होना चाहते थे।
– लेकिन वह ऐसा करने में नाकामयाब रहे।
– चुशुल जाने के लिए उन्हें उत्तरी तट के दुर्गम इलाकों में घूमना पड़ा और दक्षिणी तट पर और भी कठिन इलाकों में वापस जाना पड़ा था।

भारत का इसपर क्या रुख?
– भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता अरिंदम बागची ने कहा, “हमने पुल से जुड़ी खबरें देखी हैं।
– यह सेना से जुड़ा मुद्दा है… हम इसे (चीन के) कब्जे वाला क्षेत्र मानते हैं… हमें दशकों से उसके वापस मिलने की आशा है।
– रक्षा मंत्रालय इस संबंध में विस्तार से टिप्पणी कर सकेगा।”
– विदेश मंत्रालय ने कहा है कि जिस स्थान पर निर्माण कार्य किया जा रहा है, वह क्षेत्र दशकों से उस देश (चीन) के कब्जे में है और भारत ऐसे घटनाक्रम पर नज़र रखता है।
– बागची ने कहा कि अभी यह भी स्पष्ट नहीं है कि क्षेत्र में दूसरे पुल का निर्माण किया जा रहा है या फिर पहले पुल में ही विस्तार किया जा रहा है।

एस जयशंकर ने ब्रिक्‍स मीटिंग में खरीखोटी सुनाई
– ब्रिक्‍स विदेश मंत्रियों की वर्चुअल बैठक में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा – ‘ब्रिक्स ने बार-बार संप्रभुता, क्षेत्रीय अखंडता, अंतरराष्ट्रीय कानून का सम्मान किया है। हमें उन प्रतिबद्धताओं पर खरा उतरना चाहिए।’
– विदेश मंत्री की यह टिप्पणी ऐसे समय में काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है जब एक तरफ पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच सीमा विवाद लंबा खिंच रहा है उधर, यूक्रेन के खिलाफ रूस का आक्रमण जारी है।
– जयशंकर ने कहा, ‘ब्रिक्स को आतंकवाद, विशेषकर सीमापार आतंकवाद को लेकर बिल्कुल भी बर्दाश्त न करने वाला रुख दिखाना चाहिए।’
– खास बात यह है कि इस बैठक में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भी शामिल हुए।

लद्दाख
राजधानी – लेह
उपराज्‍यपाल – RK माथुर

————–
5. जीएसटी पर बने मंत्री समूह ने कैसीनो, रेस कोर्स सहित ऑनलाइन गेमिंग पर GST बढ़ाकर कितना करने की सिफारिश की?

a. 12%
b. 28%
c. 36%
d. 42%

Answer: b. 28%

– ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने यह फैसला 18 मई 2022 को लिया।
– सरकार ने वर्ष 2021 में इस पैनल का गठन किया था।
– यह रिपोर्ट अब वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को सौंपी जायेगी।
– वर्तमान में, कैसीनो, रेस कोर्स और ऑनलाइन गेमिंग की सेवाओं पर 18% GST लगता है।
– अब मंत्री समूह की सिफारिश को जीएसटी काउंसिल में रखा जाएगा।

—————-
6. किस राज्‍य सरकार ने ‘लोक मिलनी’ योजना शुरू की?

a. बिहार
b. पंजाब
c. हरियाणा
d. राजस्‍थान

Answer: b. पंजाब

– यह एक जनसंपर्क कार्यक्रम है।
– इसके जरिए लोगों की शिकायतों को सरकार सुनती है।

पंजाब
– राजधानी: चंडीगढ़
– राज्यपाल: बनवारीलाल पुरोहित
– मुख्यमंत्री: भगवंत मान

——————
7. एयरलाइंस कंपनी इंटरग्लोब एविएशन लिमिटेड (इंडिगो) ने नया CEO किसे नियुक्‍त किया?

a. पीटर एल्बर्स
b. रोनोजॉय दत्ता
c. राहुल भाटिया
d. कैंपवेल विल्‍सन

Answer: a. पीटर एल्बर्स

– वह एक अक्‍टूबर 2022 से इस पद को ज्‍वाइन करेंगे।
– वह रोनोजॉय दत्‍ता की जगह लेंगे।
– वह नीदरलैंड के नागरिक हैं।
– एयर फ्रांस-KLM समूह के प्रेसिडेंट और CEO रह चुके हैं।

– इससे पहले एयर इंडिया ने भी अपना नया सीईओ चुना था।
– न्‍यूजीलैंड के नागरिक कैंपवेल विल्‍सन के हाथों में एयर इंडिया की कमान मिल रही है।

—————–
8. वर्ल्‍ड बैंक ने किस राज्‍य के ‘श्रेष्ठ-जी परियोजना’ के लिए 350 मिलियन डॉलर लोन की मंजूरी दी?

a. उत्‍तर प्रदेश
b. मध्‍य प्रदेश
c. गुजरात
d. महाराष्‍ट्र

Answer: c. गुजरात

– SRESTHA-G : सिस्टम रिफॉर्म एंडेवर्स फॉर ट्रांसफॉर्मेड हेल्थ अचीवमेंट इन गुजरात
– SRESTHA-G परियोजना की लागत 500 मिलियन अमरीकी डॉलर है। इसमें विश्व बैंक 350 मिलियन अमरीकी डॉलर का योगदान देगा।
– इस परियोजना में गुजरात के हेल्‍थ और मेडिकल सिस्‍टम में बदलाव लाने का प्‍लान है।

गुजरात
सीएम – भूपेंद्र पटेल
गवर्नर – आचार्य देवव्रत
राजधानी – गांधीनगर

विश्व बैंक
मुख्यालय: वाशिंगटन डी.सी., यूएसए
स्‍थापना : जुलाई 1944
अध्यक्ष: डेविड मालपास

—————–
9. विश्व मधुमक्खी दिवस (World Bee Day) कब मनाया जाता है?

a. 17 मई
b. 18 मई
c. 19 मई
d. 20 मई

Answer: d. 20 मई

2022 का विषय
– ‘Be Engaged: Celebrating the Diversity of Bees and Beekeeping Systems’
– ‘बी एंगेज्ड: सेलिब्रेटिंग द डायवर्सिटी ऑफ बीज़ एंड बीकीपिंग सिस्टम्स’

– यह दिन एंटोन जानसा के जन्म (1734) की याद में मनाया जाता है। उन्हें मधुमक्खी पालन में अग्रणी माना जाता है।

——————
10. होमोफोबिया, ट्रांसफोबिया और बिफोबिया के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस कब मनाया जाता है?

a. 17 मई
b. 18 मई
c. 19 मई
d. 20 मई

Answer: a. 17 मई

– एलजीबीटी अधिकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाने और दुनिया भर में एलजीबीटी अधिकारों के काम में रुचि को प्रेरित करने के लिए अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रमों के समन्वय के लक्ष्य के साथ मनाया जाता है।