5 & 6 June 2022 Current Affairs

Spread the love

यह 5 & 6 June 2022 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. पैगंबर मोहम्‍मद और इस्‍लाम पर बीजेपी प्रवक्‍ता के आपत्तिजनक बयान के मामले में किन देशों ने भारतीय राजदूतों को बुलाकर सार्वजनिक माफी की मांग की?

a. कतर
b. कुवैत
c. ईराक
d. a और b

Answer: d. a और b

– इस मामले ने भारतीय छवि को अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर पर नुकसान पहुंचाया।
– कतर और कुवैत ने 5 जून 2022 को भारतीय राजदूतों से सार्वजनिक माफी की मांग की है।
– ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी खाड़ी देश ने ऐसा कदम उठाया।
– यह ऐसे समय में हुआ है, जब उपराष्‍ट्रपति एम वेंकैया नायडु कतर के दौरे पर हैं।
– कतर और कुवैत के कदम उठाने के बाद कई और खाड़ी देशों ने अनौपचारिक रूप से इस मामले में भारतीय राजनयिकों से चिंता जताई।
– इसके बाद भाजपा ने अपने प्रवक्‍ता नुपुर शर्मा को निलंबित कर दिया और दिल्ली प्रदेश प्रवक्ता नवीन जिंदल को पार्टी से बाहर कर दिया।
– भाजपा से सस्पेंड होने के बाद नुपूर शर्मा ने अपना बयान वापस ले लिया है।
– बीजेपी ने बयान जारी कर कहा कि सर्वधर्म संभाव की विचारधारा पार्टी है।

कैसे फैला मामला
– दरअसल, नुपूर शर्मा ने एक टीवी डिबेट के दौरान इस्‍लाम और पैगंबर मोहम्‍मद पर टिप्‍पणी की थी।
– इसके बाद कुछ ऐसी ही बात नवीन जिंदल ने भी कही, जो आपत्तिजनक थी।
– इसके कुछ दिन बाद 5 जून 2022 को कतर के मुफ्ती ने यह मामला सोशल मीडिया पर उठाया।
– इसके बाद ट्व‍िटर पर यह विवाद ट्रेंड करने लगा।
– यहां तक कि भारतीय सामानों के बहिष्‍कार करने तक की बातें सोशल मीडिया पर होने लगी।
– तब कतर के विदेश मंत्रालय ने भारतीय राजदूत को तलब किया और सार्वजनिक माफी की मांग की।
– कतर के सहायक विदेश मंत्री ने कहा – अगर आधिकारिक और व्‍यवस्थित तरीके से इससे नहीं निपटा गया तो भारत में इस्‍लाम के खिलाफ संगठित तरीके से फैलाई जा रही नफरत को दुनिया के दो अरब आबादी का जानबूझकर किया जा रहा अपमान माना जाएगा।
– कई खाड़ी देशों ने भी विरोध जताया।
– दूसरी तरफ भारत की तरफ से बयान जारी कर कहा गया कि राजदूत ने मुलाकात की। पैगैंबर मोहम्‍मद पर बयान भारत सरकार का रुख नहीं दर्शाता है।
– भारतीय दूतावास ने बयान जारी किया और कहा – “हमारी सांस्कृतिक विरासत और अनेकता में एकता की मजबूत परंपराओं के अनुरूप भारत सरकार सभी धर्मों को अपना सर्वोच्च सम्मान देती है. अपमानजनक टिप्पणी करने वालों के ख़िलाफ़ पहले ही कड़ी कार्रवाई की जा चुकी है.”
– भारतीय राजदूत ने ये बताया कि ये ट्वीट किसी भी तरह से भारत सरकार के विचारों को नहीं दर्शाते. ये fringe elements (कम महत्‍व के तत्व) के विचार है।

– अब भारत की चर्चा दुनिया में धार्मिक असहिष्‍णुता (Intolerance) को लेकर हो रही है।

—————-
2. आर्मी ट्रेनिंग कमांड ने देश का पहला ‘वॉरगेम रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेन्टर’ (WARDEC) किस जगह स्‍थापित करने का फैसला किया?

a. गांधीनगर
b. मुंबई
c. दिल्‍ली
d. लखनऊ

Answer: c. दिल्‍ली

– WARDEC को मिलिट्री जोन, नई दिल्ली में स्थापित किया जायेगा।
– इस सेंटर पर सैनिक, मेटावर्स (वर्चुअल रियलिटी से जुड़ा एक 3D मॉडल) में अपनी ट्रेनिंग का परीक्षण करेंगे।
– यहां वर्चुअल रियलिटी का माहौल होगा।

————–
3. आर्मी ट्रेनिंग कमांड ने देश के पहले ‘वॉरगेम रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेन्टर’ (WARDEC) स्‍थापित करने के लिए किस यूनिवर्सिटी के साथ MoU साइन किया?

a. जेएनयू
b. राष्‍ट्रीय रक्षा यूनिवर्सिटी
c. आईआईटी मुंबई
d. बीएचयू

Answer: b. राष्‍ट्रीय रक्षा यूनिवर्सिटी (गांधीनगर स्थित)

– WARDEC भारत में पहला सिमुलेशन-आधारित प्रशिक्षण केंद्र होगा।
– यह सेन्टर वर्चुअल रियलिटी वॉरगेम्स को डिजाइन करने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग करेगा।
– WARDEC को मिलिट्री जोन, नई दिल्ली में स्थापित किया जायेगा।

WARDEC से आर्मी को ट्रेनिंग दी जायेगी?
– WARDEC का इस्तेमाल सेना द्वारा अपने सैनिकों को प्रशिक्षित करने के लिए किया जायेगा।
– इसके अलावा वर्चुअल रियलिटी वॉरगेम्स के माध्यम से उनकी रणनीतियों का परीक्षण करने के लिए किया जाएगा।
– वॉरगेम मॉडल्स गेम को युद्धों के साथ-साथ आतंकवाद और आतंकवाद विरोधी अभियानों के लिए तैयार करने के लिए डिज़ाइन किया जाएगा।

WARDEC का गेम कैसा होगा?
– सैनिक मेटावर्स (वर्चुअल रियलिटी से जुड़ा एक 3D मॉडल) में अपने कौशल का परीक्षण करेंगे जहां वर्चुअल रियलिटी का माहौल होगा।
– मेटावर्स में खिलाड़ी को परिस्थिति का रियल अनुभव मिलेगा।
– उन्हें युद्ध में हो रही चीजों का आभासी एहसास होगा।
– यह वर्चुअल वॉर सैनिक से सैनिक, सैनिक से कम्‍प्‍यूटर और कंप्‍यूटर से कंप्‍यूटर के बीच होगा।

किन देशों के पास WARDEC जैसा सिस्टम?
– अमेरिका, इजरायल और यूनाइटेड किंगडम के पास इस तरह का वॉरगेम सिस्टम है।

—————
4. विश्व पर्यावरण दिवस (World Environment Day) कब मनाया जाता है?

a. 4 जून
b. 5 जून
c. 6 जून
d. 7 जून

Answer: b. 5 जून

– वर्ष 2022 की थीम : Only One Earth
– संयुक्त राष्ट्र संघ की ओर से वैश्विक स्तर पर पर्यावरण प्रदूषण की समस्या और चिंता की वजह से विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की नींव साल 1972 में रखी गई थी।

—————-
5. केंद्र सरकार ने ‘राष्ट्रीय जैव-ईंधन नीति 2018’ में संशोधन करके पेट्रोल में इथेनॉल के मिश्रण को बढ़ाकर 20% करने का लक्ष्‍य किस वर्ष तय किया?

a. वर्ष 2030
b. वर्ष 2028
c. वर्ष 2026
d. वर्ष 2025

Answer: d. वर्ष 2025

– केंद्रीय कैबिनेट ने मई 2022 में इस नीति में बदलाव किया।
– इसके तहत पेट्रोल में 20 प्रतिशत इथेनॉल मिश्रण का लक्ष्‍य वर्ष 2030 से घटाकर 2025 कर दिया गया है।

नीति के बारे में
– राष्ट्रीय जैव-ईंधन नीति 2018 (National Policy on Biofuels) को वर्ष 2018 में लागू किया था।
– इसके तहत वर्तमान में पेट्रोल में 10 प्रतिशत तक इथेनॉल के मिश्रण (blending) का लक्ष्‍य भारत ने प्राप्‍त कर लिया है।
– एक तो इससे करीब 27 लाख टन कार्बन एमिशन कम हुआ है। भारत को 41 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की विदेशी मुद्रा की बचत हुई है।
– जबकि वर्ष 2030 तक इस मिश्रण को बढ़ाकर 20 प्रतिशत करने का लक्ष्‍य था।
– लेकिन केंद्र सरकार ने इस लक्ष्‍य को घटाकर वर्ष 2025 कर दिया है।

इथेनॉल क्या है?
– यह बायोफ्यूल (जैव-ईंधन) है। इसे मुख्‍य रूप से गन्‍ना और अनाज से तैयार किया जाता है।
– यह ऑर्गेनिक कंपाउंड (कार्बनिक यौगिक) इथाइल एल्‍कोहल है, जो बायोमास से उत्‍पन्‍न होता है।
– इसमें गैसोलीन की तुलना में अधिक ऑक्टेन संख्या होती है, इसलिए पेट्रोल ऑक्टेन संख्या में सुधार होता है।
– एथेनॉल में पानी की मात्रा नगण्य होती है।

पेट्रोल में इथेनॉल के मिश्रण से क्‍या फायदा?
– भारत अपनी जरूरत का 85 प्रतिशत पेट्रोलियम तेल आयात करता है।
– यह भारत के आयात बिल को लगातार बढ़ा रहा है।
– जबकि इथेनॉल का उत्‍पादन स्‍वदेशी तौर पर होता है।
– एक लीटर इथेनॉल के उत्‍पादन में करीब 61 रुपए का खर्च आता है। यह सस्‍ता है।
– इथेनॉल के पेट्रोल में ब्‍लेंडिंग से तेल आयात को कम करने में मदद मिलेगी।
– 10 प्रतिशत ब्‍लेंडिंग का लक्ष्‍य पाने से देश के किसानों को एथेनॉल ब्लेंडिंग बढ़ने की वजह से 8 सालों में 40 हजार 600 करोड़ रुपए की आय हुई है।
– पेट्रोल में एथेनॉल मिलाने से पेट्रोल के उपयोग से होने वाले प्रदूषण को कम करने में मदद मिलेगी।
– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2047 तक भारत के “ऊर्जा के मामले में स्वतंत्र” होने का लक्ष्‍य तय किया है।
– यह लक्ष्‍य प्राप्‍त करने में नेशनल बायोफ्यूल पॉलिसी मददगार होगी।

————–
6. संगीतकार पंडित भजन सोपोरी का निधन 02 जून 2022 को हो गया, वह किस वाद्य यंत्र को लेकर मशहूर थे?

a. वीणा
b. तबला
c. सारंगी
d. संतूर

Answer: d. संतूर

– वह 73 वर्ष के थे। कोलन कैंसर से जूझ रहे थे।
– पंडित भजन सोपोरी का जन्म 1948 में हुआ था।
– वह कश्मीर की सोपोर घाटी से थे।
– वह भारतीय शास्त्रीय संगीत के सूफियाना घराने से संबंधित थे।
– उन्हें ‘संतूर का संत’ कहा जाता है।
– उनके पास भारतीय शास्त्रीय संगीत में डबल मास्टर्स डिग्री है।
– उन्होंने हिंदी, कश्मीरी, डोगरी, सिंधी, उर्दू, संस्कृत, भोजपुरी, पंजाबी, हिमाचली, राजस्थानी, तेलुगु, तमिल, आदि जैसी विभिन्न भाषाओं में 6,000 से अधिक गीतों के लिए संगीत तैयार किया है।
– इसके साथ ही फारसी, अरबी आदि विदेशी भाषाओं में भी संगीत तैयार किया है।

पुरस्कार
– वर्ष 1992: संगीत नाटक अकादमी अवॉर्ड
– वर्ष 2004: पद्मश्री
– वर्ष 2009: बाबा अलाउद्दीन खान अवॉर्ड
– वर्ष 2011: एम एन माथुर अवॉर्ड
– वर्ष 2011: जम्मू एंड कश्मीर स्टे्ट लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड

—————-
7. RBI ने केन्द्र सरकार को वित्त वर्ष 2021-22 के लिए सरप्लस (डिविडेंड) के तौर पर कितनी रकम देने की घोषणा की?

a. 30,307 करोड़ रुपए
b. 38,789 करोड़ रुपए
c. 40,675 करोड़ रुपए
d. 45,764 करोड़ रुपए

Answer: a. 30,307 करोड़ रुपए

– मई 2022 में RBI के बोर्ड मीटिंग में यह फैसला हुआ।
– इसके तहत RBI केंद्र सरकार को 30,307 करोड़ रुपए देगा।
– RBI ने कन्टिन्जेन्सी रिस्क (आकस्मिक जोखिम) बफर को 5.50% पर रखने का फैसला किया गया।
– कई प्रकार के इकोनॉमिक रिस्क कवर करने को कन्टिन्जेन्सी रिस्क बफर कहते है।

क्या होती सरप्लस अमाउंट
– दरअसल, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को अपनी इनकम में कोई टैक्स नहीं देना पड़ता है।
– वो अपनी जरूरतें पूरी करने, जरूरी प्रावधान और इन्वेस्टमेंट के बाद जो पैसा बचता है, उसे ही सरप्लस कहा जाता है।
– रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को इस सरप्लस को सरकार को देना होता है।
– RBI के इनकम का सबसे बड़ा जरिया बॉन्ड में मिलने वाली ब्याज और बैंकों को दिए जाने वाले लोन (रिवर्स रेपो रेट व अन्‍य) की ब्‍याज होती है।

– RBI गवर्नर: शक्तिकांत दास

————–
8. कृष्णकुमार कुन्नथ (केके) का निधन 31 मई 2022 को हो गया, वह इनमें से क्या थे?

a. गायक
b. राजनेता
c. अभिनेता
d. खिलाड़ी

Answer: a. गायक

– केके मशूहर सिंगर थे।
– उन्होंने हिंदी, तमिल, तेलूगु, कन्नड़, मलयालम, मराठी, ओडिया, बंगाली, असामी और गुजरात भाषाओं में गाने गाए थे।
– उनका निधन 31 मई 2022 को कोलकाता में एक शो में परफॉर्म करने के दौरान हुआ।
– उनका जन्‍म 23 अगस्‍त 1968 को दिल्‍ली में हुआ था।

– एक पार्श्व गायक के रूप में, उन्होंने ‘आंखों में तेरी’ (ओम शांति ओम), ‘ज़रा सा’ (जन्नत), ‘खुदा जाने’ (बचना ऐ हसीनो) और ‘तड़प तड़प’ (हम दिल दे चुके सनम) जैसे बॉलीवुड गाने रिकॉर्ड किए थे।

——————
9. नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे (NFHS-5) की रिपोर्ट के अनुसार भारत में सकल प्रजनन दर (TFR – टोटल फर्टिलिटी रेट) कितना है?

a. 2.0
b. 2.1
c. 2.4
d. 3.2

Answer: a. 2.0

– स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने 05 मई 2022 को NFHS-5 की रिपोर्ट जारी की।
– इस रिपोर्ट के अनुसार भारत का नेशनल लेवल पर सकल प्रजनन दर 2.0 है।
– यह रिपोर्ट वर्ष 2019-2021 पर आधारित है।
– पहला NFHS-1 वर्ष 1992-93 में तैयार किया गया था।

किसने किया सर्वे
– सभी ‘राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण’, भारत सरकार के ‘स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय’ नेतृत्व में किए जाते हैं।
– मुंबई स्थित ‘अंतर्राष्ट्रीय जनसंख्या विज्ञान संस्थान’ (International Institute for Population Sciences- IIPS) नोडल एजेंसी के रूप में कार्य करता है।

सकल प्रजनन दर (टोटल फर्टिलिटी रेट) [TFR] क्या है?
– TFR का मतलब प्रति महिला बच्चों की औसत संख्या।
– साधारण भाषा में समझे तो कोई महिला अपने जीवनकाल में जितनी संतानों को जन्म देती है, उसे TFR कहते है।

प्रतिस्थापन स्तर (रिप्लेसमेंट लेवल ऑफ फर्टिलिटी) क्या है?
– किसी विकसित देश की मौजूदा आबादी को बनाए रखने के लिए TFR 2.1 होना चाहिए, इसे ही प्रतिस्थापन स्तर कहते है।
– इस आंकड़े तक पहुंचने का मतलब होता है कि अगले तीन से चार दशक में देश की आबादी स्थिर हो जाएगी।
नोट: इसबार का TFR, 2.1 के ‘रिप्लेसमेंट लेवल फर्टिलिटी’ स्तर से कम रहा।

नेशनल लेवल पर TFR पिछले वर्षों की तुलना में कितना गिरा?
– वर्ष NFHS-1 (1992-93) : 3.4
– वर्ष NFHS-2 (1998-99) : 2.9
– वर्ष NFHS-3 (2005-06) : 2.7
– वर्ष NFHS-4 (2015-16) : 2.2
– वर्ष NFHS-5 (2019-21) : 2.0

TFR ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में कितना कम हुआ?

ग्रामीण क्षेत्र (रुरल एरिया) में TFR
– वर्ष NFHS-1 (1992-93) : 3.7 रहा।
– वर्ष NFHS-5 (2019-21) : 2.1 हो गया।

शहरी क्षेत्र (अर्बन एरिया) में TFR
– वर्ष NFHS-1 (1992-93) : 2.7
– वर्ष NFHS-5 (2019-21) : 1.6

5 राज्यों में प्रजनन दर राष्‍ट्रीय औसत से अधिक
– बिहार (2.98)
– मेघालय (2.91)
– उत्तर प्रदेश (2.35)
– झारखंड (2.26)
– मणिपुर (2.17)

प्रजनन दर घटने का कारण?
– देश के 67 प्रतिशत लोगों के पास गर्भनिरोधक साधन पंहुचना।
– सामाजिक और आर्थिक कारण
– कामकाजी दंपतियों के लिए बच्चों की देखरेख की समस्‍या
– लड़कियों की शादी की उम्र में बढ़ोतरी
– लड़कियों के स्कूल जाने के वर्षों में बढ़ोतरी

प्रजनन दर कम होने का क्‍या असर होगा?
– यहां ध्‍यान देने वाली बात है कि देश में प्रजजनन दर ‘रिप्लेसमेंट लेवल फर्टिलिटी’ स्तर (2.1) से कम (2.0) है।
– हालांकि अभी फर्टिलिटी रेट में कमी आई है, लेकिन जनसंख्या को स्थिर करने में लगभग 40 साल लग जाएंगे, यानी लगभग वर्ष 2060 तक हो पाएगा।
– वर्तमान में भारत की क़रीब 65 प्रतिशत आबादी युवा है, जिसका लाभ भी देश को मिल रहा है।
– लेकिन भविष्य में इन युवाओं की संख्या कम हो जाएगी और बुज़ुर्गों की आबादी बढ़ जाएगी।
– ऐसे में सामाजिक संतुलन पर भी असर पड़ेगा।
– अगर एशिया के देशों जैसे जापान, चीन और ताइवान से तुलना की जाए तो वे आर्थिक तौर ज़्यादा सक्रिय हुए और इसका विपरीत असर परिवार के आकार पर भी पड़ा, जहां अब उनके लिए एक संतुलन बनाना एक बड़ी चुनौती है।

—————-
10. किस आईआईटी के नेतृत्व में विकसित किए गए 5G टेस्टबेड को पीएम मोदी ने लॉन्च किया?

देश के पहले 5G ऑडियो और वीडियो कॉल का परीक्षण कहां किया गया?

a. आईआईटी मद्रास
b. आईआईटी बॉम्बे
c. आईआईटी दिल्ली
d. आईआईटी कानपुर

Answer: a. आईआईटी मद्रास

– पीएम मोदी ने 17 मई 2022 को देश के पहले 5G टेस्टबेड को लॉन्च किया।
– इस टेस्टबेड को आईआईटी मद्रास के नेतृत्व में बनाया गया है।
– इसपर लगभग 220 करोड़ रुपए खर्च किया गया है।

5G टेस्टबेड
– दरअसल, टेस्‍टबेड एक तरह का प्‍लेटफॉर्म है, जहां किसी खास तकनीक से जुड़ी हुई तमाम मशीनरी, तकनीक उपलब्‍ध होती हैं।
– IIT मद्रास में 5G टेस्टबेड स्‍थापित किया गया है।
– यह एक नेटर्वक है जिससे 5G प्रोडक्ट्स को टेस्ट किया जा सकेगा।
– 5G टेस्ट-बेड से स्टार्टअप और अन्य उद्योग 5G नेटवर्क से अपने डिजिटल प्रोडक्ट्स का परीक्षण कर सकेंगे।
– इसे IIT मद्रास के नेतृत्‍व में IIT बॉम्बे, दिल्ली, कानपुर, हैदराबाद, IISC बैंगलोर, सोसायटी फॉर एप्लाइड माइक्रोवेव इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग एंड रिसर्च (SAMEER) और सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस फॉर वायरलेस टेक्नोलॉजिस (CEWiT) ने मिलकर विकसित किया है।

देश का पहला 5G ऑडियो और वीडियो कॉल का परीक्षण
– टेलिकॉम मिनिस्‍टर अश्विनी वैष्णव ने 19 मई 2022 को भारत के पहले 5G ऑडियो और वीडियो कॉल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया।
– उन्होंने ने IIT मद्रास में यह परीक्षण किया और भारत के पहले 5G टेस्ट-बेड का भी जायजा लिया।

—————
11. यूक्रेन में भारतीय दूतावास को वारसा (पौलेंड) से हटाकर किस जगह फिर से शुरू किया गया?

a. खार्कीव
b. कीव
c. मारियोपोल
d. डोनेस्‍तक

Answer: b. कीव

– यूक्रेन में भारतीय दूतावास जो अस्थायी रूप से पौलेंड की राजधानी वारसा से बाहर काम कर रहा था।
– अब दूतावास यूक्रेन की राजधानी कीव में 17 मई 2022 को वापस लौटेगा।
– भारतीय दूतावास को 13 मार्च 2022 को वारसा में शिफ्ट किया गया था।
– ऐसा रूस-यूक्रेन विवाद की वजह से किया गया था।

यूक्रेन में भारत के राजदूत कौन?
– हर्ष कुमार जैन

यूक्रेन के राष्‍ट्रपति – वोलोदिमीर जेलेंस्‍की

—————-
12. दुनिया का सबसे लंबा सस्पेन्शन ब्रिज किस देश में बना?

a. चेक गणराज्य
b. वियतनाम
c. अमेरिका
d. जापान

Answer: a. चेक गणराज्य

– इस ब्रिज को आम लोगों के लिए 13 मई 2022 को खोला गया।
– इस ब्रिज को ‘स्काई ब्रिज 721’ नाम दिया गया है।
– ब्रिज दो पर्वतों को जोड़ता है और एक घाटी से 95 मीटर (312 फीट) ऊपर लटकता है।
– यह ब्रिज 721 मीटर या 2,365 फीट लंबा है।
– ब्रिज पर केबल कार द्वारा पहुँचा जा सकता है।

नेपाल के पुल से लंबा
– ‘स्काई ब्रिज 721’ ब्रिज नेपाल के बगलुंग परबत फुटब्रिज से 154 मीटर लंबा है, जो सबसे लंबे सस्पेंशन फुटब्रिज के लिए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड रखता है।

चेक गणराज्य
– कैपिटल : प्राग
– करंसी : चेक कोरुना
– प्रेसिडेंट : मिलो ज़मान
– प्राइम मिनिस्‍टर : पेट्र फियाला

—————-
13. केंद्र सरकार ने राष्‍ट्रीय ग्राम स्‍वराज अभियान (RGSA) को किस वर्ष तक के लिए विस्‍तार दिया है?

a. वर्ष 2024
b. वर्ष 2025
c. वर्ष 2026
d. वर्ष 2027

Answer: c. वर्ष 2026

– यह योजना अब 15वें वित्त आयोग की रिपोर्ट की अवधि के साथ समाप्त होगी।
– आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने 1 अप्रैल 2022 से 31 मार्च 2026 की अवधि के लिए इस योजना का विस्‍तार किया।
– इस योजना का उद्देश्य पंचायती राज संस्थाओं (PRI) की शासन क्षमताओं को विकसित करना है।
– इस योजना के लिए केंद्र सरकार राज्‍यों को फंड देती है। मतलब यह सेंट्रली स्‍पॉन्‍सर्ड स्‍कीम है।

राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान (RGSA) क्या है?
– इस योजना को पहली बार वर्ष 2018 में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने वर्ष 2018-19 से वर्ष 2021-22 तक की अवधि के लिये मंज़ूरी दी थी।
– कार्यान्वयन एजेंसी: पंचायती राज मंत्रालय।
– उद्देश्य: सतत् विकास लक्ष्यों (SDGs) को पूरा करने के लिये पंचायती राज संस्थानों (PRIs) की शासन क्षमताओं को विकसित करना है।
– इस योजना में SDGs के प्रमुख सिद्धांत जैसे विकास में किसी को पीछे नहीं छोड़ना, सबसे पहले एवं सार्वभौमिक कवरेज तक पहुँचना, लैंगिक समानता के साथ-साथ प्रशिक्षण, प्रशिक्षण मॉड्यूल और सामग्री सहित सभी क्षमता निर्माण हस्तक्षेपों को डिज़ाइन में शामिल किया जाएगा।
– देश भर में पारंपरिक निकायों सहित ग्रामीण स्थानीय निकायों के लगभग 60 लाख निर्वाचित प्रतिनिधि, पदाधिकारी और अन्य हितधारक इस योजना के प्रत्यक्ष लाभार्थी होंगे।

योजना की प्राथमिकताएं
– गाँवों में गरीबी से मुक्ति एवं आजीविका में बढ़ोतरी
– स्वस्थ गाँव
– बच्चों के अनुकूल गाँव
– जल पर्याप्त गाँव
– स्वच्छ और हरा-भरा गाँव
– गाँव में आत्मनिर्भर बुनियादी ढाँचा
– सामाजिक रूप से सुरक्षित गाँव
– सुशासन वाला गाँव
– ग्राम विकास में बढ़ोतरी।

विज़न: यह “सबका साथ, सबका गांव, सबका विकास” (Sabka Sath, Sabka Gaon, Sabka Vikas) हासिल करने की दिशा में एक प्रयास है।