30 Jan 2022 Current Affairs, 31 January 2022 Current Affairs, 30 Current Affairs Jan 2022, 31 January 2021 Current Affairs, 31 January 2022 Current Affairs, Current Affairs 31st January 2022,

30 & 31 January 2022 Current Affairs

Spread the love

यह 30 & 31 January 2022 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. ऑस्ट्रेलियन ओपन पुरुष सिंगल 2022 का खिताब के साथ कुल 21 ग्रैंड स्‍लैम जीतने वाले पहले खिलाड़ी का नाम बताएं?

a. डेनियल मेदवेदेव
b. नोवाक जोकोविच
c. राफेल नडाल
d. डेनियल नेस्टर

Answer: c. राफेल नडाल

– 35 साल के स्पेनिश टेनिस खिलाड़ी ने ऑस्ट्रेलियन ओपन 2022 का मेंस सिंगल खिताब जीत लिया।
– उन्‍होंने रूसी स्टार डेनियल मेदवेदेव को हराकर यह जीत हासिल की।
– नडाल इसके साथ ही ग्रैंड स्लैम के 145 साल के इतिहास में सबसे ज्यादा मेंस सिंगल्स खिताब जीतने वाले पुरुष खिलाड़ी बन गए।
– उन्होंने स्विट्जरलैंड के रोजर फ़ेडरर और सर्बिया के नोवाक जोकोविच को पीछे छोड़ा। इन दोनों के नाम 20-20 ग्रैंड स्लैम टाइटल हैं।

कितने ग्रैंड स्‍लैम आयोजित होते हैं?
– ऑस्‍ट्रेलियन ओपन
– फ्रेंच ओपन
– विम्‍बिल्‍डन
– यूएस ओपन

——————-
2. ऑस्ट्रेलियन ओपन महिला सिंगल 2022 का खिताब किसके जीता?

a. अन्‍ना कार्निकोवा
b. ऐश्ली बार्टी
c. डेनियल कॉलिंस
d. सानिया मिर्जा

Answer: b. ऐश्ली बार्टी

– वह दुनिया की नंबर एक महिला टेनिस खिलाड़ी हैं।
– वह 25 वर्षीय हैं और उन्‍होंने ऑस्ट्रेलियन ओपन के महिला सिंगल्स का खिताब अपने नाम कर लिया है।
– आखिरी बार 44 साल पहले 1978 में ऑस्ट्रेलिया के लिए यह टूर्नामेंट क्रिस ओ’नील ने जीता था।

– ऐश्ली बार्टी का यह तीसरा ग्रैंड स्लैम खिताब है।
– ऑस्ट्रेलियन ओपन जीतने से पहले वह 2019 में फ्रेंच ओपन और पिछले साल 2021 में विंबलडन का खिताब जीत चुकी हैं।
– रॉड लेवर एरीना में खेले गए इस फाइनल में बार्टी ने अमेरिका की डेनियल कॉलिंस को हराया।

——————
3. ऑस्ट्रेलियन ओपन मिश्रित युगल 2022 का खिताब किनके नाम रहा?

a. डेनियल नेस्टर और क्रिस्टीना
b. इवान डोडिग और जेसन कुबलर
c. जैमी फोरलिस और जेसन कुबलर
d. क्रिस्टीना म्लादेनोविक और इवान डोडिग

Answer: d. क्रिस्टीना म्लादेनोविक और इवान डोडिग

– फ्रांस की क्रिस्टीना म्लादेनोविक और क्रोएशिया के इवान डोडिग ने 28 जनवरी 2022 को ये खिताबी जीत हासिल की।
– मेलबर्न पार्क में ऑस्ट्रेलियाई वाइल्ड कार्ड जैमी फोरलिस और जेसन कुबलर को 6-3, 6-4 से हराया।

– बता दें, 28 वर्षीय क्रिस्टीना म्लादेनोविक दूसरी बार ओपन मिश्रित युगल चैंपियन बनी हैं।
– वह और कनाडा की डेनियल नेस्टर वर्ष 2014 और 2015 में ऑस्ट्रेलिया में लगातार फाइनल में पहुंचीं.
– इस जोड़ी ने वर्ष 2013 में विंबलडन भी जीता. – क्रिस्टीना ने महिला और मिश्रित युगल में अब तक आठ ग्रैंड स्लैम खिताब जीते हैं।

—————–
4. साल 2017 में भारत ने पेगासस स्पाईवेयर सॉफ्टवेयर खरीदा था, इस बात का खुलासा किस मीडिया संस्थान ने किया?

a. इंडियन एक्सप्रेस
b. न्यूयॉर्क टाइम्स
c. बीबीसी
d. अल जज़ीरा

Answer: b. न्यूयॉर्क टाइम्स

– न्यूयॉर्क टाइम्स ने 28 जनवरी 2022 को एक रिपोर्ट जारी की जिसमें बताया गया है कि दुनियाभर के किन-किन देशों ने पेगासस स्पाईवेयर सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया हैं।
– रिपोर्ट के अनुसार साल 2017 में भारत सरकार ने भी इजराइली कंपनी NSO ग्रुप से स्पाईवेयर सॉफ्टवेयर पेगासस को खरीदा था।
– इस सॉफ्टवेयर की खरीद 2 अरब डॉलर (करीब 15 हजार करोड़ रुपए) की डिफेंस डील मे की गई थी।

पेगासस क्या हैं?
– पेगासस स्पायवेयर एक ऐसा कंप्यूटर प्रोग्राम है।
– इस स्‍पाइवेयर का इस्‍तेमाल करके किसी भी व्‍यक्ति के फोन को उसी का जासूस बना दिया जाता है।
– जिसका फोन हैक हो जाता है, उसे इसका पता ही नहीं चलता।
– इस स्पाईवेयर को इजराइली कंपनी NSO द्वारा निर्मित किया गया हैं।

पेगासस जासूसी कैसे करता हैं?
– पेगासस स्पाईवेयर किसी भी व्यक्ति के फोन पर या डिवाइस पर रिमोटली इंस्टॉल किया जाता हैं।
– इस स्पाईवेयर का इंस्टॉलेशन किसी व्यक्ति के फोन पर बिना किसी जानकारी किया जाता हैं।
– इसको वॉट्सऐप मैसेज, टेक्स्ट, SMS और सोशल मीडिया पर लिंक भेजकर भी किया जाता हैं।
– जैसे भी कोई व्यक्ति इस स्पाईवेयर के द्वारा भेजे हुए लिंक पर क्लिक करता है।
– उसी समय उस व्यक्ति का सारा डाटा इस स्पाईवेयर पर आ जाता हैं।
– जिससे आसानी से जासूसी की जा सकती हैं।

पेगासस से जासूसी करने पर कितना खर्चा आता हैं?
– इस स्पाईवेयर के इंस्टॉलेशन पर चार करोड़ रूपए का खर्चा आता हैं।
– और सर्विस चार्ज का अलग से पांच करोड़ देना पड़ता हैं।
– एक व्यक्ति पर जासूसी करवाने के लिए 90 लाख रूपए का खर्च होता हैं।
– दस लोगो की जासूसी करवाने के लिए नौ करोड़ रूपयों का खर्च होता हैं।
– इस स्पाईवेयर के एक लाइसेंस के लिए 70 लाख रूपए देने पड़ते हैं।

भारत सरकार ने डिफेंस डील के तहत खरीदा था पेगासस: NYT
– जुलाई, 2017 में नरेंद्र मोदी कई दशको के बाद इजराइल जाने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री बने।
– इस दौरे पर मोदी का संदेश बिलकुल साफ था कि भारत अब फिलिस्तीन को लेकर अपने विचार बदल रहा है और इजराइल से गहरी मित्रता बढ़ा रहा है।
– उस समय इजराइल में बेंजामिन नेतन्याहू प्रधानमंत्री थे।
– इस दौरान दोनों देशों ने लगभग 2 बिलियन डॉलर (15 हजार करोड़ रुपए) के इंटेलिजेंस गियर और हथियारों की डील की।
– इस डील के अंतर्गत मिसाइल सिस्टम और पेगासस भी शामिल था।
– इसके कुछ महीनों बाद, नेतन्याहू ने भी का भारत का दौरा किया और जून 2019 में, भारत ने संयुक्त राष्ट्र की आर्थिक और सामाजिक परिषद (ECOSOC) में इजराइल के समर्थन में वोट किया।
– यह वोट फिलिस्तीनी मानवाधिकार संगठन (human rights organization) को observer status देने के विरोध में था।

भारत मे पेगासस सबसे पहले चर्चा में कब आया?
– देश में सबसे पहले साल 2019 में पेगासस का मामला सामना आया।
– पेगासस से कई पत्रकारों, मानव अधिकार कार्यकर्ताओं और कई राजनेताओं के फोन की जासूसी करने का मामला सामने आया था।
– पेगासस सॉफ्टवेयर से कई बड़ी हस्तियों के फोन के वॉट्सऐप समेत अन्य महत्वपूर्ण जानकारियों को हैक किए जाने के मामले सामने आए थे।
– जुलाई 2021 में मीडिया ग्रुप के एक कंसोर्टियम ने खुलासा किया था कि पेगासस सॉफ्टवेयर का उपयोग जासूसी के लिए किया जा रहा हैं।
– इस सॉफ्टवेयर से भारत समेत विश्वभर के कई बड़े पत्रकारों-बिजनेसमैन और नेताओं की जासूसी की गई थी।

जांच कैसे हुई थी?
– 2019 में वॉट्सऐप ने कनाडा के सिटिज़न लैब के साथ मिलकर इस ऐप की सुरक्षा में सेंध लगाने को लेकर हुए पेगासस हमले को लेकर इससे प्रभावित हुए दर्जनों भारतीयों को चेताया था।
– इसके बाद दुनियाभर के 17 न्‍यूज ऑर्गेइनाइजेशन और एमनेस्‍टी के सिक्‍योरिटी लैब को NSO के लीक हुए नंबर की सूची मिली।
– इसके बाद लिस्‍ट में से ऐसे कई पत्रकारों के फोन का फॉरेंसिक विश्‍लेषण हुआ, जिन्‍होंने इसके लिए सहमति दी।
– हालांकि, इस साझा इन्वेस्टिगेशन से यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि वे सभी पत्रकार, जिनके नंबर लीक हुई सूची में मिले हैं, की सफल रूप से जासूसी की गई या नहीं।
– इसके बजाय यह पड़ताल सिर्फ यह दिखाती है कि उन्हें 2017-2019 के बीच आधिकारिक एजेंसी या एजेंसियों द्वारा लक्ष्य के बतौर चुना गया था।
– यह भी बात सामने आ रही है कि ‘पेगासस प्रोजेक्ट’ रिपोर्ट में जितने पत्रकारों की लिस्‍ट सामने आ रही है, उससे भी बड़ी लिस्‍ट हो सकती है, जिसकी निगरानी की जा रही होगी।

भारत में किस-किस को टार्गेट किया गया था?
– द वॉयर के अनुसार 40 भारतीय पत्रकारों को निशाना बनाया गया था।
– जबकि वॉशिंगटन पोस्ट और द गार्जियन के अनुसार 3 प्रमुख विपक्षी नेताओं, 2 मंत्रियों और एक जज की भी जासूसी की पुष्ट की गई थीं, हालांकि इनके नाम नहीं बताए गए थे।
– ‘पेगासस प्रोजेक्‍ट’ रिपोर्ट के अनुसार इनके फोन को पेगासस पाया गया या संभावित हैकिंग के निशाने पर लिया गया था –
– द हिन्‍दू की विजेता सिंह (गृह मंत्रालय कवर करती हैं)
– हिन्‍दुस्‍तान टाइम्‍स के एडिटर शिशिर गुप्‍ता, एडिटोरियल पेज के संपाद प्रशांत झा, पूर्व पॉलिटिकल एडिटर औरंगजेब नक्‍शबंदी
– इंडियन एक्‍सप्रेस के डिप्‍टी एडिटर सुशांत सिंह (जब वे अन्य रिपोर्ट्स के साथ फ्रांस के साथ हुई विवादित रफ़ाल सौदे को लेकर पड़ताल कर रहे थे)
– इंडियन एक्‍सप्रेस की रिपोर्टर ऋतिका चोपड़ा
– इंडिया टुडे के संदीप उन्‍नीथन (जो डिफेंस रिलेटेड रिपोर्टिंग करते हैं)
– टीवी 18 के मनोज गुप्‍ता (इन्‍वेस्टिगेशन और सुरक्षा मामलों के संपादक)
– द वायर के फाउंडिंग एडिटर सिद्धार्थ वरदराजन और एमके वेणु, पत्रकार रोहिणी सिंह।
– द पायनियर के इनवेस्टिगेटिव रिपोर्टर जे. गोपीकृष्‍णन (जिन्‍होंने 2जी टेलीकॉम घोटाले का खुलासा किया था)
– ईपीडब्ल्यू के पूर्व संपादक परंजॉय गुहा ठाकुरता।
– द ट्रिब्यून की डिप्लोमैटिक रिपोर्टर स्मिता शर्मा, आउटलुक के पूर्व पत्रकार एसएनएम अब्दी और पूर्व डीएनए रिपोर्टर इफ्तिखार गिलानी।

भारत में पेगासस पर सुप्रीम कोर्ट की कमेटी की जांच चल रही हैं
– 27 अक्टूबर 2021 में हुई सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने पेगासस जासूसी मामले के लिए एक एक्सपर्ट कमेटी का गठन किया था।
– सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस आरवी रवींद्रन को इस कमेटी का अध्यक्ष बनाया गया था।
– कमेटी ने पेगासस से प्रभावित लोगो को समिति से 7 जनवरी 2022 तक संपर्क करने का आदेश दिया था।
– कमेटी ने इससे प्रभावित लोगो की डिवाइस को जांच करने के आदेश भी दिए थे।
– सुप्रीम कोर्ट ने कमेटी गठित करते हुए कहा था कि हर किसी की प्राइवेसी की रक्षा होनी चाहिए।
– कोर्ट ने यह बयान दिया था कि केंद्र ने अपने जवाब में पेगासस के इस्तेमाल से इनकार करने की बात नहीं की है।
– इसी कारण से हमारे पास याचिकाकर्ता की याचिका मंजूर करने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नही हैं।
– सुप्रीम कोर्ट ने इस दौरान केंद्र सरकार के नेशनल सिक्योरिटी के तर्क पर तंज भी कसा था।
– कोर्ट ने कहा था कि केंद्र हर मुद्दे को नेशनल सिक्योरिटी से जोड़कर आरोपो से मुक्त नहीं हो सकता है।

———————-
5. आदि बद्री बांध के निर्माण के लिए किन राज्‍यों ने 21 जनवरी 2022 को समझौते (MoU) पर हस्‍ताक्षर किए?

a. उत्‍तर प्रदेश और हरियाणा
b. मध्‍य प्रदेश और गुजरात
c. बिहार और झारखंड
d. हिमाचल प्रदेश और हरियाणा

Answer: d. हिमाचल प्रदेश और हरियाणा

– यह बांध हरियाणा के यमुना नगर जिले में बनाया जायेगा।
– इसका जल भंडारण क्षेत्र हिमाचल प्रदेश के भी कुछ हिस्‍से में होगा।
– इसका मकसद सरस्वती नदी का पुनर्जागरण है।
– हरियाणा में स्थित आदि बद्री क्षेत्र हिमाचल प्रदेश के बॉर्डर के नजदीक है।
– इस बांध पर हरियाणा सरकार 215.33 करोड़ रुपये खर्च करेगी।
– इस बांध की चौड़ाई 101.06 मीटर होगी।
– और लम्बाई 20.5 मीटर होगी।

सरस्‍वती नदी
– पौराणिक हिंदू मान्यताओं के अनुसार गंगा, यमुना और सरस्‍वति नदियां हिमालय से निकली थीं।
– गंगा और यमुना तो जमीन की सतह पर बहती हैं, लेकिन सरस्वती अदृश्य हैं. या वैज्ञानिक भाषा में कहें तो सूख चुकी हैं या फिर जमीन के भीतर बह रही हैं। सतह पर तो नहीं दिखती।
– हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का कहना है कि आदि बद्री बांध परियोजना का मकसद सरस्वती नदी को पुनर्जीवित करने के साथ ही भूमिगत जल के स्तर को बढ़ाना है।

इस बांध का क्या फायदा होगा?
– यह बांध हर साल 224 हेक्टेयर मीटर पानी को स्टोर करेगा, जिसमे हिमाचल प्रदेश को 62 हेक्टेयर मीटर पानी मिलेगा।
– बाकी बचा हुआ 162 हेक्टेयर मीटर पानी हरियाणा में सरस्वती नदी के लिए साल भर इस्तेमाल किया जाएगा।
– आदि बद्री बांध दोनों राज्यों के लिए सिंचाई और पीने के पानी की आवश्यकता को पूरा करेगा।
– सरस्वती नदी में पानी प्रवाहित होने से इस क्षेत्र का धार्मिक पर्यटन (tourism) बढे़गा।

हरियाणा
सीएम- मनोहर लाल खट्टर
राज्यपाल- बण्डारू दत्तारेय

हिमाचल प्रदेश
सीएम- जयराम ठाकुर
राज्यपाल- राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर

——————-
6. डॉक्टर अनिल अवचट का निधन 27 जनवरी 2022 को हो गया, वह इनमें से किस वजह से चर्चित थे?

a. सामाजिक कार्यकर्ता और मराठी लेखक
b. मराठी लेखक और क्रिकेटर
c. सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकार
d. राजनेता और लेखक

Answer: a. सामाजिक कार्यकर्ता और मराठी लेखक

– प्रख्यात मराठी लेखक और सामाजिक कार्यकर्ता डॉ अनिल अवचट का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया।
– वह 78 वर्ष के थे।
– पुणे के ओतूर में जन्मे डॉ अनिल ने बी.जे. मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस की पढ़ाई की थी।
– उन्‍हें ”माणसं”, ”स्वत: विषयी”, ”गर्द”, ”कार्यरत”, ”कार्यमग्न” और ”कुतूहलापोटी” सहित उनकी कई पुस्तकों के लिए जाना जाता है।
– उन्‍होंने कई मराठी पत्रिकाओं और अन्य प्रकाशनों में लेख लिखे।
– वह पत्रकार के तौर पर भी काम कर चुके थे ।

——————–
ICC Test Ranking
—————-

7. ICC ने टेस्‍ट रैंकिंग (जनवरी 2022) में किस टीम को पहला स्‍थान मिला?

a. ऑस्ट्रेलिया
b. पाकिस्तान
c. भारत
d. इंग्‍लैंड

Answer: a.ऑस्ट्रेलिया

– ICC ने भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच वनडे सीरीज़ खत्म होने के बाद वनडे और टी20 इंटरनेशनल में खिलाड़ियों और टीमों की रैंकिंग जारी की है।
– इसमें भारत तीसरे नंबर पर है, जबकि दूसरे नंबर पर न्‍यूजीलैंड है।
– वहीं चौथे नंबर पर इंग्‍लैड और पांचवे पर दक्षिण अफ्रीका है।

टॉप 5 टीम
1. ऑस्ट्रेलिया
2. न्‍यूजीलैंड
3. भारत
4. इंग्‍लैंड
5. दक्षिण अफ्रीका

—————–
8. ICC की टेस्‍ट पुरुष प्‍लेयर बैटिंग रैंकिंग (जनवरी 2022) में किस खिलाड़ी को टॉप पर रखा गया है?

a. जो रूट
b. विराट कोहली
c. मार्नस लाबुस्चगने
d. बाबर आजम

Answer: c. मार्नस लाबुस्चगने

– ऑस्ट्रेलिया के मार्नस लाबुस्चगने ने 935 की रेटिंग के साथ नंबर वन पोजीशन हासिल की।
– दूसरे नंबर पर इंग्‍लैंड के जो रूट हैं।
– टॉप 5 में भारत के किसी खिलाड़ी को जगह नहीं मिली है।

टॉप 5
1. मार्नस लाबुस्चगने (ऑस्ट्रेलिया)
2. जो रूट (इंग्‍लैंड)
3. केन विलियमसन (न्‍यूजीलैंड )
4. स्टीव स्मिथ (ऑस्ट्रेलिया)
5. ट्रैविस हेड (ऑस्ट्रेलिया)

——————
9. ICC टेस्‍ट मेंस प्‍लेयर बॉलिंग रैंकिंग (जनवरी 2022) में किस खिलाड़ी को पहला स्‍थान मिला?

a. रविचंद्रन अश्विन
b. हार्दिक पंडया
c. टिम साउथी
d. पैट कमिंस

Answer: d. पैट कमिंस

– भारत के रविचंद्रन अश्विन दूसरे स्‍थान पर हैं।

टॉप 5
1. पैट कमिंस (ऑस्ट्रेलिया)
2. रविचंद्रन अश्विन (भारत)
3. कगिसो रबाडा (साउथ अफ्रीका )
4. काइल जैमीसन (न्‍यूजीलैंड)
5. शाहीन अफरीदी (पाकिस्‍तान)

——————-
10. ICC टेस्‍ट आलराउंडर रैंकिंग (जनवरी 2022) में किस खिलाड़ी को टॉप पर रखा गया है?

a. मिशेल स्‍टार्क
b. शाकिब अल हसन
c. जेसन होल्‍डर
d. रविचंद्रन आश्विन

Answer: c. जेसन होल्‍डर

– वेस्‍टंडीज के जेसन होल्‍डर ने टॉप वन में जगह बनाई।
– हमारे लिए गौरव की बात है कि भारत के रविचंद्रन अश्विन इस रैंकिंग में भी दूसरे नंबर पर हैं।

टॉप 5
1. जेसन होल्डर (वेस्‍टंडीज )
2. रविचंद्रन अश्विन (भारत)
3. रवींद्र जडेजा (भारत)
4. शाकिब अल हसन (बांग्‍लादेश )
5. मिशेल स्टार्क (ऑस्ट्रेलिया)

——————-
ICC ODi Ranking
——————-

11. ICC की वन डे इंटरनेशनल (ODI) रैंकिंग (जनवरी 2022) में किस देश की टीम पहले स्‍थान पर है?

a. भारत
b. न्‍यूजीलैंड
c. वेस्‍टइंडीज
d. ऑस्ट्रेलिया

Answer: b. न्‍यूजीलैंड

टॉप 5 टीम
1. न्यूजीलैंड
2. इंग्लैंड
3. ऑस्ट्रेलिया
4. भारत
5. दक्षिण अफ्रीका

——————
12. ICC वन डे इंटरनेशनल (ODi) पुरुष बैटिंग रैंकिंग (जनवरी 2022) में किस खिलाड़ी ने पहला स्‍थान पाया?

a. विराट कोहली
b. रोहित शर्मा
c. रॉस टेलर
d. बाबर आजम

Answer: d. बाबर आजम

– पाकिस्‍तान के बाबर आजम ने पहले स्‍थान पर ये गौरव हासिल किया।
– तो वहीं दूसरे स्‍थान पर भारत के विराट कोहली और तीसरे रैंक पर भी भारत के ही खिलाड़ी रोहित शर्मा हैं।

टॉप 5
1. बाबर आजम (पाकिस्‍तान)
2. विराट कोहली (भारत )
3. रोहित शर्मा (भारत)
4. रास टेलर (न्‍यूजीलैंड )
5. क्विंटन डी कॉक (साउथ अफ्रीका)

——————-
13. ICC वन डे इंटरनेशनल (ODI) पुरुष बॉलिंग रैंकिंग (जनवरी 2022) में किस खिलाड़ी ने टॉप पोजीशन हासिल की?

a. क्रिस वोक्‍स
b. ट्रेंट बाउल्ट
c. मैट हेनरी
d. जसप्रीत बुमराह

Answer: b. ट्रेंट बाउल्ट

– न्‍यूजीलैंड के ट्रेंट बाउल्ट ने 737 स्‍कोर के साथ टॉप वन की रैंक हासिल की।

टॉप 5 प्‍लेयर
1. ट्रेंट बाउल्ट (न्‍यूजीलैंड )
2. जोश हेजलवुड (ऑस्ट्रेलिया)
3. क्रिस वोक्‍स (इंग्‍लैंड)
4. मुजीब उर रहमान (अफगानिस्‍तान)
5. मेहदी हसन (भारत)

———————
14. ICC वन डे इंटरनेशनल (ODI) पुरुष ऑल राउंडर रैंकिंग (जनवरी 2022) में किस खिलाड़ी ने पहला स्‍थान प्राप्‍त किया?

a. जैसन होल्‍डर (वेस्‍ट इंडीज)
b. रविचंद्रन अश्‍विन (भारत)
c. रविंद्र जडेजा (भारत)
d. शाकिब अली हसन (बांग्‍लादेश)

Answer: d. शाकिब अली हसन (बांग्‍लादेश)

Top 5
1. शाकिब अल हसन (बांग्‍लादेश)
2. मुहम्मद नबी (अफगानिस्तान)
3. क्रिस वोक्‍स (इंग्‍लैंड)
4. राशिद खान (अफगानिस्तान)
5. मिचेल स्टार्क (ऑस्‍ट्रेलिया)

———————
15. डेटा गोपनीयता दिवस (Data Privacy Day) कब मनाया जाता है?

a. 30 जनवरी
b. 29 जनवरी
c. 28 जनवरी
d. 27 जनवरी

Answer: c. 28 जनवरी

– डेटा गोपनीयता दिवस गोपनीयता के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करता है।
– सबसे पहले यूरोप की परिषद ने 28 जनवरी 1981 से ये दिवस मनाना शुरू किया था।
– इसके बाद पूरी दुनिया में इसे आयोजित किया जाने लगा।

 


Free Download Notes PDF of Toady’s Current Affairs : – Click Here

 

Buy eBooks & PDF