29 & 30 July 2022 Current Affairs

Spread the love

यह 29th & 30th July 2022 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. PM मोदी ने देश के पहले बुलियन एक्सचेंज (IIBX-इंडिया इंटरनेशनल बुलियन एक्सचेंज) का उद्घाटन कहां किया?

a. दिल्‍ली
b. मुंबई
c. गांधीनगर
d. चेन्‍नई

Answer: c. गांधीनगर

– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 29 जुलाई 2022 को IIBX (इंडिया इंटरनेशनल बुलियन एक्सचेंज) का उद्घाटन किया।
– एक्‍सचेंज को गुजरात की राजधानी गांधीनगर में स्थित GIFT सिटी (गुजरात इंटरनेशनल फाइनेंस टेक) में स्‍थापित किया गया है।

क्या होता है बुलियन?
– बुलियन का मतलब है उच्च शुद्धता का फिजिकल गोल्ड और सिल्वर, जिसे बार, सिल्लियों या सिक्कों के रूप में रखा जाता है।
– बुलियन को कभी-कभी लीगल टेंडर माना जा सकता है।
– इसे अक्सर सेंट्रल बैंक्‍स गोल्ड स्टोरेज के रूप में रखती है या फिर संस्थागत निवेशकों के रूप में रखते हैं।

बुलियन एक्सचेंज क्या होता है?
– बुलियन एक्सचेंज खरीदारों और विक्रेताओं को सोने और चांदी का व्यापार करने की अनुमति देता है।
– यह एक्सचेंज फिजिकल गोल्ड और सिल्वर की बिक्री करेगा।
– इस एक्सचेंज को शंघाई गोल्ड एक्सचेंज और बोर्सा इंस्तांबुल की तर्ज पर स्थापित किया गया है जो भारत को बुलियन के रीजनल हब के रूप में मजबूत स्थिति प्रदान करेगा।

IIBX में व्यापार कौन कर सकता है?
– योग्य ज्वैलर्स को IIBX के माध्यम से सोना आयात करने की अनुमति होगी।
– योग्य ज्वैलर बनने के लिए, न्यूनतम 25 करोड़ की नेट वर्थ होनी चाहिए।
– इसके अलावा आखिरी तीन वित्तीय वर्षों के औसत वार्षिक टर्नओवर का 90 प्रतिशत होना चाहिए।
– भारत में पहली बार पात्र योग्य ज्वैलर्स को IIBX के माध्यम से सीधे सोना आयात करने की अनुमति दी गई है।
– योग्य ज्वैलर्स के अलावा नॉन-रेजिडेंट भारतीय और संस्थानों को भी IIBX में व्यापार करने अनुमति दी गई।
– लेकिन इसके लिए पहले IFSCA (इंटरनेशनल फाइनेंशियल सर्विस सेंटर अथॉरिटी) में रजिस्टर करना होगा।
– इसके अलावा, ज्वैलर्स IIBX पर ट्रेडिंग सदस्य के रूप में या ट्रेडिंग सदस्य के क्लाइंट के रूप में लेनदेन करने में सक्षम होंगे।

क्या सोने जैसी कीमती धातुओं को GIFT में पहुंचाया जा सकेगा?
– गिफ्ट सिटी में लगभग 125 टन सोने और 1,000 टन चांदी की भंडारण क्षमता की योजना है।

अब तक कैसे होता था कीमती धातुओं का इंपोर्ट
– अभी, भारत में सोने का इंपोर्ट एक कंसाइनमेंट मॉडल पर कई सिटी में नामित बैंकों और RBI से मन्यता मिली एजेंसियों से किया जाता था।
– इसके बाद ट्रेडर्स/ज्वैलर्स को सप्लाई की जाती थी। बैंकों और अन्य एजेंसियों को हैंडलिंग, स्टोर के लिए सोने के एक्सपोर्टर से टैक्स मिलता है।

————–
2. संयुक्त राष्ट्र के किस पीसकीपिंग मिशन में तैनात बीएसएफ के दो जवानों का निधन अफ्रीकी देश कांगो में जनविरोध के दौरान हो गया?

a. MINUSCA
b. UNTSO
c. MONUSCO
d. UNMISS

Answer: c. MONUSCO (यूनाईटेड नेशंस ऑर्गेनाइजेशन स्टैबलाइजेशन मिशन इन द डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो)

– डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो में संयुक्त राष्ट्र के पीसकीपिंग मिशन MONUSCO में तैनात दो बीएसएफ जवानों का निधन हो गया।
– प्रदर्शन में निधन होने वाले दो बीएसएफ जवानों का नाम शिशुपाल सिंह और सांवला राम विश्नोई है।
– जवानों की मौत 26 जुलाई 2022 को देश में संयुक्त राष्ट्र के पीसकीपिंग मिशन के खिलाफ हुए प्रदर्शन के दौरान हुई।
– यह प्रदर्शन कांगो के शहर बुटेम्बो में संयुक्त राष्ट्र के मिशन MONUSCO के खिलाफ हुआ।
– प्रदर्शन में कुल पांच लोगों का निधन हुआ, जिनमें यह दोनों बीएसएफ जवान शामिल थे।
– ये दोनों जवान 02 जून 2022 से कांगो के शहर बेनी और बुटेम्बो में तैनात थे।

मिशन MONUSCO के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन हुआ?
– कांगो के बेनी और बुटेम्बो में 26 जुलाई 2022 में हिंसक प्रदर्शन हुआ।
– प्रदर्शनकारियों ने यूएन की प्रॉपर्टी को जला दिया और भारी लूटपाट भी की।
– प्रदर्शनकारियों ने मिशन में तैनात जवानों पर भारी पत्थरबाजी की।
– इसके अलावा छोटे हथियारों से जवानों पर फायरिंग भी की गई।

कांगो में लोग संयुक्त राष्ट्र के पीसकीपिंग मिशन के खिलाफ प्रदर्शन क्यों कर रहे हैं?
– देश में बढ़ती असुरक्षा के कारण कांगो के लोग चाहते है कि पीसकीपिंग फोर्सेज उनका देश छोड़ दें।
– क्योंकि पीसकीपिंग फोर्से देश के लोगों की रक्षा नहीं कर पा रही हैं।
– इसलिए देश के लोग पीसकीपिंग मिशन के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।

यूएन पीसकीपिंग मिशन
– यूएन पीसकीपिंग मिशन को 1948 में शुरू किया गया था।
– इस मिशन का उद्देश्य संघर्षशील देशों में शांति (पीस) स्थापित करना है।
– पिछले 70 वर्षों में, 10 लाख से अधिक पुरुषों और महिलाओं ने यूएन के इस मिशन के तहत 70 से अधिक यूएन पीसकीपिंग मिशनों में सेवा की है।
– 125 देशों के 100,000 से अधिक सैन्य, पुलिस और नागरिक कर्मी वर्तमान में 14 पीस मिशनों में कार्यरत हैं।

यूएन पीसकीपिंग मिशन में कितने भारतीय?
– भारत यूएन पीसकीपिंग मिशन में सैन्य योगदान देने वाले सबसे बड़े देशों में से एक है।
– वर्तमान में, 2385 भारतीय सैन्य कर्मियों के साथ भारत दूसरे नंबर पर है और रवांडा पहले नंबर पर हैं।
– इसके अलावा 30 पुलिसकर्मियों को UNMISS के साथ तैनात किया गया है।

वर्तमान में यूएन पीसकीपिंग मिशनों की सूची
– MINURSO, Western Sahara
– MINUSCA, Central African Republic
– MINUSMA, Mali
– MONUSCO, D.R. of the Congo UNDOF, Golan
– UNFICYP, Cyprus
– UNIFIL, Lebanon
– UNISFA, Abyei
– UNMIK, Kosovo
– UNMISS, South Sudan
– UNMOGIP, India and Pakistan
– UNTSO, Middle East

————–
3. बांग्‍लादेश में भारत के नए उच्‍चायुक्‍त कौन बनें?

a. प्रणय कुमार वर्मा
b. राकेश सिंह
c. विनोद साह
d. रजनी कुमारी

Answer: a. प्रणय कुमार वर्मा

– इससे पहले वह वियतनाम में भारत के राजदूत थे।
– कई देशों में मोजूद भारतीय दूतावास और उच्‍चायोग में काम कर चुके हैं।
– वर्मा, भारतीय विदेश सेवा के 1994 बैच के अधिकारी हैं।

विदेश मंत्री: सुब्रह्मण्यम जयशंकर

—————
4. इंडिया इनोवेशन इंडेक्स 2021 के अनुसार भारत, R&D (रिसर्च एंड डेवलपमेंट) पर काफी कम खर्च कर रहा है, इसका प्रति व्‍यक्ति GERD (ग्रोस एक्सपेंडिचर ऑन R&D) बताएं?

a. 50 डॉलर प्रति व्यक्ति
b. 43 डॉलर प्रति व्यक्ति
c. 34 डॉलर प्रति व्यक्ति
d. 20 डॉलर प्रति व्यक्ति

Answer: b. 43 डॉलर प्रति व्यक्ति

GERD (ग्रोस एक्सपेंडिचर ऑन R&D) क्‍या होता है?
– बिजनेस एंटरप्राइज, उच्च शिक्षा संस्थानों, सरकारी संगठनों और प्राइवेट सेक्टर द्वारा रिसर्च एंड डेवलपमेंट (R&D) पर किये जाने वाले खर्च को GERD कहते है।

– नीति आयोग ने इंडिया इनोवेशन इंडेक्स 2021 को 21 जुलाई 2022 को जारी किया।
– इसके अनुसार वर्ष 2018 में भारत का प्रति व्यक्ति GERD 43 डॉलर रहा।
– यह दुनिया के अन्य देशों के मुकाबले काफी कम है। मतलब भारत R&D के क्षेत्र में काफी कम खर्च करता है।
– इसके अलावा भारत का GERD वित्‍त वर्ष 2008-09 में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) का 0.8% था।
– लेकिन वित्‍त वर्ष 2017-18 में यह घटकर 0.65% (लगभग 0.7%) हो गया।
– जबकि नीति आयोग के अनुसार देश के विकास के लिए जरूरी है कि GERD कम से कम 2% होना चाहिए।

अन्य देशों का प्रति व्यक्ति GERD (वर्ष 2018)

देश- GERD (प्रति व्यक्ति) (डॉलर में)
इजरायल : 2108
अमेरिका : 1777
जर्मनी : 1701
बेल्जियम : 1438
यूके और उत्तरी आयरलैंड : 791
इटली : 593
चीन : 325
मलेशिया : 293
रूस : 284
ब्राजील : 173
मेक्सिको : 63
भारत : 43
इंडोनेशिया : 26

अन्य देशों का GERD, GDP के प्रतिशत के हिसाब से

देश – GDP की तुलना में GERD
इज़राइल : 4.94%
जापान : 3.28%
जर्मनी : 3.13%
अमेरिका : 2.83%
फ्रांस : 2.19%
नीदरलैंड : 2.16%
चीन : 2.14%
नॉर्वे : 2.07%
कनाडा : 1.56%
इटली : 1.39%
ब्राजील : 1.16%
मलेशिया : 1.04%
रूसी : 0.98%
दक्षिण अफ्रीका : 0.83%
मिस्र : 0.72%
भारत : 0.65% (लगभग 0.7%)
अर्जेंटीना : 0.49%
मेक्सिको : 0.31%

भारत में GERD (ग्रोस एक्सपेंडिचर ऑन R&D) इतना कम क्यों?
– भारत जैसे विकासशील देशों में कई बड़ी चुनौतियां हैं। जैसे – भुखमरी, रोग नियंत्रण, बेहतर जीवन की समस्‍याए। देश इन समस्याओं में ही उलझा रहता है।
– इसलिए भारत R&D पर पर्याप्त खर्च नहीं कर पाता।
– इसके अलावा यह भी चुनौती है कि R&D पर होने वाले खर्च से अच्छा परिणाम मिलने में लंबा समय लगता है।

भारत में R&D की दशा
– R&D के मामले में भारत की कई कंपनियों की हालत खराब है।
– विश्वविद्यालय स्तर पर जो पढ़ाया जाता है, वह औद्योगिक स्तर पर बिलकुल मेल नहीं खाता है।

R&D के लिए नीति आयोग का क्या सुझाव?
– इंडेक्स के अनुसार जो देश GERD (ग्रोस एक्सपेंडिचर ऑन R&D) पर कम खर्च करते वह अपनी मानव पूंजी को बनाए रखने में विफल रहते है।
– क्योंकि मानव पूंजी से ही इनोवेशन किया जा सकता है।
– R&D पर कम खर्च करने के कारण नए साधन नहीं बन पाएंगे, जिससे लोग राज्य/देश से माइग्रेशन करने लगते है।
– इसी माइग्रेशन प्रोसेस को ही ब्रेन-ड्रेन कहते है, जोकि देश की इकोनॉमी पर सीधा असर डालता है।
– इसलिए GERD में सुधार करने की आवश्यकता है।
– GERD कम से कम 2% होना चाहिए।
– क्योंकि GERD अगर 2% रहेगी तो ही हम 5 ट्रिलियन इकोनॉमी का लक्ष्य प्राप्त कर पायेंगे।

————-
5. किस राज्‍य में ‘मुख्यमंत्री महतारी न्याय रथ यात्रा’ की शुरुआत हुई?

a. बिहार
b. उत्‍तर प्रदेश
c. पंजाब
d. छत्‍तीसगढ़

Answer: d. छत्‍तीसगढ़

– मुख्यमंत्री महतारी न्याय रथ यात्रा की शुरूआत दुर्ग जिले के पाटन ब्लॉक के करसा गांव से हुई।
– राज्य महिला आयोग के माध्यम से मुख्यमंत्री महतारी न्याय रथ यात्रा संचालित किया जा रहा है।
– रथ में संदेशों, शॉर्ट फिल्मों और ब्रोशरों के जरिये महिलाओं को कानून के अधिकारों के बारे में जानकारी अंकित है। हर रथ में 2 अधिवक्ता होंगे, जो महिलाओं की समस्याओं को सुनकर उनको सलाह देंगे।
– महिलाओं को कानूनी अधिकारों की जानकारी दी जाएगी।

छत्तीसगढ़
– मुख्यमंत्री: भूपेश बघेल
– राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष: डॉ किरणमयी नायकी

—————
6. सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एनवी रमना ने एक सभा के दौरान मीडिया के संदर्भ में ‘कंगारू कोर्ट’ का जिक्र किया, इसका अर्थ क्या है?

a. ऑस्ट्रेलिया की अदालत
b. जानवरों की अदालत
c. फैसला देनेवाली गैर-कानूनी अदालत
d. इनमें से कोई नहीं

Answer: c. फैसला देनेवाली गैर-कानूनी अदालत

– चीफ जस्टिस एनवी रमना ने 23 जुलाई 2022 को एक सभा में मीडिया के संदर्भ में ‘कंगारू कोर्ट’ का जिक्र किया।
– उन्होंने चिंता जताते हुए कहा कि मीडिया कंगारू कोर्ट को चला रहा है।
– रमना ने कहा कि प्रिंट मीडिया की अभी भी कुछ हद तक जवाबदेही है।
– लेकिन इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की कोई जवाबदेही नहीं होती है।
– सोशल मीडिया तो अभी भी बदतर है।
– मीडिया गलत सूचना और एजेंडे से भरी डिबेट्स और पक्षपात वाली खबरे चलाकर देश के लोकतंत्र को कमजोर कर रही है।
– मीडिया में भी विशेष रूप से सोशल मीडिया पर जजों के खिलाफ ठोस अभियान चलाए जा रहे है।
– उन्होंने ने कहा कि बढ़ते हुए मीडिया ट्रायल्स न्यायपालिका की स्वतंत्रता और संचालन पर असर डाल रहे हैं।
– मीडिया ट्रायल्स के हिसाब से एक केस का फैसला नहीं किया जा सकता।
– उन्होंने ने कहा कि मीडिया कंगारू कोर्ट को चलता है, जिससे कई बार मुद्दों पर अनुभवी जजों को भी फैसला करना मुश्किल हो जाता है।
– मैं मीडिया, विशेषकर इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया से सही ढंग से काम करने का आग्रह करता हूं।

कंगारू कोर्ट क्या है?
– ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी के अनुसार लोगों के एक समूह द्वारा आयोजित एक अनौपचारिक अदालत।
– जोकि किसी को बिना सबूत, बिना अपराध के दोषी करार देती है।
– आसान भाषा में समझे एक कोर्ट जहां अपने हिसाब से फैसला लिया जाता है।
– यह फैसला इस तरह से किया जाता है, जोकि अनुचित, पक्षपाती और वैधता का अभाव में होता है।

कंगारू कोर्ट का इतिहास
– शब्द की उत्पत्ति स्पष्ट रूप से ज्ञात नहीं है, लेकिन माना जाता है कि इसका उपयोग 19वीं शताब्दी से किया गया है।
– ‘कंगारू’ शब्द का प्रयोग क्यों किया जाता है यह भी स्पष्ट नहीं है, लेकिन इसके कई सिद्धांत हैं।
– कुछ शब्दकोशों का कहना है कि कंगारू जानवर के कारण इसका संबंध ऑस्ट्रेलिया से हो सकता है, हालांकि यह शब्द संभवतः अमेरिका में उत्पन्न हुआ है।
– इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार यह शब्द सबसे पहले कैलिफोर्निया में 1849-1850 के आसपास आया था।
– इस समय कैलिफोर्निया और उसके आसपास बड़े पैमाने पर सोने के भंडार की खोज की गई थी।
– उस समय, सोने के भंडार के लिए खुदाई करने वाले लगभग 800-1,000 ऑस्ट्रेलियाई पहुंचे थे।
– सोने को आपस में बाटने के लिए इन लोगों ने अपना एक सिस्टम बनाया होगा और वहीं से इस कंगारू कोर्ट शब्द की उत्पत्ति हुई होगी।
– इसके अलावा एक थ्योरी यह भी है शायद इसी दशक में कार्यवाही को संबोधित करने के लिए इस शब्द प्रयोग किया गया हो।

—————-
7. भारत के किस संस्थान ने मंकीपॉक्स की वैक्सीन बनाने के लिए वैक्सीन निर्माता कंपनियों से आवेदन मांगे?

a. IPM
b. PIMS
c. ICMR-NIV
d. NRC

Answer: c. ICMR-NIV (इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे)

– देश में पहली बार, ICMR-NIV ने मंकीपॉक्स वायरस स्ट्रेन को आइसोलेट (वायरस को लैब में रखा) कर लिया है।
– इस बात की जानकारी हेल्थ मिनिस्ट्री के अधिकारियों ने 27 जुलाई 2022 को दी।
– ICMR के पास अब मंकीपॉक्‍स वायरस के शुद्धिकरण (purification) करने की विधि (method) और प्रोटोकॉल के बौद्धिक संपदा अधिकार (Intellectual Property Rights) और कमर्शियल राइट्स है।
– अब ICMR मंकीपॉक्स की वैक्सीन के निर्माण के लिए आइसोलेट वायरस का प्रयोग कर सकता है
– ICMR-NIV ने मंकीपॉक्स के लिए स्वदेशी वैक्सीन और डायग्नोस्टिक किट के निर्माण के लिए एक एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (EOI) आमंत्रित किया है।
– ICMR कंपनियों के साथ कोलैबोरेट करके वैक्सीन का निर्माण करेगा।

ICMR-NIV ने मंकीपॉक्स का कौनसा वायरस स्ट्रेन पाया
– मंकीपॉक्स वायरस दो प्रकार के है।
– पहला जो सेंट्रल अफ्रीका से उत्पन्न हुआ।
– दूसरा जो वेस्ट अफ्रीका से उत्पन्न हुआ।
– स्ट्रेन की जांच के लिए मंकीपॉक्स भारतीय संक्रमित मरीजों के सैंपल लिए गए थे।
– जांच में भारतीय स्ट्रेन्स के जीनोमिक सीक्वन्स का वेस्ट अफ्रीका स्ट्रेन के साथ 99.85% मेल पाया गया है।
– मंकीपॉक्स प्रकोप इसी वेस्ट अफ्रीकन स्ट्रेन से फैला जोकि ज्यादा हानिकारक नहीं है।

—————-
8. विश्व रेंजर दिवस (World Ranger Day) कब मनाया जाता है?

a. 28 जुलाई
b. 29 जुलाई
c. 30 जुलाई
d. 31 जुलाई

Answer: d. 31 जुलाई

– यह दिवस ड्यूटी के दौरान मारे गए या घायल हुए रेंजरों को याद करने और और दुनिया की प्राकृतिक और सांस्कृतिक विरासत की रक्षा के लिए रेंजर्स के प्रयासों की जागरूकता के लिए मनाया जाता है।

रेंजर्स कौन हैं?
– रेंजर का काम प्रकृति का संरक्षण करना होता है।
– वन विभाग में रेंजर पद होता है, जो जंगल में घूमकर वन संपदा और जानवरों की रक्षा करता है।

————-
9. विश्व मानव तस्करी निरोधक दिवस (World Day Against Trafficking in Persons) कब मनाया जाता है?

a. 28 जुलाई
b. 29 जुलाई
c. 30 जुलाई
d. 31 जुलाई

Answer: c. 30 जुलाई

वर्ष 2022 की थीम- Use and Abuse of Technology

– इस दिवस को संयुक्‍त राष्‍ट्र ने घोषित किया हुआ है।
– मानव तस्करी (Trafficking in Persons) के शिकार लोगों की स्थिति के बारे में जागरूकता बढ़ाने और उनके अधिकारों के प्रचार और संरक्षण के लिए दिवस मनाया जाता है।

————-
10. अंतरराष्ट्रीय मित्रता दिवस (International Friendship Day) कब मनाया जाता है?

a. 28 जुलाई
b. 29 जुलाई
c. 30 जुलाई
d. 31 जुलाई

Answer: c. 30 जुलाई

– संयुक्त राष्ट्र महासभा ने वर्ष 2011 में अंतरराष्ट्रीय मैत्री दिवस को अपनाया था।


Leave a Reply