3 to 5 August 2022 Current Affairs

Spread the love

यह 3rd to 5th August 2022 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. अमेरिकी संसद के निचले सदन (हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव) की स्‍पीकर का नाम बताएं, जिनकी ताइपे यात्रा के बाद चीन से ताइवान का तनाव ऐतिहासिक रूप से बढ़ गया?

a. जो बाइडन
b. नैंसी पेलोसी
c. कमला हैरिस
d. एंटनी ब्‍लिंकन

Answer: b. नैंसी पेलोसी

– वह अमेरिकी संसद के निचले सदन हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव की स्‍पीकर हैं।
– USA की शासन प्रणाली में स्‍पीकर पद इंपॉर्टेंट होता है।
– अमेरिका में आपात स्थिति के लिए प्रेसिडेंट पद के उत्‍तराधिकारी के लिए नीति बनी हुई है।
– इसका नाम ‘United States presidential line of succession’ है।
– इसके अनुसार प्रेसिडेंट और वाइस प्रेसिडेंट के इस्‍तीफे, निधन, हटाए जाने या अक्षमता पर स्‍पीकर को प्रेसिडेंट का पद मिल जाएगा।
– मतलब कि प्रेसिडेंट और वाइस प्रेसिडेंट के बाद स्‍थान संसद (हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव) की स्‍पीकर का स्‍थान है।
– यही वजह है कि नैंसी की ताइवान यात्रा से चीन बौखला गया है।

नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा
– चीन लगातार कहता रहा था कि कि अगर नैन्‍सी पेलोसी का ताइवान दौरा हुआ, तो उसकी अखंडता पर हमला माना जाएगा।
– इसके बावजूद नैंसी US डेलिगेशन के साथ 2 अगस्त 2022 को ताइवान की कैपिटल ताइपे पहुंची थीं।
– नैंसी ने ताइवान की संसद को संबोधित किया, राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन से भी मुलाकात की।
– उन्‍होंने भाषण में साथ खड़े रहने का वादा किया और एक लॉ का हवाला दिया, जिसमें ताइवान और अमेरिका के रिश्‍ते निर्धारित होते हैं।

नैंसी की यात्रा के पीछे की रणनीति
– दरअसल, यूक्रेन पर रूस के हमले के मामले में यूएसए को हथियार देने अलावा कोई सीधी मदद नहीं कर पाया।
– इससे दुनिया में अमेरिका की साख पर झटका लगा है।
– नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा के जरिए अमेरिका ने दुनिया में अपने दबदबे का संकेत दिया है।

चीन ने बौखलाकर मिलिटरी ड्रिल किया
– नैंसी की यात्रा के बाद चीन अपनी तरफ से बाहें चढ़ाए हुए हैं। चीन ने कहा है कि अमेरिका ने बहुत गलत किया है।
– चीन की नेवी ने ताइवान के चारो तरफ युद्धपोत तैनात करके मिलिटरी एक्‍सरसाइज शुरू की है। ताइवान के हवाई क्षेत्र में उड़ान भर रहा है।
– अब चीन क्‍या करता है, उस पर निर्भर करेगा।
– दूसरी ओर अमेरिका ने संकल्‍प लिया हुआ है ताइवान की रक्षा का।
– अमेरिकी ने भी ताइवान के सपोर्ट के लिए चार युद्धपोत तैनात किया हुआ है।
– अगर तनाव बढ़ता है, तो यह युद्ध में तब्‍दील हो सकता है।

बाइडन प्रशासन ने किया बचाव
– बाइडन प्रशासन के प्रवक्‍ता ने कहा कि स्‍पीकर का ताइवान दौरान उनका अपना फैसला है।
– अमेरिका चीन को बार बार ये भरोसा दिलाने की कोशिश कर रहा है कि पेलोसी के दौरे से उसकी नीति में कोई बदलना नहीं आया है।
– वन चाइना पॉलिसी को वह सिद्धांततः मानता है और ‘ताइवान के इंडिपेंडेंस’ का समर्थक नहीं है।

चीन – ताइवान का विवाद क्‍या और क्‍यों है?
– ताइवान का आधिकारिक नाम Republic of China (ROC) है।
– जबकि चीन का आधिकारिक नाम People’s Republic of China है।
– पहले ताइवान, चीन का हिस्‍सा था। यहां दो मुख्‍य राजनीतिक दल थे- चाइनीज कम्‍युनिस्‍ट पार्टी और कांविंग तान पार्टी।
– चीन के बड़े हिस्‍से पर कांविंग तान पार्टी का कब्‍जा था।
– दोनों पार्टियों एक दूसरे के खिलाफ लड़ रही थी। इसी को चीन में सिविल वॉर (1927 – 1949) कहा जाता है।
– सिविल वॉर के अंत में चीन के बड़े हिस्‍से पर कम्‍युनिस्‍ट पार्टी का कब्‍जा हो गया।
– उस वक्‍त कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के लीडर माओ जेडोंग (माओ त्‍से तुंग) थे।
– दूसरी पार्टी कांविंग तान को भागना पड़ा और वे ताइवान पहुंच गए।
– कांविंग पार्टी के लीडर च्‍यांग काई-शेक थे।
– उस वक्‍त कम्युनिस्टों की नौसेना की ताकत न के बराबर थी। इसलिए माओ की सेना समंदर पार करके ताइवान पर नियंत्रण नहीं कर सकी।
– उसी के बाद ताइवान ने खुद को चीन के तौर पर अलग देश घोषित कर दिया। इसके पहले प्रेसिडेंट चांग काई शेक बनें।
– चीन ताइवान पर दावा करता है और कहता है कि वह उसी का एक हिस्‍सा है।
– लेकिन ताइवान खुद को अलग देश बताता है।
– शी जिनपिंग ने 2019 में साफ कर दिया कि वो ताइवान को चीन में मिलाकर रहेंगे। उन्होंने इसके लिए ‘एक देश दो सिस्टम’ का फॉर्मूला दिया। ये ताइवान को स्वीकार नहीं है और वो पूरी आजादी और संप्रभुता चाहता है।

भारत सहित ज्‍यादातर देशों का डिप्‍लोमेटिक संबंध नहीं
– चीन के दबाव में ही भारत सहित ज्‍यादातर देशों का राजनयिक संबंध (Diplomatic relations) ताइवान से नहीं है।

संयुक्‍त राष्‍ट्र में चीन
– सेकेंड वर्ल्‍ड वॉर के बाद चीन के रिप्रेजेंटेटिव के तौर पर च्‍यांग काई शेक ने 1945 में यूनाइटेड नेशंस चार्टर पर सिग्‍नेचर किया था।
– इसी दौरान UN सिक्‍योरिटी काउंसिल के पांच परमानेंट मेंबर्स में एक चीन भी बनाया गया।
– वर्ष 1949 में जब च्‍यांग काई-शेक अपने 20 लाख समर्थकों के साथ ताइवान चले गए, तब भी आधिकारिक रूप से ताइवान ही चीन के तौर पर संयुक्‍त राष्‍ट्र में था।
– लेकिन वियतनाम वॉर में जब अमेरिकी सैनिक बुरी तरह फंस गए, तब 1971 में वर्तमान चीन को संयुक्‍त राष्‍ट्र मान्‍यता मिली।
– चूकि चीन और सोवियत संघ वियतनाम में एक गुट को हथियार पहुंचा रहे थे और गुरिल्‍ला युद्ध कौशल में माहिर किया था, इसलिए अमेरिका के लिए हालत खराब हो गई थी।
– माना जाता है कि एक डील के तहत अमेरिका ने चीन को सपोर्ट किया और 1971 में यूनाइटेड नेशंस में ताइवान की जगह वर्तमान चीन को असली चीन की मान्‍यता मिली और सुरक्षा परिषद का स्‍थाई सदस्‍य बना।
– उसी दौरान तत्‍कालीन अमेरिकी प्रेसिडेंट रिचर्ड निक्‍सन ने चीन की यात्रा की थी।
– इसके कुछ साल में ही अमेरिका ने चीन के साथ रिश्ते बहाल किए और ताइवान के साथ अपने डिप्लोमैटिक रिश्ते तोड़ लिए।
– तब चीन और अमेरिका के बीच वन चाइना पॉलिसी का एग्रीमेंट हुआ था, जिसमें अमेरिका ने माना था कि ताइवान चीन का ही हिस्‍सा है।
– हालांकि चीन के ऐतराज के बावजूद अमेरिका ताइवान को हथियारों की सप्लाई करता रहा।
– अमेरिका भी दशकों से वन चाइना पॉलिसी का समर्थन करता है, लेकिन ताइवान के मुद्दे पर अस्पष्ट नीति अपनाता है।

————
2. चीन से तनाव के बीच LAC के पास भारत और USA के बीच किस राज्‍य में ‘युद्ध अभ्‍यास’ आयोजित होगा?

a. अरुणाचल प्रदेश
b. सिक्किम
c. उत्‍तराखंड
d. हिमाचल प्रदेश

Answer: c. उत्‍तराखंड

– मिलिटरी एक्‍सरसाइज का नाम ‘युद्ध अभ्‍यास’ है। यह 18वां संस्‍करण होगा।
– न्‍यूज एजेंसी PTI के अनुसार इसका आयोजन उत्‍तराखंड के औली में 14 से 31 अक्‍टूबर तक होगा।
– यह जगह LAC से इस जगह की दूरी 100 किलोमीटर से भी कम है।
– ‘युद्ध अभ्‍यास’ का पिछला संस्‍करण वर्ष 2021 में USA के अलास्‍का में आयोजित हुआ था।
– युद्धाभ्यास का उद्देश्य भारत और अमेरिका की सेनाओं के बीच समझ, सहयोग और अंतर-संचालन को बढ़ाना है।

क्‍यों महत्‍वपूर्ण है LAC के पास युद्धाभ्‍यास
– क्‍योंकि उत्तराखंड के बाराहोती क्षेत्र में बीते साल सितंबर में चीन के सैनिकों ने हरकत की थी।
– चीनी सैनिक भारतीय सीमा में करीब 5 किमी तक अंदर घुस आए थे।
– हालांकि कुछ ही घंटों में ये सैनिक वापस लौट गए थे।
– बताया जाता है कि बाराहोती में एक ऐसा चारागाह है जिसे लेकर दोनों देशों के बीच विवाद है. ये चारागाह 60 स्क्वॉयर किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है।

भारत अमेरिका के बीच पिछले कुछ डिफेंस एग्रीमेंट
– दोनों देशों ने पिछले कुछ सालों में महत्वपूर्ण रक्षा और सुरक्षा समझौते भी किए हैं।
– इनमें 2016 में लॉजिस्टिक्स एक्सचेंज मेमोरेंडम ऑफ एग्रीमेंट (LEMOA) भी शामिल है। यह एग्रीमेंट सेनाओं को आपूर्ति किए गए हथियारों की मरम्मत और एक-दूसरे के ठिकानों का उपयोग करने की अनुमति देता है।
– दोनों देशों ने वर्ष 2018 में COMCASA (कम्युनिकेशंस कंपेटिबिलिटी एंड सिक्योरिटी एग्रीमेंट) पर भी हस्ताक्षर किए थे। यह एग्रीमेंट दोनों सेनाओं के बीच हाई-एंड टेक्‍नोलॉजी के अंतर-संचालन की अनुमति देता है।
– वर्ष 2020 में BECA (बेसिक एक्सचेंज एंड कोऑपरेशन एग्रीमेंट) हुआ था। इसमें हाई-एंड मिलिटरी टेक्‍नोलॉजी, लॉजिस्टिक और जियोग्राफिकल मैप एक दूसरे को शेयर करने का प्रावधान है।

————
3. किस देश में निर्मित ‘रोमियो’ हेलिकॉप्टर (MH 60R मल्टी-रोल) नेवी में शामिल हुए?

a. अमेरिका
b. फ्रांस
c. रूस
d. इनमें से कोई नहीं

Answer: a. अमेरिका

– भारतीय नौसेना को 28 जुलाई 2022 को अमेरिका से दो MH 60R मल्टी-रोल हेलिकॉप्टर मिले।
– हेलीकॉप्टरों को अमेरिकी वायु सेना की स्पेशल असाइनमेंट मिशन फ्लाइट द्वारा वितरित किया गया।
– इन हेलिकॉप्टरों को INS विक्रांत पर तैनात किया जा सकता है।
– फरवरी 2020 में अमेरिकी सरकार के साथ चौदह हजार करोड़ रुपये से अधिक की लागत पर 24 MH 60R मल्टी-रोल हेलीकाप्टरों की खरीद के लिए समझौता हुआ था।
– यह दो हेलिकॉप्टर भी इसी समझौते के अंतर्गत वितरित किए गए हैं।
– इसी श्रेणी का एक और हेलिकॉप्टर अगस्त 2022 में वितरित किया जायेगा।
– इसके अलावा अभी 21 हेलिकॉप्टर और आएंगे।
– सभी 24 MH 60R मल्टीरोल हेलीकॉप्टरों की डिलीवरी 2025 तक पूरी हो जाएगी।

MH 60R मल्टी-रोल हेलिकॉप्टर
– इस हेलिकॉप्टर को अमेरिका की स्कोरस्की एयरक्राफ्ट कंपनी ने बनाया है।
– इसका अधिकतम टेक ऑफ वजन 10,433 किग्रा है।
– लंबाई 64.8 फीट है और ऊंचाई 17.23 फीट है।
– इस हेलिकॉप्टर में दो जनरल इलेक्ट्रिक के टर्बोशैफ्ट इंजन लगे हैं।
– यह हेलिकॉप्टर एक बार में 830 किमी तक की दूरी तय कर सकता है।
– यह अधिकतम 12 हजार फीट की ऊंचाई पर उड़ सकता है।
– इसमें मशीन गन, मिसाइल और तोप लगाई जा सकती है।
– इस हेलिकॉप्टर का प्रयोग निगरानी, जासूसी, हमला और सबमरीन खोजने में किया जाता है।
– इस हेलिकॉप्टर का प्रयोग अमेरिकी नौसेना, ऑस्ट्रेलियन नौसेना, तुर्की की नौसेना और हेलेनिक नौसेना (Greece) द्वारा किया जा रहा है।
– वर्ष 1979 से अब तक ऐसे 938 हेलिकॉप्टर बने हैं।

————
4. किस राज्य में वर्ष 2021 में सबसे ज्यादा विधानसभा बैठक हुई?

वर्ष 2021 में विधानसभा बैठकों के मामले में कौन सा राज्य शीर्ष पर रहा?

a. गोवा
b. महाराष्ट्र
c. केरल
d. उत्तर प्रदेश

Answer: c. केरल

– पीआरएस इंडिया की जुलाई 2022 में ‘एनुअल रिव्यू ऑफ स्टेट लॉ’ 2021 रिपोर्ट पब्लिश हुई है।
– इस रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2021 में देश में केरल सबसे ज्यादा विधानसभा बैठक करने वाला राज्य रहा।
– वर्ष 2021 में केरल 61 विधानसभा बैठकों के साथ शीर्ष पर रहा।
– इसके अलावा वर्ष 2016 से 2019 के बीच केरल 53 दिनों के औसत के साथ शीर्ष पर रहा।
– केरल में 144 अध्यादेश भी जारी किये गए, जो वर्ष 2021 में देश में सबसे अधिक थे।

वर्ष 2021 में विधानसभा बैठकों वाले टॉप-5 राज्य
केरल- 61
ओडिशा- 43
कर्नाटक- 40
तमिलनाडु- 34
बिहार- 32

केरल
राजधानी- तिरुवनंतपुरम
राज्यपाल- आरिफ़ मोहम्मद ख़ान
मुख्यमंत्री- पिनाराई विजयन

————-
5. दिल्‍ली पुलिस के नए कमिश्‍नर कौन बने?

a. आलोक सिंह
b. संजय अरोड़ा
c. अभय सिंह
d. अश्‍वनी कुमार पासवान

Answer: b. संजय अरोड़ा

– संजय अरोड़ा 1998 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं।
– वह तमिलनाडु कैडर से थे, लेकिन दिल्‍ली पुलिस का कमिश्‍नर बनाए जाने से ठीक पहले केंद्र सरकार ने उनका कैडर बदलकर AGMUT (Arunachal Pradesh, Goa, Mizoram and Union Territories) कर दिया।
– उन्‍होंने 01 अगस्त 2022 से दिल्ली पुलिस कमिश्नर अपना पद संभाला।
– इनसे पहले राकेश अस्थाना इस पद पर नियुक्त थे।
– इससे पहले वह ITBP के डीजी के पद से कार्य कर चुके हैं।
– वह मूल रूप से राजस्‍थान के रहने वाले हैं।

संजय अरोड़ा को कौन कौन से पुरस्‍कार मिले हैं?
– संजय अरोड़ा को वीरप्पन गिरोह के खिलाफ महत्वपूर्ण सफलता के लिए सीएम गैलंट्री मेडल से सम्मानित किया गया।
– वर्ष 2004 में सराहनीय सेवा के लिए पुलिस पदक, वर्ष 2014 में विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक, पुलिस विशेष कर्तव्य पदक, आंतरिक सुरक्षा पदक और संयुक्त राष्ट्र शांति पदक से भी सम्मानित किया जा चुका है।

दिल्‍ली
उप-राज्यपाल: विनय कुमार सक्‍सेना
सीएम: अरविंद केजरीवाल

————
6. प्रसिद्ध गायिका निर्मला मिश्रा का निधन 30 जुलाई 2022 को हो गया, वह किस राज्‍य से थीं?

a. बिहार
b. पंजाब
c. कर्नाटक
d. पश्चिम बंगाल

Answer: d. पश्चिम बंगाल

– उनका निधन दक्षिण कोलकाता के चेतला इलाके में उनके आवास पर हुआ।
– 81 साल की उम्र में उनका निधन हुआ।

कौन- कौन से पुरस्‍कार मिले-
– उन्‍हें बालकृष्ण दास पुरस्कार मिल चुका है।
– इसके अलावा पश्चिम बंगाल सरकार ने उन्हें ‘संगीत सम्मान’, ‘संगीत महासम्मन’ और ‘बंगभीभूषण’ पुरस्कारों से भी नवाजा है।

– उन्होंने उड़िया और बंगाली फिल्मों के लिए कई गाने गाए।

————
7. इंग्लैंड के लीसेस्टर क्रिकेट ग्राउंड का नाम किस पूर्व भारतीय क्रिकेटर के नाम पर रखा गया?

a. सचिन तेंदुलकर
b. सुनील गावस्‍कर
c. सौरव गांगुली
d. कपिल देव

Answer: b. सुनील गावस्‍कर

– ऐसा पहली बार है जब इंग्‍लैंड में किसी क्रिकेट स्‍टेडियम का नाम भारतीय क्रिकेटर के नाम पर रखा गया।
– इस स्‍टेडियम का नाम बदलने की पहल इंग्लैंड के सांसद कीथ वाज ने शुरू की थी।
– 23 जुलाई 2022 को लीसेस्टर क्रिकेट ग्राउंड के एक समारोह में इस स्टेडियम को नया नाम मिला।
– लीसेस्टर क्रिकेट ग्राउंड, जो भारत स्पोर्ट्स एंड क्रिकेट क्लब के स्वामित्व में है, भारतीय क्रिकेट को ऊंचाई तक ले जाने में उनके अपार योगदान के लिए गावस्कर का नाम दिया गया है।

गावस्‍कर के नाम पर और भी स्‍टेडियम
– तंजानिया के जांसीबार में भी गावस्‍कर के नाम पर स्‍टेडियम का नाम है।

सुनील गावस्‍कर के बारे में-
– इनका जन्म 10 जुलाई 1949 को मुम्बई (महाराष्ट्र) में हुआ था।
– वह 1971 से 1987 तक खेले और अपने शानदार करियर में कुल 13214 रन बनाए, जिसमें 35 शतक शमिल हैं।
– गावस्‍कर 10000 टेस्ट रन पूरे करने वाले पहले क्रिकेटर हैं।
– उन्होंने भारत के लिए 108 वनडे मैच और 125 टेस्ट मैच खेले।
– वह भारत के 1983 वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम का हिस्सा थे।

————-
8. असम के अतुलानंद गोस्‍वामी का निधन 27 जुलाई 2022 को हो गया, वह किस लिए प्रसिद्ध थे?

a. खिलाड़ी
b. गायक
c. साहित्‍यकार
d. पत्रकार

Answer: c. साहित्‍यकार

– वह 87 वर्ष के थे।
– अतुलानंद गोस्‍वामी को एक लघु कथाकार, एक साहित्यकार और एक उत्कृष्ट उपन्यासकार के रूप में जाना जाता था।
– उन्‍हें वर्ष 2006 में लघु संग्रह कहानी ‘सेने जरीर गांथी’ के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला था।
– उन्हें अम्बिका गिरी राय चौधरी साहित्य पुरस्कार, कुमार किशोर मेमोरियल पुरस्कार, कथा पुरस्कार और स्नेहा भारती साहित्य सम्मान पुरस्कार भी मिला।
– गोस्वामी ने अंग्रेजी, बंगाली और ओडिया ग्रंथों का असमिया में और असमिया ग्रंथों का अंग्रेजी में अनुवाद किया।

————-
9. विश्व हेपेटाइटिस दिवस (World Hepatitis Day) कब मनाया जाता है?

a. 30 जुलाई
b. 29 जुलाई
c. 28 जुलाई
d. 27 जुलाई

Answer: c. 28 जुलाई

– इस बीमारी की वजह से लिवर में सूजन आ जाती है।
– हेपेटाइटिस संक्रामक रोगों का एक समूह है, जिसे ए, बी, सी, डी, और ई में विभाजित किया गया है।
– आंकड़े बताते हैं कि हेपेटाइटिस के चलते पूरी दुनिया में हर 30 सेकंड में एक व्यक्ति की मौत हो जाती है।
– इस गंभीर बीमारी को देखते हुए वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने साल 2030 तक इसे खत्म करने का लक्ष्य रखा है।

इतिहास-
– नोबेल पुरस्कार विजेता वैज्ञानिक डॉ बारूक ब्लमबर्ग ने हेपेटाइटिस बी वायरस (hepatitis B virus- HBV) की खोज की और वायरस के लिए एक diagnostic test और टीका विकसित किया।
– 28 जुलाई को डॉ बारूक का जन्‍मदिन होता है इस दिन को हेपेटाइटिस दिवस के रूप में मनाया जाता है।

वर्ष 2022 की थीम- ‘आई कांट वेट (I Can’t Wait)’।

———–
10. अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस (International Tiger Day) कब मनाया जाता है?

a. 30 जुलाई
b. 29 जुलाई
c. 28 जुलाई
d. 27 जुलाई

Answer: b. 29 जुलाई

– वर्ल्ड टाइगर डे की शुरुआत साल 2010 से हुई जब इसे रूस में सेंट पीटर्सबर्ग टाइगर समिट में मान्यता दी गई थी।

————
11. विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस (World Nature Conservation Day) कब मनाया जाता है?

a. 30 जुलाई
b. 29 जुलाई
c. 28 जुलाई
d. 27 जुलाई

Answer: c. 28 जुलाई

– इस दिन को मनाने का उद्देश्य प्रकृति की रक्षा के बारे में जागरूकता बढ़ाना है।
– वर्ष 2022 की थीम: ‘कट डाउन ऑन प्लास्टिक यूज’है।
नोट – भारत सरकार ने 1 जुलाई 2022 से सिंगल यूज प्‍लास्टिक पर रोक लगा दी है।

————–
12. विश्व स्तनपान सप्ताह 2022 कब मनाया गया है?

a. 1 से 7 अगस्‍त
b. 2 से 8 अगस्‍त
c. 3 से 7 अगस्‍त
d. 4 से 9 अगस्‍त

Answer: a. 1 से 7 अगस्‍त

– यह दिवस अगस्‍त महीने के पहले सप्‍ताह को मनाया जाता है।
– इस दिवस को शिशुओं (babies) के लिए स्तनपान (Breastfeeding) की महत्ता पर जागरूकता लाने के लिए मनाया जाता है।
– वर्ष 1992 में पहला विश्व स्तनपान सप्ताह मनाया गया था।
– वर्ष 2022 की थीम: “स्तनपान शिक्षा और सहायता के लिए कदम बढ़ाएं”


 

Leave a Reply