19 Feb 2022 Current Affairs, 18th February 2022 Current Affairs, Current Affairs 19 February 2022, 19th February 2022 Current Affairs, Current Affairs 19th February 2022, Current Affairs 18 February 2022,

18th & 19th February 2022 Current Affairs

Spread the love

यह 18th & 19th February 2022 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. अहमदाबाद सीरियल बम ब्लास्ट के 38 दोषियों को फांसी की सजा स्‍पेशल कोर्ट ने सुनाई, यह ब्‍लास्‍ट कब हुआ था?

a. 26 जुलाई 2008
b. 25 जुलाई 2008
c. 26 जुलाई 2009
d. 26 जुलाई 2002

Answer: a. 26 जुलाई 2008

– अहमदाबाद में 26 जुलाई 2008 को महज 70 मिनट में 20 स्थानों पर 21 धमाके हुए थे।
– इसमें 56 लोग मारे गए और 200 से अधिक घायल हुए थे।
– स्‍पेशल कोर्ट के जज अंबालाल पटेल ने 18 फरवरी, 2022 को 6752 पन्नों का फैसला सुनाया।
– इसमें 49 आरोपियों को दोषी ठहराया गया और सबूतों के अभाव में 28 आरोपी बरी हो गए।
– कोर्ट ने 49 दोषियों में से 38 को फांसी और 11 को आखिरी सांस तक उम्र कैद की सजा सुनाई।
– इस घटना के बाद गुजरात की पुलिस ने दावा किया था कि आतंकी संगठन इंडियन मुजाहिदीन से जुड़े लोगों ने वर्ष 2002 में गुजरात दंगों (गोधरा कांड) का बदला लेने के लिए इन हमलों को अंजाम दिया था।

गुजरात
सीएम – भूपेंद्र पटेल
गवर्नर – आचार्य देवव्रत

——————–
2. भारत के बाहर यहां का UPI प्लेटफॉर्म अपनाने वाला दुनिया का पहला देश कौन है?

a. फ्रांस
b. नेपाल
c. अमेरिका
d. बांग्‍लादेश

Answer: b. नेपाल

– पड़ोसी देश नेपाल ने भारत के UPI प्लेटफॉर्म को अपने यहां लागू किया है। ऐसा करने वाला वह दुनिया का पहला देश और पहला पड़ोसी देश है।
– इस बात की जानकारी नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने 17 फरवरी 2022 को दी।
– इस सुविधा को NPCI इंटरनेशनल पेमेंट्स लिमिटेड (NIPL), गैटवे पेमेंट्स सर्विस (GPS) और मनम इनफोटेक द्वारा उपलब्ध करवाया जायेगा।
– GPS नेपाल में अधिकृत भुगतान प्रणाली (authorised payment system) ऑपरेटर है।
– मनम इन्फोटेक उस देश में यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) को तैनात करेगा।
– यह सहयोग नेपाल में बड़े डिजिटल सार्वजनिक हित में काम करेगा और पड़ोसी देश में इंटरऑपरेबल रीयल-टाइम पर्सन-टू-पर्सन (पी2पी) और पर्सन-टू-मर्चेंट (पी2एम) लेनदेन को बढ़ावा देगा।
– यह नेपाल और भारत के बीच वास्तविक समय सीमा पार पी2पी प्रेषण (cross-border P2P remittances) के लिए आगे का रास्ता भी सक्षम करेगा।

UPI
– इसका पूरा नाम Unified Payments Interface है।
– यह ऐसा कॉन्सेप्ट है, जो कई बैंक अकाउंट को एक मोबाइल एप्लीकेशन के जरिये रकम ट्रांसफर करने की इजाजत देता है. इसे नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ़ इंडिया (NPCI) ने विकसित किया है. इसका नियंत्रण रिजर्व बैंक और इंडियन बैंक एसोसियेशन के हाथ में है।
– इसके जरिए फंड ट्रांसफर बहुत तेजी से होता है।
– वर्ष 2021 में, UPI ने 940 बिलियन अमरीकी डालर के 3,900 करोड़ वित्तीय लेनदेन को सक्षम किया था।
– जोकि भारत के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) के लगभग 31 प्रतिशत के बराबर था।

——————
3. भारत का पहला राष्ट्रीय समुद्री सुरक्षा समन्वयक (NMSC) किसे नियुक्त किया गया है?

a. धीरेन्द्र प्रताप सिंह
b. अभिमन्यु राणा
c. जी. अशोक कुमार
d. अजयनाथ देव

Answer: c. जी. अशोक कुमार

– वह नौसेना के उपप्रमुख रह चुके हैं। वाइस एडमिरल के पद से रिटायर्ड हैं।
– केंद्र सरकार ने उन्‍हें देश का पहला राष्ट्रीय समुद्री सुरक्षा समन्वयक (NMSC) नियुक्त किया है।
– वह नेशनल सिक्‍योरिटी एडवाइजर (NSA) अजित डोभाल को रिपोर्ट करेंगे।
– NMSC राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद सचिवालय का हिस्सा होगा

NMSC (National Maritime Security Coordinator) के बारे में
– यह पद समुद्री सुरक्षा की दृष्‍टी से क्रिएट किया गया है।
– भारत का कोस्‍ट लाइन 7516.6 km लंबा है।
– दरअसल, वर्ष 2008 में मुंबई पर हुए 26/11 हमले को अंजाम देने के लिए आतंकी समुद्री सुरक्षा ध्‍वस्‍त करके पहुंचे थे।
– इस घटना के बाद डिफेंस मिनिस्ट्री ने मैरीटाइम सिक्योरिटी एडवाइजरी बोर्ड और एक मैरीटाइम सिक्योरिटी एडवाइजर को बनाने का सुझाव दिया था।
– लेकिन यह कई वर्षों तक पेंडिग रहा।
– फिर वर्ष 2021 में कैबिनेट कमेटी ने सुरक्षा को लेकर अतंतः NMSC का गठन किया।
– अब फरवरी 2022 में इस पद पर नियुक्ति की गई है।

NMSC के रूप में जी. अशोक कुमार क्या करेंगे?
– NMSC के रूप में, जी. अशोक कुमार समुद्री सुरक्षा और समुद्री नागरिक मुद्दों में शामिल सभी एजेंसियों को कोऑर्डिनेट करेंगे।
– उन्हें देश की ब्लू इकोनॉमी को भी बेहतर करने का टास्क दिया जायेगा।
– वह समुद्री सुरक्षा के सभी पहलुओं को देखेंगे।
– समुद्री मुद्दों पर स्वतंत्र रूप से काम करने वाले विभिन्न प्राधिकरणों (authorities) के बीच बेहतर समन्वय (coordination) सुनिश्चित करना भी उनकी जिम्मेदारी होगी।

जी. अशोक कुमार के बारे में
– वह नेशनल डिफेंस अकादमी के पूर्व छात्र रह चुके है।
– वर्ष 1982 में उन्हें नेवी की एक्जक्यूटिव ब्रांच में कमीशन दिया गया था।
– उन्होंने अपने नेवी के 40 साल के लंबे करियर में कई महत्वपूर्ण स्टाफ और असाइनमेंट्स को संभाला है।
– उन्होंने जुलाई, 2021 में नेवी से रिटायरमेंट लिया।

———————-
4. केंद्र सरकार ने दोपहिया वाहन पर कितनी उम्र तक के सभी बच्चों के लिए सेफ्टी हार्नेस और हेलमेट को अनिवार्य किया?

a. पांच साल से कम
b. चार साल से कम
c. तीन साल से कम
d. दो साल से कम

Answer: b. चार साल से कम

– सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय परिवहन मंत्रालय ने 15 फरवरी को Central Motor Vehicles Rules, 1989 में बदलाव का नोटिफिकेशन जारी किया।
– इसके तहत नौ महीने से लेकर चार साल से कम उम्र के बच्‍चों के लिए दो सिक्‍योरिटी इक्‍यूपमेंट अनिवार्य कर कर दिए गए।
– यह नियम नोटिफिकेशन के एक साल बाद (15 फरवरी 2023 से) लागू होगा।

क्‍या हैं नए नियम?
– इसके तहत बच्‍चों को सेफ्टी हार्नेस और हेलमेट अनिवार्य होंगे।
– इससे ऊपर के बच्‍चों के लिए पहले से ही हेलमेट अनिवार्य है।
– नए नियम के अनुसार जिस दोपहिया वाहन में चार वर्ष तक के बच्‍चे सवार होंगे, उसकी अधिकतम रफ्तार 40 किलोमीटर प्रतिघंटा होगी।

नियम के उल्‍लंघन पर कितना जुर्माना?
– इस नियम का पालन न करने पर एक हजार रुपए का जुर्माना और तीन महीने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस निलंबित हो सकता है।

क्‍या होता है सेफ्टी हार्नेस?
– आपने कभी ऊंची बिल्डिंग या टावर पर काम करते हुए मजदूर को देखा होगा। उसके शरीर में एक खास तरह की बेल्‍ट लगी होती है, जो कंधे से लेकर कमर तक होती है। इसे हार्नेस कहते हैं।
– यह सभी तरह की उम्र के लोगों के लिए होता है।
– बच्‍चों का हार्नेस केवल कंधा और छाती व पीठ तक का होता है। इसे वेस्‍ट या बनियान भी कहा जाता है।

बच्‍चों के लिए किस तरह का सेफ्टी हर्नेस का नियम
– सेफ्टी हार्नेस में एक बच्चे द्वारा पहना जाने वाला वेस्‍ट या बेल्‍ट और चालक द्वारा पहना जाने वाला पट्टा होगा।
– दोपहिया वाहन चलाते समय ये दोनों एक दूसरे से जुड़े रहेंगे। ताकि बच्‍चे के साथ दुर्घटना न हो।

बच्‍चों की सड़क दुर्घटना में मौत के आंकड़े
– सेवलाइफ फाउंडेशन के CEO के अनुसार वर्ष 2020 में 14 साल से कम उम्र के 2,700 से ज्यादा बच्चों और 18 साल से कम उम्र के 14,000 से ज्यादा बच्चों की सड़क दुर्घटनाओं में मौत हो गई।
– बच्चों में मौत का सबसे आम कारण अनजाने में लगी चोट है और अनजाने में चोट लगने का सबसे आम कारण अक्सर सड़क दुर्घटनाएं होती हैं।

– सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री- नितिन गडकरी

——————
5. भारत ने पहली बार किस संगठन के सचिवालय को सांप्रदायिक मानसिकता वाला बताया?

a. WHO
b. OIC
c. WTO
d. SARC

Answer: b. OIC (Organisation of Islamic Cooperation)

– भारतीय विदेश मंत्रालय ने फरवरी 2022 में कहा कि OIC का सेक्रेट्रेरिएट, सांप्रदायिक मानसिकता और निहित स्‍वार्थों वाला है।

भारत ने ऐसा क्‍यों कहा?
– दरअसल, OIC ने भारत में चल रहे हिजाब विवाद पर एक-के-बाद एक ट्वीट किया।
– इसमें OIC सचिवालय ने इंटरनेशनल कम्यूनिटी खास तौर पर यूनाइटेड नेशन मैकेनिज्म और मानवाधिकार परिषद की स्पेशल प्रोसीजर से इस मामले में दखल की अपील की है।
– इसके बाद विदेश मंत्रालय ने 15 फरवरी 2022 को इस पर प्रतिक्रिया दी।

भारत ने क्‍या कहा?
– विदेश मंत्रालय ने कहा कि OIC अपने निहित स्वार्थों के साथ भारत के खिलाफ अपने नापाक प्रचार को आगे बढ़ाना चाहता है।
– ऐसा करके OIC हमेशा अपनी रेप्यूटेशन खराब करता रहता है।
– भारत एक लोकतंत्र है, और देश के भीतर के मुद्दों को “हमारे संवैधानिक ढांचे और तंत्र के साथ-साथ लोकतांत्रिक लोकाचार और राजनीति के अनुसार” हल किया जाता है।

OIC क्या है?
– इस्लामिक सहयोग संगठन (OIC) दुनिया के 57 देशों का बहुपक्षीय संगठन है।
– स्थापना वर्ष 1969 में हुई थी।
– OIC को मुख्य रूप से सऊदी अरब द्वारा कंट्रोल किया जाता है।
– संयुक्त राष्ट्र के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा बहुपक्षीय निकाय (multilateral body) है।
– इसका उद्देश्य “दुनिया के विभिन्न लोगों के बीच अंतर्राष्ट्रीय शांति और सद्भाव को बढ़ावा देने के लिए मुसलमानों के हितो की रक्षा करना है।”
– संगठन की स्थापना वर्ष 1969 में एक 28 वर्षीय ऑस्ट्रेलियाई द्वारा जेरूएलम में अल-अक्सा मस्जिद में आगजनी (आग लगाना) की घटना के बाद इस्लाम की रक्षा करने के लिए हुई थी।
– इसको वर्ष 2011 तक इस्लामी सम्मेलन का संगठन (Organisation of Islamic Conference) बोला जाता था।

भारत और OIC
– दुनिया के दूसरे सबसे बड़े मुस्लिम समुदाय वाले देश के रूप में भारत को 1969 में रबात में OIC के संस्थापक सम्मेलन में आमंत्रित किया गया था।
– लेकिन पाकिस्तान के इशारे पर अपमानजनक तरीके से बाहर कर दिया गया था।
– उस समय तत्कालीन कृषि मंत्री फखरुद्दीन अली अहमद को मोरक्को पहुंचने पर आमंत्रित नहीं किया गया था।
– वर्ष 2006 जैसे ही भारत की इकोनॉमिक स्थिति सुधरी और अमेरिका से अच्छे रिश्ते हुए।
– तब सऊदी अरब ने भारत को एक पर्यवेक्षक (Observer) के रूप में आमंत्रित किया।
– लेकिन भारत ने इस निमंत्रण को ठुकरा दिया था।
– दरअसल, भारत एक धर्मनिरेपेक्ष राष्ट्र के रूप में एक धर्मसंगठन नहीं जॉइन करना चाहता था।
– और अच्छे संबंध बनने से कश्मीर का मुद्दा भी उठाया जा सकता था।
– वर्ष 2018 में एक बार फिर से भारत को निमंत्रण भेजा गया और बांग्लादेश ने भारत को पर्यवेक्षक (Observer) स्टेस्स देने की बात भी कही।
– तब पकिस्तान ने इस फैसले का विरोध किया था।

OIC को कई बार जवाब दे चुका है भारत
– भारत 1990 से ही लगातार OIC को तीखे जवाब देते आ रहा है।
– यूएई और सऊदी अरब से अच्छे संबंध होने के कारण भारत OIC के समूहीकरण (grouping) वाले बयानों पर बेझिझक जवाब देता है।
– भारत ने लगातार इस बात को रेखांकित किया है कि जम्मू-कश्मीर “भारत का अभिन्न अंग” है और इस मुद्दे पर OIC को टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है।
– वर्ष 2019 में, भारत ने OIC के विदेश मंत्रियों की बैठक में “गेस्ट ऑफ ऑनर” के रूप में अपनी पहली उपस्थिति दर्ज करवायी।
– तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज 1 मार्च, 2019 को अबू धाबी में उद्घाटन पूर्ण सत्र को संबोधित किया था।
– उनको संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायद अल नाहयान ने आमंत्रित किया था।
– यह आमंत्रण पुलवामा अटैक के बाद पकिस्तान से तनाव बढ़ जाने के बाद दिया गया था।
– इस आमंत्रण ने भारत को डिपोलोमेटिक रूप से मजबूती प्रदान की थी।
– हालांकि पकिस्तान ने इस आमंत्रण पर विरोध जताया था।

हिजाब पर क्या है विवाद?
– यह विवाद मुख्‍य तौर पर कर्नाटक में शुरू हुआ।
– यहां बीते साल 2021 में उडुपी (कर्नाटक) के गवर्नमेंट पीयू कॉलेज में हिजाब पहनने के कारण छह छात्राओं को क्लास में बैठने की अनुमति नही दी गई थी।
– जिसके बाद 31 दिसंबर 2021 को इन छात्राओं ने भारी विरोध प्रदर्शन किया।
– छात्राओं ने कहा कि उन्हें विवाद के बाद से क्लास में बैठने नहीं दिया जा रहा हैं।
– इसके बाद फरवरी में भी हिजाब पहनकर आने वाली छात्राओं को ट्रोल किया।
– छात्राओं ने इस फैसले के विरोध में कर्नाटक हाईकोर्ट में एक याचिका भी दायर की।

विवाद कैसे बढ़ा?
– उडुपी में विवाद के बाद कुंडापुरा के गवर्नमेंट प्री यूनिवर्सिटी कॉलेज में लड़कों का एक ग्रुप हिजाब पहनने वाली लड़कियो के विरोध में भगवा गमछा पहनकर आ गया।
– इसके बाद कर्नाटक के कई कॉलेजो से ऐसे मामले सामने आने लगे।

—————-
6. तुर्की के राष्ट्रपति ने अपने देश का नाम बदलकर क्या कर दिया है?

a. तुर्किस
b. तुर्किम
c. तुर्किये
d. तुर्किन

Answer: c. तुर्किये (Turkiye)

– तुर्की के राष्ट्रपति रेचप तैयप एर्दोगन ने अपने देश का नाम अब तुर्किये कर दिया है।
– एर्दोगन ने एक बयान जारी कर इसके बारे में बताया है। साथ ही अंतरर्राष्‍ट्रीय संगठनों से इन नाम के इस्‍तेमाल करने को कहा है।
– उनका कहना है कि तुर्किये शब्द तुर्की राष्ट्र की संस्कृति, सभ्यता और मूल्यों को बेहतरीन तरीके से दर्शाता है।

तुर्किये ही क्यों चुना-
– सदियों से यूरोपीय लोगों ने इस देश को पहले ओटोमन स्टेट और फिर तुर्किये नाम से संबोधित किया।
– वर्ष 1923 में पश्चिमी देशों के कब्जे से आजाद होने के बाद तुर्की को तुर्किये नाम से ही जाना गया था।
– टर्किश भाषा में तुर्की को तुर्किये कहा जाता है। बाद में इसे तुर्की कहा जाने लगा और इस देश ने भी इसे ही अपना लिया।

– तुर्की नाम से अमेरिका में एक मशहूर पक्षी होता है। अमेरिका में मनाए जाने वाले थैंक्सगिविंग त्योहार में इस पक्षी के मीट से कई तरह के पकवान बनाए जाते हैं।
– एक्सपर्ट्स का कहना है कि नाम बदलना कोई असामान्य बात नहीं है. ये फैसला देश की ब्रांडिंग से जुड़ा होता है।

इन देशों ने भी बदले हैं नाम
– नीदरलैंड ने दुनिया में अपनी छवि को आसान बनाने के लिए ‘हॉलैंड’ नाम को हटा दिया था।
– उससे पहले, ‘मैसेडोनिया’ ने ग्रीस के साथ एक राजनीतिक विवाद के कारण नाम बदलकर उत्तरी मैसेडोनिया कर दिया था।
– वर्ष 1935 में ईरान ने अपना नाम फारस से बदल लिया था, पश्चिमी देशों में फारस शब्द का इस्तेमाल किया जाता था।
– फारसी में ईरान का अर्थ पर्शियन है, उस समय यह माना गया था कि देश को स्थानीय रूप से यूज किए जाने वाले नाम से ही पुकारना चाहिए न कि ऐसा नाम जो बाहर के लोग जानते हैं।

——————
7. किस पड़ोसी देश के चीफ जस्टिस शमशेर जेबी राणा के खिलाफ भ्रष्‍टाचार के आरोप में वहां की संसद में महाभियोग प्रस्‍ताव पेश हुआ?

a. भूटान
b. श्रीलंका
c. बांग्‍लादेश
d. नेपाल

Answer: d. नेपाल

– उनके खिलाफ 13 फरवरी 2022 को संसद में महाभियोग प्रस्‍ताव पेश हुआ।
– सत्तारूढ़ गठबंधन में शामिल नेपाली कांग्रेस, माओवादी समेत अन्य दलों के 98 सांसदों ने यह प्रस्‍ताव संसद सचिवालय को दिया।
– नेपाल सुप्रीम कोर्ट के judges और वकील कई दिनों से धरना दे रहे हैं और चीफ जस्टिस पर कार्यालय आने पर पाबंदी और इस्तीफे की मांग कर रहे हैं।
– पिछले सात वर्षों में संसद में “महाभियोग” प्रक्रिया का सामना करने वाले चोलेंद्र शमशेर राणा नेपाल के दूसरे मुख्य न्यायाधीश बने।

दो तिहाई बहुमत से प्रस्ताव पास होने पर पद से हटा दिया जाएगा
– यदि महाभियोग प्रस्ताव प्रतिनिधि सभा या संसद में मौजूद सदस्यों के दो तिहाई बहुमत से पास हो जाता है तो चीफ जस्टिस को उनके पद से हटा दिया जाएगा।
– इससे पहले वर्ष 2017 में तत्कालीन चीफ जस्टिस (contemporaneous chief Justice) सुशीला कर्की के खिलाफ भी महाभियोग प्रस्ताव पेश किया गया था।

नेपाल की राजधानी- काठमांडु
मुद्रा- Nepalese rupee (नेपाली रुपया)
राष्ट्रपति- विद्यादेवी भण्डारी
प्रधानमंत्री- शेर बहादुर देउवा

——————
8. CBSE (Central Board of Secondary Education) का प्रभारी अध्‍यक्ष किसे बनाया गया?

a. विनीत जोशी
b. मनोज मित्‍तल
c. आदि प्रकाश
d. साहिल आहूजा

Answer: a. विनीत जोशी

– विनीत जोशी मणिपुर कैडर के 1992 बैच के IAS अधिकारी हैं।
– 14 फरवरी 2022 को उनकी नियुक्ति की गई है।
– उन्‍होंने IAS अधिकारी मनोज आहूजा की जगह ली।
– विनीत जोशी वर्ष 2010 में भी CBSE अध्‍यक्ष का प्रभार ले चुके हैं।
– वह राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (NTA) के महानिदेशक भी रह चुके हैं।

CBSE मुख्‍यालय- दिल्ली
स्थापना- 3 नवंबर 1962

——————
9. यूक्रेन से तनाव के बीच रूस ने किस देश के डिप्लोमैट को देश से बाहर निकाला?

a. अमेरिका
b. इंग्लैंड
c. यूक्रेन
d. जर्मनी

Answer: a. अमेरिका

– यूक्रेन मुद्दे को लेकर रूस और अमेरिका में काफी लंबे समय से तनाव चल रहा है।
– इसी तनाव के बीच रूस ने अब अमेरिका के नंबर दो डिप्लोमैट बार्ट गोर्मन को मॉस्को एम्बेसी से बाहर निकाल दिया है। उन्हें देश को छोड़ने के निर्देश दिए गए है।
– इस बात की जानकरी अमेरिका ने 16 फरवरी 2022 को दी।

अमेरिका ने इस कदम को बताया भड़काऊ
– अमेरिका ने इस कदम को भड़काऊ बताया है।
– और कहा कि इस तरह के कदम सिर्फ तनाव ही बढ़ेगा।
– हालांकि,अमेरिका का मानना है कि यह कदम रूस ने बहुत सूझ-बूझ कर उठाया है।
– वर्ना वह अमेरिका के चीफ एम्बेसेडर जॉन सुलिवान को भी देश छोड़ने के लिए कह सकता था।

इस कदम मतलब है हमला
– अमेरिका ने कहा कि डिप्लोमैट को देश से निकाला जाना यह साफ जाहिर करता है कि रूस हमले के लिए तैयार है। और वह पश्चिमी देशों से लड़ने के लिए तैयार है।

बेलारूस के राष्ट्रपति ने माहौल गर्म किया
– रूस के सर्मथक देश बेलारूस के राष्ट्रपति एलेक्जेंडर लुकाशेंको ने बयान जारी किया है।
– उन्‍हें यूक्रेन-रूस विवाद को लेकर अमेरिका को धमकी भी दी है।
– लुकाशेंको ने नाटो देशों की ओर इशारा करते हुए परमाणु अटैक करने की धमकी दी है।

UNSC में अमेरिका ने जताई हमले की आंशका
– UNSC में 17 फरवरी 2022 को हुई बैठक में अमेरिका के सेक्रेटरी ऑफ स्टेट एंटनी ब्लिंकेन ने कहा कि रूस,यूक्रेन पर कभी भी हमला कर सकता है।
– ब्लिंकेन ने कहा कि रूस यूक्रेन पर हमला करने का एक बहाना ढू़ढ़ रहा है।
– रूस फर्जी आरोप लगाकर हमला कर सकता है। जैसे कि यूक्रेन ने रूस पर केमिकल अटैक किया। इस तरह कि आरोप लग सकते हैं।
– इस पर प्रतिक्रिया देते हुए रूस के डिप्टी विदेश मंत्री सर्गेई वर्शिनिन ने कहा कि यह आरोप बेबुनियाद है और इस तरह के बयान तनाव को और बढ़ा सकते है।
– उन्होने कहा कि रूस की सेनाए रूसी क्षेत्र में है और कुछ यूनिट्स अपने बेस पर वापस लौट रही है

——————-
10. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने सभी तरह की तंबाकू का इस्‍तेमाल छोड़ने के लिए कौन सा ऐप लॉंच किया?

a. QuitCigarette
b. QuitNarcotic
c. QuitTobacco
d. इनमें से कोई नहीं

Answer: c. QuitTobacco

– WHO दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र (SEAR) ने ‘QuitTobacco’ ऐप 15 फरवरी 2022 को लॉच किया।
– यह एप्लिकेशन लोगों को धूम्रपान रहित और अन्य नए उत्पादों सहित सभी रूपों में तंबाकू को छोड़ने में मदद करता है।
– ऐप को WHO-SEAR की क्षेत्रीय निदेशक, डॉ पूनम खेत्रपाल सिंह ने WHO के साल भर चलने वाले ‘कमिट टू क्विट’ अभियान के दौरान लॉन्च किया।
– WHO का ये इस तरह का पहला एप है जो तंबाकू छोड़ने में फोकस करता है।
– तंबाकू का किसी भी तरह से इस्‍तेमाल करने वाला व्‍यक्ति इसकी लत छोड़ने में ऐप की मदद ले सकता है।
– तंबाकू से हर साल करीब 8 मिलियन लोगों की मौत होती है।

WHO का मुख्यालय- जिनेवा (स्विट्जरलैंड)
स्थापना- 7 अप्रैल 1948
महानिदेशक- टैड्रोस ऐडरेनॉम

——————
11. टेनिस फेडरेशन ऑफ इंडिया (TTFI) के संचालन के लिए प्रशासकों की समिति अध्यक्ष किसे नियुक्‍त किया गया है?

a. प्रियंका शिवहरे
b. सरोजनी साहू
c. गीता मित्तल
d. प्रीति शर्मा

Answer: c. गीता मित्तल

– गीता मित्तल जम्मू-कश्मीर उच्च न्यायालय की पूर्व मुख्य न्यायाधीश (Former J-K High Court Chief Justice) रह चुकी हैं।
– ये नियुक्ति दिल्‍ली हाईकोर्ट की जज रेखा पाटिल की पीठ ने की है।
– गीता मित्तल को अध्यक्ष, चेतन मित्तल, वरिष्ठ अधिवक्ता और एथलीट एसडी मुदगिल को समिति के सदस्य के रूप में नियुक्त किया है।
– कोर्ट ने आदेश दिया कि TTFI की ओर से किसी भी खिलाड़ी या अंतरराष्ट्रीय खेल निकायों के साथ सभी संचार अब केवल प्रशासकों की समिति के माध्यम से होंगे।

TTFI के अध्यक्ष- दुष्यंत चौटाला
TTFI का मुख्यालय- नई दिल्ली
स्थापना- 1926

——————
12. मरू उत्सव (Desert Festival) किस राज्‍य में फरवरी 2022 में आयोजित हुआ?

a. गुजरात
b. राजस्‍थान
c. हरियाणा
d. पंजाब

Answer: b. राजस्‍थान

– मरू उत्सव का आयोजन 13 से 16 फरवरी 2022 को हुआ।
– इस उत्‍सव का आयोजन राजस्‍थान के जैसलमेर के पोखरण गांव में हुआ।
– राजस्‍थान टूरिज्‍म डिपार्टमेंट ने इस बार के उत्सव को “उम्मीदों की नई उड़ान” नाम दिया है।
– यह फेस्टिवल थार डेसर्ट के बीच मनाया जाता है।
– चार दिन तक चलने वाले इस प्रोग्राम में जुलूस निकाला जाता है साथ ही मिस और मिसेज पोखरण प्रतियोगिताएं आयोजित की गईं।
– इसमें राजस्‍थान के क्षेत्रीय डांस जैसे कच्‍छी घोड़ी, कालबेलिया, गैर का प्रदर्शन किया जाता है।

——————
13. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) ने जनवरी 2022 के लिए ‘फीमेल प्‍लेयर ऑफ द मंथ’ का अवार्ड किसे मिला?

a. हीथर नाइट
b. स्‍मृति मंधाना
c. पूनम यादव
d. कीगन पीटरसन

Answer: a. हीथर नाइट

– इंग्लैंड की हीथर नाइट (Heather Knight) को महिला वर्ग में यह सम्‍मान दिया गया है।
– हीथर ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कैनबरा में एकमात्र एशेज टेस्ट में इंग्लैंड की कप्तानी की और मैच में शीर्ष स्कोरर रहीं।

मेल प्‍लेयर ऑफ द मंथ का अवार्ड कीगन पीटरसन (दक्षिण अफ्रीका) को मिला।

 


Free Download Notes PDF of Toady’s Current Affairs : – Click Here