18th to 21st March 2022 Current Affairs

Spread the love

यह 18th to 21st March 2022 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. अंडमान सागर और बंगाल की खाड़ी में बने चक्रवाती तूफान का नाम ‘आसनी’ किस पड़ोसी देश ने रखा?

a. पाकिस्‍तान
b. म्‍यांमार
c. नेपाल
d. श्रीलंका

Answer: d. श्रीलंका

– यह वर्ष 2022 में भारत में बना पहला साइक्‍लोन है।
– मौसम विभाग का कहना है कि यह चक्रवाती तूफान अंडमान-निकोबार होते हुए 22 मार्च तक म्‍यांमार और बांग्‍लादेश के तटों के पास पहुंचेगा।

बेहद खास है यह चक्रवात
– दरअसल, मार्च महीने में आमतौर पर अरब सागर और बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती तूफान आमतौपर पर नहीं बनते हैं।
– पिछले 132 साल (1891 – 2022) के बीच “मार्च” महीने में अब तक सिर्फ 8 साइक्‍लोन बने हैं। इनमें दो अरब सागर में और 6 बंगाल की खाड़ी में।
– IMD (भारत मौसमविज्ञान विभाग) के निदेशक मृत्‍युंजय मोहापात्रा का कहना है कि मार्च महीने में तूफान आना असामान्‍य है।

– अंडमान-निकोबार में बचाव और राहत अभियान के लिए NDRF के जवानों को विभिन्न स्थानों पर तैनात कर दिया है।
– मछली पकड़ने, पर्यटन और शिपिंग गतिविधियों को रोक दिया गया है।
– भारतीय सेना, नौसेना, वायु सेना और इंडियन कोस्ट गार्ड स्टैंड बाई पर है।

हिन्‍द महासागर के तूफान कैसे तय होते हैं?
– हिन्द महासागर क्षेत्र के 8 देशों (भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका, बांग्लादेश, मालदीव, म्यांमार, ओमान और थाईलैंड) ने भारत की पहल पर 2004 से चक्रवाती तूफानों को नाम देने की व्यवस्था शुरू की थी।
– इसके बाद 2018 में इसमें ईरान, कतर, सऊदी अरब, यूएई और यमन भी जुड़ गए।
– ये 13 देश पहले से ही नाम का लिस्‍ट बनाकर रखते हैं।
– जैसे ही चक्रवात इन 8 देशों के किसी हिस्से में पहुंचता है, सूची में मौजूद अलग नाम इस चक्रवात को दिया जाता है।
– इससे चक्रवात की न केवल आसानी से पहचान हो जाती है बल्कि बचाव अभियानों में भी इससे मदद मिलती है. किसी भी नाम को दोहराया नहीं जाता है।
– तूफान का नाम रखने की व्‍यवस्‍था संयुक्‍त राष्‍ट्र के निर्देशन में बनी हुई है।

चक्रवाती तूफान कैसे बनते हैं?
– जब समुद्र में कम दबाव का क्षेत्र बनता है, तब चक्रवाती तूफान उठता है।
– यहां सवाल होगा कि समुद्र में कम दबाव का क्षेत्र क्‍या होता है और यह कैसे बनता है?
– इसके लिए ग्‍लोबल वार्मिंग जिम्‍मेदार है।
– जब समुद्र का तापमान बढ़ता है या कहें कि जब समुद्र गर्म होना शुरू होता है, तो उसकी गर्मी से हवा ऊपर उठती है और उस खाली जगह (इससे एक वैक्‍युम सा क्षेत्र) को भरने के लिए आस-पास की हवा दौड़ती है। इसी को कम दबाव का क्षेत्र कहते हैं।
– चूकि समुद्र बहुत विशाल होते हैं, तो इसलिए यह प्रक्रिया बहुत विशाल होती जाती है।
– चूकि, गर्म हवा ऊपर चली तो जाती है और बड़े इलाके से हवा यहां आती, लेकिन ऊपर उठने वाली हवा भी ठंडी होती है, क्‍योंकि जैसे-जैसे हम ऊंचाई पर जाएंगे, तो तापमान कम होता जाता है।
– ऐसे में ऊपर की हवा, जो ठंडी हो चुकी है वह भी नीचे आना चाहती है और यह तूफान में बदल जाता है।
– हवा बहुत तेजी से घूमती है।

– समुद्र, धरती में ग्‍लोबल वार्मिंग या गर्मी को सोखने में बड़ा योगदान है।
– एक तरह से कह सकते हैं कि चक्रवाती तूफान के जरिए समुद्र खुद को ठंडा रखने की कोशिश करता है।

तूफान से नुकसान
– चक्रवाती तूफान आते हैं तो बहुत नुकसान करते हैं।
– विश्‍व मौसम संगठन की रिपोर्ट के अनुसार 2020 में भारत-बांग्‍लादेश में अम्‍फान तूफान आया था, उससे एक लाख करोड़ का नुकसान हुआ था।
– जैसे जैसे ग्‍लोबल वार्मिंग बढ़ेगी, तो इससे तूफान के ताकत बढ़ेंगे।
– इससे जानमाल को क्षति होगी।
– भारत के 65 से 70 जिले तट पर है। 75 सौ किलोमीटर का तट रेखा है।
– तूफान लगातार अर्थव्‍यवस्‍था को खोखला करेंगे।
– एक दशक में दो प्रतिशत का जीडीपी में नुकसान हुआ, तूफान से।
– जलवायु परिवर्तन भारत जैसे देश को काफी नुकसान पहुंचाता है।
– अमीर देशों में जीडीपी में ज्‍यादा दिक्‍कत नहीं हो रही है, क्‍योंकि उनके पास नुकसान सहने की आर्थिक क्षमता बहुत बेहतर है।
– पिछले पचास साल में भारत में मौसमी कारणों से जुड़ी घटनाएं (जैसे तूफान, सूखा) नहीं होतीं तो भारत की जीडीपी तीस प्रतिशत ज्‍यादा होती।

—————-
2. दुनिया में पहली बार युद्ध में हाइपरसोनिक मिसाइल से हमला किस देश ने किया?

a. यूएसए
b. यूक्रेन
c. ब्रिटेन
d. रूस

Answer: d. रूस

– रूस ने यूक्रेन पर ‘किन्झॉल’ हाइपरसॉनिक मिसाइल दागने का दावा किया है।
– रूस ने यह दावा 19 मार्च को किया।
– किन्झॉल रूसी भाषा का शब्द है, जिसका मतलब खंजर होता है।
– रूस का कहना है कि उसने इस मिसाइल से यूक्रेन के पश्चिमी इलाके में बने हथियार डिपो को तबाह कर दिया।
– इसके जरिए रूस ने यूक्रेन की सत्‍ता पर शांति समझौते के लिए दबाव बनाने की कोशिश की है।

किन्झॉल की खासियत
– व्लादिमिर पुतिन इस मिसाइल को ‘आइडियल वेपन’ कहते हैं।
– मारक क्षमता : 1,500 से 2000 किलोमीटर। परमाणु बम भी गिरा सकती है।
– पहली टेस्टिंग कब हुई : वर्ष 2018 में।
– कितनी रफ्तार : 5 से 10 मैक। साउंड से 10 गुना ज्‍यादा रफ्तार। (3km/second) इस स्‍पीड की वजह से अत्‍याधुनिक एयर डिफेंस सिटम भी इसके सामने फेल है।
– इस मिसाइल पर परमाणु और कन्वेंशनल दोनों तरह के हथियार ले जा सकते हैं।
– रूसी सेना में कब शामिल हुई : वर्ष 2018 में।
– इस हाइपसॉनिक मिसाइल में मौजूद सेंसर की वजह से इसमें जमीन से लेकर समुद्र तक में सटीक हमला करने की बेजोड़ ताकत मिलती है।

रूस परमाणु हमला कर सकता है
– इसी बीच अमेरिका ने चेतावनी दी है कि रूस यूक्रेन में परमाणु हमला भी कर सकता है।

रूस के पास कई हाइपरसोनिक मिसाइल
– रूस ने नवंबर 2021 में जिनकॉन नामक हाइपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण किया था।
– यह मैक 5 या इससे अधिक स्‍पीड से चलती है। मतलब कि साउंड की स्‍पीड से पांच गुना ज्‍यादा।

हाइपरसोनिक क्‍या होता है?
– मैक 5 या इससे ज्‍यादा की स्‍पीड को हाइपरसोनिक कहते हैं।
– मतलब 6174 किलोमीटर प्रति घंटा या इससे ज्‍यादा की स्‍पीड.

कितने तरह की क्रूज मिसाइल
– सबसोनिक क्रूज मिसाइल
– सुपर सोनिक क्रूज मिसाइल
– हाइपर सोनिक क्रूज मिसाइल

सबसोनिक क्रूज मिसाइल
– इसकी स्‍पीड साउंड की स्‍पीड से कम होती है। 0.8 मैक की स्‍पीड.
– टॉमहॉक अमेरिका का है। इंडिया का निर्भय मिसाइल है।

सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल
– इसकी स्‍पीड 2-3 मैक तक हो सकती है। मतलब साउंड की स्‍पीड से दो से तीन गुना तेज।
– ऐसे मिसाइल एक सेकेंड में 662.6 Meters से एक किलोमीटर तय कर लेते हैं। मतलब 2,385.36 Kilometers per Hour.
– इसका बेहतरीन उदाहरण है ब्रह्मोस।
– जिसे इंडिया और रूस ने मिलकर तैयार किया है।
– इसे लैंड से, सी (समुद्र) से या एयर से फायर कर सकते हैं।
– लेकिन दुनिया चाहती है कि इससे भी आगे चला जाए।
– ताकि एयर डिफेंस सिस्‍टम जैसे रूस का एस-400, अमेरिका का थाड को चकमा दिया जा सके।
– दुनियाभर में जो डिफेंस सिस्‍टम है, वो नाकाम हो जाएं। यह है हाइपरसोनिक मिसाइल।

हाइपर सोनिक मिसाइल
– जिनकी स्‍पीड 5-6 मार्क या इससे ज्‍यादा स्‍पीड हो।
– इंडिया कोशिश कर रहा है कि मेड इन इंडिया हाइपर सोनिक मिसाइल बनाएं।
– इसमें पहला स्‍टेप है – HSTDV (Hypersonic Technology Demonstrator Vechicle).
– यह एक डेमोंस्‍ट्रेशन एयरक्राफ्ट है, जिससे हम टेस्‍ट कर पाए वो टेक्‍नोलॉजी, जिसे हम हाइपरसोनिक मिसाइल में इस्‍तेमाल करेंगे।

भारत भी हाइपरसोनिक मिसाइल बनाने के प्रयास में
– DRDO (Defence Research and Development Organisation) ने 7 सितंबर 2020 को हाइपरसोनिक टेक्‍नोलॉजी डेमोंस्ट्रेटर टेक्‍नोलॉजी वीइकल (HSTDV) का सक्‍सेसफुली टेस्‍ट फायर किया था।
– इसमें भी स्‍क्रैमजेट इंजन लगा था। यह किसी वीइकल को ध्‍वनि की स्‍पीड से पांच गुना ज्‍यादा तेजी की रफ्तार देने वाला एक इंजन है।
– तो इंडिया ने HSTDV – Hypersonic Technology Demonstrator Vehicle ने टेस्‍ट के दौरान मैक 6 की स्‍पीड पा ली।
– मतलब 7408 किलोमीटर प्रति घंटा की स्‍पीड.

क्‍या डीआरडीओ ने नया हाइपरसोनिक मिसाइल डेवलप किया है?
– नहीं।
– लेकिन सबसे इंपॉर्टेंट हाइपरसोनिक मिसाइल बनाने की ओर हमने कदम रखा है।
– उम्‍मीद है कि इस टेस्‍ट के बाद अगले चार या पांच साल में मेड इन इंडिया हाइपर सोनिक मिसाइल होगा।

क्‍यों जरूरी है हाइपरसोनिक मिसाइल?
– यह बहुत इंपॉर्टेंट है, क्‍योंकि दुनिया में आज के समय, जो मेजर देश हैं, यूएस, चाइना, रशिया, ब्रिटेन, फ्रांस और दुनिया के कई सब देश कोशिश कर रहे हैं कि जल्‍द से जल्‍द ये अपने देश में हाइपरसोनिक मिसाइल डेवलप कर दें।
– अमेरिका ने पिछले साल हाइपरसोनिक मिसाल का परीक्षण किया था।
– चीन ने भी ऑफिशियली हाइपरसोनिक टेक्‍नोलॉजी तेयार कर ली है। वह मिसाइल बनाने की ओर हैं।
– तो इंडिया ने उसी रेस में एक इंपॉर्टेंट स्‍टेप चला है।

—————
3. इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) ने मार्च 2022 में रूस को तुरंत यूक्रेन में मिलिट्री ऑपरेशन रोकने का आदेश दिया, फैसला सुनाने वालों में भारतीय जज का नाम बताएं?

a. जस्टिस दलवीर भंडारी
b. जस्टिस रंजन गोगोई
c. जस्टिस जे चेलमेश्‍वर
d. जस्टिस एके गोयल

Answer: a. जस्टिस दलवीर भंडारी

ICJ
मुख्‍यालय – द हेग, नीदरलैंड
स्थापना: 26 जून 1945

– फैसला सुनाने वाले जजों में एक भारतीय जज भी शामिल थे।
– ICJ में भारतीय जज जस्टिस दलवीर भंडारी ने भी रूस के खिलाफ वोट किया है।
– हालांकि, रूस-यूक्रेन मुद्दे पर उनका ये स्वतंत्र कदम अंतरराष्ट्रीय मंच पर भारत की आधिकारिक स्थिति से अलग है।
– भारत ने UN में यूक्रेन-रूस मुद्दे पर वोटिंग से परहेज किया है और डिप्लोमैटिक डॉयलाग्स के जरिए मसला हल करने पर जोर दिया है।

13 जजों ने रूस के खिलाफ वोट दिया
– ICJ में यूक्रेन पर रूस की सैन्‍य कार्रवाई को लेकर सुनवाई में 15 जज शामिल थे।
– इनमें 13 जजों ने रूस के खिलाफ और 2 जजों ने रूस के समर्थन में वोट किया।
– यूक्रेन ने 24 फरवरी को हुए रूसी हमले के बाद इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस का दरवाजा खटखटाया था।
– यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने जंग के लिए रूस को जिम्मेदार ठहराने की अपील की थी।
– जजों ने रूस को यह भी सुनिश्चचित करने का आदेश दिया कि उसके समर्थन वाली दूसरी फोर्सेस भी यूक्रेन में मिलिट्री ऑपरेशन न करें।

फाउंडिंग चार्टर के अनुसार UN के Six principal organs हैं
– जनरल असेंबली
– सिक्‍योरिटी काउंसिल
– इकोनॉमिक एंड सोशल काउंसिल
– ट्रस्‍टशिप काउंसिल
– इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस
– सेक्रेटेरिएट
(Note – यह मेन ऑर्गन है. बाकि अन्‍य जैसे कि WHO, IMF, UNESCO, ILO स्‍पेशिलाइज्‍ड एजेंसी हैं UN की)

– ICJ का फैसला बाध्‍यकारी होता है।
– हालांकि कोर्ट के पास अपने आदेश का पालन कराने के लिए कोई व्यवस्था नहीं है।
– पहले भी ऐसे कई मामले देखे गए हैं, जब देशों ने ICJ के आदेश का उल्लंघन किया है।
– फैसला नहीं मानने पर ICJ, सिक्योरिटी काउंसिल (UNSC) में संबंधित देश पर दबाव डलवाता है।
– हालांकि, चीन जैसे देश जिनके पास वीटो पॉवर है, वे अक्सर ICJ का आदेश नहीं मानते।

—————
4. किस देश की कैरोलिना बिलाव्स्का मिस वर्ल्‍ड 2021 बनीं?

a. ब्रिटेन
b. पोलैंड
c. सर्बिया
d. रूस

Answer: b. पोलैंड

– 70वीं मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता में पोलैंड की कैरोलिना बिलाव्स्का को मिस वर्ल्‍ड 2021 चुना गया।
– जबकि भारतीय मूल की अमेरिकन सुंदरी श्री सैनी फर्स्ट रनर अप रहीं।
– उनका जन्म लुधियाना के मेजर शिव देव सिंह नगर में हुआ था। वह जब पांच साल की थीं तो उनके पिता संजीव और मां एकता अमेरिका के वाशिंगटन शिफ्ट हो गए थे।

कैरोलिना बिलाव्स्का के बारे में
– पोलैंड की हैं।
– उम्र 23 साल है।
– पेशे से मॉडल हैं।
– मैनेजमेंट में मास्टर्स डिग्री की पढ़ाई कर रही हैं।
– पीएचडी करके मोटिवेशनल स्पीकर बनना चाहती हैं।
– उन्‍हें स्विमिंग और स्कूबा डाइविंग की शौकीन हैं।

टॉप 13 तक ही पहुंच सकीं भारत की मानसा
– भारत की तरफ से प्रतियोगिता में भाग लेने वाली मनसा वाराणसी टॉप 13 कैंडिडेट में शामिल रहीं।
– वह टॉप 13 तक रेस में रहीं। लेकिन टॉप 6 में जगह नहीं बना सकीं।
– उन्हें 2020 में फेमिना मिस इंडिया वर्ल्ड का ताज भी मिला था।

मिस वर्ल्‍ड में भारत
– अब तक भारत के नाम 6 मिस वर्ल्ड खिताब हो चुके हैं।
– आखिरी बार 2017 में भारत की मानुशी छिल्लर ने मिस वर्ल्ड का खिताब अपने नाम किया था।

मिस वर्ल्‍ड में भारत
1966 – रीता फ़ारिया – भारत की पहली मिस वर्ल्ड
1994 – ऐश्वर्या राय – भारत की दूसरी मिस वर्ल्ड
1997 – डायना हेडेन – भारत की तीसरी मिस वर्ल्ड
1999 – युक्ता मुखी – भारत की चौथी मिस वर्ल्ड
2000 – प्रियंका चोपड़ा – भारत की पाँचवीं मिस वर्ल्ड
2017 – मानुषी छिल्लर – भारत की छठी मिस वर्ल्ड

मिस यूनिवर्स में भारत
1994 – सुष्मिता सेन – भारत की पहली मिस यूनिवर्स
2000 – लारा दत्ता – भारत की दूसरी मिस यूनिवर्स
2021 – हरनाज़ संधू – भारत की तीसरी मिस यूनिवर्स

——————-
5. अंतर्राष्‍ट्रीय खुशी दिवस (International Happiness Day) कब मनाया जाता है?

a. 19 मार्च
b. 20 मार्च
c. 21 मार्च
d. 22 मार्च

Answer: b. 20 मार्च

– संयुक्‍त राष्‍ट्र ने इस दिवस को वर्ष 2022 में घोषित किया था।
– 2022 की थीम – “Build Back Happier”

——————
6. संयुक्‍त राष्‍ट्र द्वारा जारी ‘वर्ल्‍ड हैप्‍पीनेस रिपोर्ट 2022’ में भारत की रैंक बताएं?

a. 8
b. 14
c. 136
d. 146

Answer: c. 136

– इस रिपोर्ट को यूनाइटेड नेशंस के स्‍थायी विकास नेटवर्क ने जारी किया है।
– इसमें जीडीपी, सामाजिक सहयोग, व्‍यक्तिगत स्‍वतंत्रता और प्रत्‍येक देश में प्रष्‍टाचार के स्‍तरों जैसी बातों को ध्‍यान में रखकर खुशी का मूल्‍यांकन किया गया है।
– खुशहाली रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत उन देशों में से एक है, जहां बीते 10 सालों में जीवन मूल्‍यांकन में गिरावट देखने को मिली है।
– वर्ष 2021 की रिपोर्ट में भारत की रैंकिंग 139 थी, जबकि वर्ष 2022 में मामूली सुधार के साथ 136वें स्‍थान पर है।

Top 10 देश
1. फिनलैंड
2. डेनमार्क
3. आइसलैंड
4. स्‍विट्जरलैंडउ
5. नीदरलैंड
6. लग्‍ज्‍मबर्ग
7. स्‍वीडेन
8. नार्वे
9. इजरायल
10. न्‍यूजीलैंड

विकसित देश
यूएए : 16
ब्रिटेन : 17

भारत के पड़ोसी देश
– चीन : 72
– नेपाल 84
– बांग्‍लादेश 94
– पाकिस्‍तान 121
– म्‍यांमार 126
– श्रीलंका 127
– अफगानिस्‍तान 146

——————
7. जापान में मार्च 2022 को कितनी तीव्रता का भूकंप आया?

a. 7.9
b. 7.3
c. 7.2
d. 7.1

Answer: b. 7.3

– जापान के पूर्वोत्तर तट फुकुशिमा में 16 मार्च 2022 की देर रात को 7.3 तीव्रता का शक्तिशाली भूकंप आया।
– आधी रात से ठीक पहले, फुकुशिमा प्रान्त के तट पर 60 किलोमीटर की गहराई में भूकंप आया।
– इस भूकंप में दो लोगों की मौत हुई और 94 घायल हो हुए।
– भूकंप लगभग 275 किलोमीटर (170 मील) दूर टोक्यो में महसूस किया गया था।

भूकंप से क्या प्रभाव हुए?
– टोक्यो में भूकंप वाली रात के लिए बिजली बंद कर दी गई थी।
– हालांकि, अगले दिन बिजली पूरी तरह से बहाल कर दी गई।
– लगभग 100 लोगों के साथ सवार शिंकानसेन बुलेट ट्रेन पटरी से उतर गई, हालांकि इसमें किसी के घायल होने की खबर नहीं है।

भूकंप ने याद दिलाई 2011 फुकुशिमा त्रासदी
– फुकुशिमा प्रान्त के तट पर आए भूकंप ने मार्च 2011 में आए विनाशकारी भूकंप और सुनामी की यादें ताजा कर दीं।
– 2011 की आपदा ने फुकुशिमा में दाइची परमाणु संयंत्र को नुकसान पहुंचाया था।
– इससे जापान अभी भी झूज रहा है।
– हालांकि,16 मार्च को आए भूकंप ने इस संयंत्र को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया।

2011 की फुकुशिमा त्रासदी के बारे में
– जापान में 11 साल पहले 9.0-9.1 तीव्रता का भयानक भूकंप आया था।
– इस भूकंप ने भयानक सुनामी को जन्म दिया जिसने फुकुशिमा परमाणु संयंत्र को तहस-नहस कर दिया था।
– सुनामी से 18,500 लोग मारे गए थे या शायद गायब हो गए थे।

—————–
8. पंजाब के नए स्‍पीकर (विधानसभा अध्‍यक्ष) कौन चुने गए?

a. विजय कुमार
b. कुलतार सिंह संधवां
c. राजन केजरीवाल
d. फोगट सिंह सद्धू

Answer: b. कुलतार सिंह संधवां

– कुलतार सिंह संधवां पंजाब की 16वीं विधानसभा के स्पीकर चुने गए हैं।
– वह ऑटोमोबाइल इंजीनियर हैं।
– वह देश के पूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह के छोटे भाई के पोते हैं।

पंजाब
सीएम – भगवंत मान
गवर्नर – बनवारीलाल पुरोहित

—————
9. आयुध निर्माण दिवस (Ordnance Factories’ Day) कब मनाया जाता है?

a. 16 मार्च
b. 17 मार्च
c. 18 मार्च
d. 19 मार्च

Answer: c. 18 मार्च

– भारत की सबसे पुरानी आयुध निर्माण फैक्‍ट्री कोलकाता के कोसीपोर में स्थित है।
– इसका उत्पादन 18 मार्च, 1802 को शुरू किया गया था।
– इसी वजह से यह दिवस आयोजित होता है।

नोट – ऑर्डिनेंस फैक्‍ट्री बोर्ड (इंडियन ऑर्डिनेंस फैक्‍ट्रीज) को केंद्र सरकार ने भंग करके सात नई PSU(पब्लिक सेक्‍टर अंडरटेकिंग) कंपनियां बनाई हैं।

——————
10. FIDE शतरंज ओलंपियाड 2022 का मेजबान राष्‍ट्र किसे चुना गया?

a. यूके
b. यूएसए
c. फ्रांस
d. भारत

Answer: d. भारत

– ओलंपियाड का 44 वां संस्करण 26 जुलाई 2022 से 8 अगस्त 2022 तक चेन्नई में आयोजित होने वाला है।
– 1927 में अपनी स्थापना के बाद से यह पहली बार है जब भारत FIDE शतरंज ओलंपियाड की मेजबानी करेगा।
– यह कार्यक्रम मूल रूप से रूस में आयोजित होने वाला था, लेकिन यूक्रेन के आक्रमण के बाद FIDE वहां से हट गया।

FIDE : The International Chess Federation
– पुराना नाम – Fédération Internationale des Échecs

——————
11. साइंटिफिक रिसर्च के क्षेत्र के लिए 31वें जीडी बिड़ला पुरस्कार के विजेता का नाम बताएं?

a. प्रोफेसर नारायण प्रधान
b. प्रोफेसर विवेक प्रधान
c. प्रोफेसर आनंद प्रधान
d. प्रोफेसर विष्‍णु नारायण

Answer: a. प्रोफेसर नारायण प्रधान

– उन्‍होंने छोटे प्रकाश सामग्री के नए आकार को डिजाइन करने में मदद करने के लिए क्रिस्टल मॉड्यूलेशन में अपनी विशेषज्ञता प्रदान की है।
– वह इंडियन एसोसिएशन फॉर द कल्टीवेशन ऑफ साइंस, जादवपुर में फैकेल्‍टी मेंबर हैं।
– पुरस्‍कार की स्‍थापना 1991 में हुई थी।
– यह अवॉर्ड 50 वर्ष से कम आयु के भारतीय वैज्ञानिकों को दिया जाता है।
– विजेता को 5 लाख रुपए नकद दिए जाते हैं।

——————–
12. वैश्विक पुनर्चक्रण दिवस (Global Recycling Day) कब मनाया जाता है?

a. 16 मार्च
b. 17 मार्च
c. 18 मार्च
d. 19 मार्च

Answer: c. 18 मार्च

– 2022 की थीम : “रीसाइक्लिंग फ्रटर्निटी”

———————
13. किस राज्‍य सरकार ने भूमि अभिलेखों तक आसान पहुंच सुनिश्चित करने के लिए दिशांक ऐप विकसित किया?

a. बिहार
b. कर्नाटक
c. झारखंड
d. पंजाब

Answer: b. कर्नाटक

– इस ऐप को ‘कर्नाटक स्‍टेट रिमोट सेंसिंग एप्लीकेशन सेंटर’ (KSRSAC) ने विकसित किया है।

कर्नाटक
राजधानी: बेंगलुरु
मुख्यमंत्री: बसवराज एस बोम्मई
राज्यपाल: थावर चंद गहलोत

——————
14. किस राज्‍य की पूर्व राज्‍यपाल कुमुदबेन मणिशंकर जोशी का निधन 14 मार्च 2022 को हो गया?

a. आंध्र प्रदेश
b. कर्नाटक
c. झारखंड
d. पंजाब

Answer: a. आंध्र प्रदेश

– उन्‍होंन 26 नवंबर 1985 से 7 फरवरी 1990 तक आंध्र प्रदेश की राज्यपाल के रूप में कार्य किया था।
– वह तीन बार राज्यसभा की सदस्य रह चुकी हैं।

——————
15. रेलवे का पहला गतिशक्ति कार्गो टर्मिनल किस जगह शुरू हुआ?

a. मुंगेर (बिहार)
b. थापरनगर (झारखंड)
c. मानेसर (हरियाणा)
d. रत्‍नागिरी (महाराष्‍ट्र)

Answer: b. थापरनगर (झारखंड)

– रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष और सीईओ वी के त्रिपाठी ने इसका उद्घाटन किया।
– उन्‍होंने कहा कि यहां मौजूद मैथन पावर प्रोजेक्ट वर्ष 2009 में शुरू किया गया था, और बिजली उत्पादन वर्ष 2011 में शुरू हुआ था।
– बिजली संयंत्र के लिए आवश्यक कोयले की आपूर्ति सड़क के माध्यम से की जाती थी, जिससे हर महीने 120 इनबाउंड कोयला रेक का उत्पादन होने का अनुमान है।
– इससे रेलवे की मासिक कमाई करीब 11 करोड़ रुपए बढ़ जाएगी।


Free Download Notes PDF of Toady’s Current Affairs : – Click Here