16th January 2022 Current Affairs

16th January 2022 Current Affairs

Spread the love

यह 16 January 2022 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. Indian Army ने किस फैशन इंस्‍टीट्यूट की मदद से नई कॉम्‍बेट यूनिफॉर्म को डिजाइन किया?

आर्मी ने किस फैशन इंस्‍टीट्यूट की मदद से डिजाइन की गई नई कॉम्‍बेट यूनिफॉर्म को पेश किया?

a. NIFT
b. VIFT
c. AIFD
d. NID

Answer: a. NIFT (National Institute of Fashion Technology)

– सेना दिवस पर 15 जनवरी 2022 को नई यूनीफॉर्म में पैराशूट रेजिमेंट के कमांडो ने दिल्ली कैंट के परेड ग्राउंड में मार्च किया।
– इसका वीडियो सोशल मीडिया पर काफी सुर्ख‍ियां बटोर रहा है।
– इस नई ड्रेस को इस साल अगस्त तक भारतीय सेना (Indian Army) में पेश किए जाने की संभावना है।
– यह यूनीफॉर्म सैनिकों को अधिक आराम के साथ-साथ डिजाइन में एकरूपता प्रदान करेगी।
– यूनीफॉर्म में जो कैमोफ्लाज (ऐसा कलर और पैटर्न जिससे एकदम नजर में न आएं और छुपने में मदद मिले) है वो ज्यादा बेहतर है।

नई यूनीफॉर्म में बेल्ट अंदर होगी और शर्ट बाहर होगी
– अमेरिका समेत कई देशों की आर्मी डिजिटल पैटर्न का इस्तेमाल करती है।
– मौजूदा यूनीफॉर्म में शर्ट पैंट के अंदर डाली जाती है और बाहर से बेल्ट लगाई जाती है।
– नई यूनीफॉर्म में बेल्ट अंदर होगी और शर्ट बाहर होगी। यानी शर्ट टक करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।
– आर्मी अधिकारी के मुताबिक इससे काम करने में आसानी होगी. कपड़े में भी कुछ बदलाव किए गए हैं।
– अमेरिका और यूरोपीय देशों में इसी तरह के आर्मी यूनिफॉर्म होते हैं।

क्‍यों बदली जा रही है आर्मी यूनिफॉर्म?
– आर्मी के लिए अभी तक अलग-अलग जगह के लिए अलग-अलग तरह की डिजाइन की हुई यूनिफॉर्म थी। जैसे पहाड़ी इलाकों के लिए अलग, जंगली इलाकों के लिए अलग।
– यूनिफॉर्म को पहले से ज्‍यादा हल्‍का और नजर न आने वाले डिजाइन की जरूरत थी।
– इसके लिए आर्मी ने National Institute of Fashion Technology (NiFT) की मदद ली।
– नई यूनिफॉर्म काफी कंफर्टेबल बताई जा रही है।
– इसमें 70 : 30 के रेशियो में कॉटन और पॉलिस्‍टर का यूज किया गया है। इससे यह लाइट वेट रहने वाली है।

– अभी एयरफोर्स और नेवी की ड्रेस में चेंज नहीं की गई है।

———————
2. भारत ने ब्रह्मोस मिसाइल का पहला निर्यात ऑर्डर किस देश से हासिल किया?

a. चीन
b. जर्मनी
c. फिलीपींस
d. वियतनाम

Answer: c.फिलीपींस

– ऐसा पहली बार है जब भारत ब्रह्मेस मिसाइल को एक्‍सपोर्ट कर रहा है।
– फिलीपींस के सेक्रेटरी ऑफ नेशनल डिफेंस डेल्फिन लोरेंज़ाना ने इस खरीद के लिए जनवरी 2022 में ‘नोटिस ऑफ अवॉर्ड’ को साइन किया।
– यह डील 374.96 मिलियन अमेरिकी डॉलर (लगभग 2,789 करोड़ रुपए) की है।
– ब्रह्मोस भारत और रूस के द्वारा विकसित की गई अब तक की सबसे आधुनिक सुपरसोनिक मिसाइल प्रणाली है। इसने भारत को मिसाइल तकनीक में अग्रणी देश बना दिया है।

ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के बारे में
– ब्रह्मोस एक कम दूरी की रैमजेट, सुपरसॉनिक क्रूज मिसाइल है।
– इस मिसाइल को जल, थल और वायु से छोड़ा जा सकता है. इस क्षमता को ट्रायड कहा जाता है।
– ट्रायड की विश्वसनीय क्षमता भारत के पहले सिर्फ़ अमरीका, रूस और सीमित रूप से फ्रांस के पास मौजूद थी।
– इसे पनडुब्बी से, पानी के जहाज से, विमान से या जमीन से भी छोड़ा जा सकता है।
– ब्रह्मोस मिसाइल को भारत और रूस ने मिलकर तैयार किया है।
– रूस की एनपीओ मशीनोस्ट्रोयेनिया (NPO Mashinostroeyenia) और भारत के DRDO ने संयुक्त रूप से इसका विकास किया है।
– इसके लिए दोनों देशों ने 12 फरवरी 1998 को एग्रीमेंट साइन किया था। तब से मिसाइल को डेवलप किया जा रहा है।
– यह रूस की पी-800 ओंकिस क्रूज मिसाइल की प्रौद्योगिकी पर आधारित है।
– ब्रह्मोस सुपरसोनिक मिसाइल ध्वनि की रफ्तार से तीन गुना तेज गति यानी 4321 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से मार करने में सक्षम है।
– इस मिसाइल की रेंज 290 किलोमीटर है और ये 300 किलोग्राम भारी युद्धक सामग्री ले जा सकती है।

ब्रह्मोस का पूरा नाम – The Brahmaputra of India and the Moskva of Russia.
– इस मिसाइल का नाम भारत और रूस ने अपने-अपने नदियों के नाम पर रखा है।

फिलीपींस ने क्‍यों खरीदा ब्रह्मोस?
– दरअसल, फिलीपींस का समुद्री विवाद चीन से है।
– चीन, दक्षिण चीन सागर (साउथ चाइना सी) पर अपना अधिकार जताता है।
– उसने कई आर्टिफीशियल आइलैंड्स बना लिए है।
– इन आइलैंड्स के जरिए वह ‘एक्‍सक्‍लूसिव इकोनॉमिक जोन’ का दायरा काफी ज्‍यादा बताकर दूसरे देशों के ‘एक्‍सक्‍लूसिव इकोनॉमिक जोन’ पर अधिकार जताता है।
– इसकी वजह से ‘साउथ चाइना सी’ के पास मौजूद देशों का तनाव चीन से है।
– साल 2016 में एक अंतरराष्ट्रीय ट्राइब्यूनल ने चीन के ख़िलाफ़ फ़ैसला दिया था. इस ट्राइब्यूनल ने कहा था कि इस बात के कोई प्रमाण नहीं हैं कि चीन का इस इलाक़े पर ऐतिहासिक रूप से कोई अधिकार रहा है. लेकिन, चीन ने इस फ़ैसले को मानने से इनकार कर दिया था।
– ऐसे में खासतौर से कई आसियान देशों को अपनी सुरक्षा के लिए विश्‍वसनीय हथियारों की जरूरत है।
– ‘द हिन्‍दू’ न्‍यूजपेपर के अनुसार फिलीपींस, ब्रह्मोस मिसाइल को अपने तटीय इलाकों में तैनात कर सकता है।
– इस मिसाइल से फिलीपींस की सेना की ताकत भी काफी बढ़ जाएगी।

भारत का क्या फायदा?

विदेशी मुद्रा
– फिलीपींस को ब्रह्मोस मिसाइल बेचकर भारत को 374.96 मिलियन अमेरिकी डॉलर (लगभग 2,789 करोड़ रुपए) मिलेंगे।
-इस तरह की खरीदारी से भारत की अर्थव्यवस्था को भी मजबूती प्रदान होगा।
– इस डील से विश्वभर में भारत के सैन्य कौशल का भी प्रदर्शन होगा।

चीन के खिलाफ गोलबंदी
– भारत ने फिलीपींस को ब्रह्मोस मिसाइल देकर चीन के खिलाफ बने माहौल का साथ दिया है।
– ये सौदा भारत और फिलीपींस के संबंधों में और मजबूती लाएगा और दोनों देशों के बीच रक्षा कारोबार को बढ़ावा देगा।

आर्म्‍स एक्‍सपोर्टर देशों में स्‍थान बेहतर करना
– SIPRI (स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट) की रिपोर्ट (15 मार्च 2021 को जारी) के अनुसार आर्म्‍स एक्‍सपोर्टर कंट्री की लिस्‍ट में भारत का स्‍थान 24वां है।
– वर्ष 2016-20 के दौरान दुनिया में जितने आर्म्‍स एक्‍सपोर्ट हुए, उसका 0.2% हिस्‍सा भारत का था।
– अब भारत इस स्थिति को काफी मजबूत करना चाहता है।
– हाल के वर्षों की बात करें तो फाइनेंशियल ईयर 2016-17 में भारत ने 1,521 करोड़ रुपए का आर्म्‍स एक्‍सपोर्ट किया, जबकि 2018-19 में 10,745 करोड़ रुपए का एक्‍सपोर्ट किया।
– इसके साथ ही ‘आत्‍म निर्भर भारत अभियान’ के तहत हम सैन्‍य हथियारों के आयात में कमी लाने की कोशिश कर रहे हैं।

दूसरे देश भी खरीद सकते है यह मिसाइल
– भारत और रूस, ब्रह्मोस मिसाइल को अन्‍य देशों को भी बेचने की कोशिश कर रहा है।
– इंडोनेशिया और वियतनाम ने भी इस मिसाइल की खरीद के लिए दिलचस्‍पी दिखाई है।

फिलीपींस
राजधानी : मनीला
प्रेसिडेंट : रोड्रिगो दुतेर्ते

——————-
3. केंद्र सरकार ने ‘गणतंत्र दिवस समारोह’ की शुरुआत करने की तिथि बदलकर क्‍या कर दी?

a. 25 जनवरी
b. 24 जनवरी
c. 23 जनवरी
d. 22 जनवरी

Answer: c. 23 जनवरी

– दरअसल, गणतंत्र दिवस तो 26 जनवरी को मनाया जाता है। लेकिन इसका समारोह पहले ही यानी 24 जनवरी को शुरू हो जाता था।
– अब केंद्र सरकार ने फैसला किया है कि रिपब्लिक डे ईवेंट 24 जनवरी की जगह 23 जनवरी से ही शुरू जाए।
– यह फैसला नेताजी सुभाष चंद्र बोस के जन्मदिन को गणतंत्र दिवस में समारोह में शामिल करने के उद्देश्य से किया गया है।
– उनका जन्म 23 जनवरी 1897 को हुआ था।
– इससे पहले केंद्र सरकार ने नुताजी सुभाष चंद्र बोस के जन्मदिन को पराक्रम दिवस के रूप में मनाना शुरू किया था।

मुख्‍य समारोह के लिए किन्‍हें मिला निमंत्रण
– 26 जनवरी 2022 को गणतंत्र दिवस परेड समारोह के चीफ गेस्‍ट पांच सेंट्रल एशियन कंट्री के प्रेसिडेंट हैं।
– किर्गिस्तान के प्रेसिडेंट सदिर जापरोव
– कजाकिस्तान के राष्ट्रपति कसीम-जोमार्ट टोकायव
– ताजिकिस्तान के प्रेसिडेंट इमोमाली रहमोन
– तुर्कमेनिस्तान के प्रेसिडेंट गुरबांगुली बर्दीमुहामेदोव
– उज्बेकिस्तान के प्रेसिडेंट शवकत मिर्जियोयेव

– ये सभी देश सोवियत संघ के अंग रह चुके हैं और 1991 में उसके विखंडन के बाद से अलग-अलग देश हैं।

मोदी सरकार अब तक ये नए दिवस घोषित कर चुकी हैं :
16 जनवरी – नेशनल स्‍टार्टअप डे
14 अगस्त- विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस
31 अक्टूबर- राष्ट्रीय एकता दिवस (सरदार पटेल की जन्मतिथि)
15 नवंबर- जनजातीय गौरव दिवस (बिरसा मुंडा का जन्मदिन)
26 नवंबर- संविधान दिवस
26 दिसंबर- वीर बाल दिवस (4 साहिबजादों को श्रद्धांजलि)

———————
4. 15 जनवरी 2022 को कौन सा वां भारतीय सेना दिवस मनाया गया?

a. 72वां
b. 73वां
c. 74वां
d. 75वां

Answer: c. 74वां

क्‍यों मनाया जाता है आर्मी डे?
– 15 जनवरी के दिन साल 1949 में फील्ड मार्शल केएम करियप्पा ने जनरल फ्रांसिस बुचर से भारतीय सेना की कमान ली थी।
– बुचर भारत के आखि‍री ब्रिटिश कमांडर इन चीफ थे।
– करियप्पा के भारतीय थल सेना के शीर्ष कमांडर का पदभार ग्रहण करने के उपलक्ष्य में हर साल यह दिन ‘आर्मी डे’ के रूप में मनाया जाता है।
– सेना की कमान लेने के बाद केएम करियप्पा भारतीय आर्मी के पहले कमांडर इन चीफ बने थे।
– यहां सवाल उठता है तीनों सेनाओं के ‘कमांडर इन चीफ’ तो राष्‍ट्रपति होते हैं, तो जनरल करियप्‍पा इस पद पर कैसे?
– तो यहां ध्‍यान देने वाली बात है कि 1955 तक इंडियन आर्मी के कमांडर इन चीफ का पद चीफ ऑफ आर्मी स्‍टाफ (सेना प्रमुख) के पास ही था।
– एक अप्रैल 1955 को कमांडर इन चीफ का पद राष्‍ट्रपति के पास चला गया।
– जनरल करियप्‍पा भारत के पहले फील्‍ड मार्शल भी थे। यह पद पांच स्‍टार रैंक का होता है। भारत में दो ही फील्‍ड मार्शल हुए। दूसरे थे सैम मानिक शॉ।

इंडियन आर्मी
चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ : एमएम नरवणे।

———————
5. सशस्त्र बल वयोवृद्ध दिवस (Armed Forces Veterans Day) कब मनाया जाता है?

a. 14 जनवरी
b. 15 जनवरी
c. 16 जनवरी
d. 17 जनवरी

Answer: a. 14 जनवरी

– इस दिन का उद्देश्य राष्ट्र की सेवा में हमारे दिग्गजों की निस्वार्थ भक्ति और बलिदान को स्वीकार करना और उनका सम्मान करना है।
– इस दिवस की शुरुआत वर्ष 2017 में हुई थी। वर्ष 2022 में छठा सशस्त्र बल वयोवृद्ध दिवस है।

———————
6. भारतीय इतिहास अनुसंधान परिषद (Indian Council of Historical Research – ICHR) के नए अध्यक्ष कौन हैं?

a. अमित पाठक
b. विश्‍वेश्‍वर सिंह
c. रघुवेंद्र तंवर
d. आदित्य मेहता

Answer: c. रघुवेंद्र तंवर

– वह तीन साल तक इस पद पर रहेंगे।

आईसीएचआर के बारे में:
– इसे शिक्षा मंत्रालय ने स्‍थापित किया था।
– इसका लक्ष्य और उद्देश्य इतिहास के रिसर्च को बढ़ावा देना और दिशा देना और वैज्ञानिक लेखन को प्रोत्साहित करना है।

स्‍थापना : 27 मार्च 1972
मुख्‍यालय : नई दिल्‍ली

—————–
7. किस राज्‍य में कचाई लेमन फेस्टिवल का आयोजन जनवरी 2022 में हुआ?

a. केरल
b. मणिपुर
c. असम
d. अरुणाचल प्रदेश

Answer: b. मणिपुर

– इस फेस्टिवल का 18वां संस्‍करण जनवरी 2022 में आयोजित हुआ।
– यह खासतौर पर अनोखे प्रकार के नींबू फल को बढ़ावा देने और नींबू किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए हर साल आयोजित किया जाता है।
– इस वर्ष महोत्सव का आयोजन ‘सुरक्षित पर्यावरण और ग्रामीण परिवर्तन के लिए जैविक कचाई नींबू’ विषय के तहत किया जा रहा है।
– मणिपुर के किचाई नींबू की खासियत की वजह से इसे जीआई टैग मिला हुआ है।

मणिपुर
– मुख्यमंत्री: एन. बीरेन सिंह
– राज्यपाल: ला गणेशन

————————
8. किस औद्योगिक समूह ने इस्पात और नवीकरणीय ऊर्जा में कारोबार की संभावनाएं तलाशने के लिए दक्षिण कोरिया के POSCO के साथ समझौता किया?

a. बजाज समूह
b. टाटा समूह
c. L&T समूह
d. अडानी ग्रुप

Answer: d. अडानी ग्रुप

– अडानी समूह ने स्टील, अक्षय ऊर्जा और अन्य क्षेत्रों में व्यापार सहयोग के अवसरों का पता लगाने के लिए दक्षिण कोरियाई स्टील बनाने वाली कंपनी POSCO के साथ एक गैर-बाध्यकारी समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं।
– POSCO (पोहांग आयरन एंड स्टील कंपनी लिमिटेड).

– इस समझौते में 5 अरब डॉलर के अनुमानित निवेश से गुजरात में एक इंटिग्रेटेड स्टील प्लांट की स्थापना शामिल है।
– अडानी ग्रुप के स्टील बिजनस में उतरने से उनका मुकाबला टाटा ग्रुप (Tata Group) और आर्सेलरमित्तल (ArcelorMittal) से होगा।

स्टील बिजनस पर क्यों है नजर
– सरकार ने भारत को 2025 तक 5 लाख करोड़ डॉलर की इकॉनमी बनाने का लक्ष्य रखा है और इसमें स्टील इंडस्ट्री की भूमिका को अहम माना जा रहा है।
– भारत दुनिया में स्टील का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है।
– उपभोग के मामले में भारत दुनिया में तीसरे नंबर पर है।

रिन्युएबल एनर्जी और ग्रीन हाइड्रोजन के इस्तेमाल का इरादा
– कंपनियों ने कहा कि उनका स्थायित्व और एनर्जी इफीशिएंसी के लिए संबंधित एनवायर्नमेंटल, सोशल और गवर्नेंस (ईएसजी) कमिटमेंट्स की तर्ज पर रिन्युएबल एनर्जी रिसोर्सेज और ग्रीन हाइड्रोजन के इस्तेमाल का इरादा है।
– स्टेटमेंट में कहा गया, वे सहयोग और हर कंपनी की तकनीक, फाइनेंसियल और ऑपरेशनल क्षमताओं को भुनाने के लिए विभिन्न विकल्पों पर गौर कर रही हैं।

पोस्को का भारत में बिजनस
– दक्षिण कोरिया की कंपनी पोस्को के पास पोस्को महाराष्ट्र नाम की एक यूनिट है, जिसमें 1.8 मिलियन टन की क्षमता वाला कोल्ड रोल और गैल्वनाइज्ड यूनिट शामिल है।
– इसके साथ ही पुणे, दिल्ली, चेन्नई और अहमदाबाद में कंपनी के चार प्रोसेसिंग प्लांट स्थित हैं।
– देरी और स्थानीय स्तर पर विरोध के कारण कंपनी को ओडिशा में 12 अरब डॉलर की परियोजना को रद्द करना पड़ा था।
– पोस्को भारत में एक ग्रीनफील्ड प्लांट लगाने को लेकर उत्सुक है।

POSCO के बारे में:
POSCO (पोहांग आयरन एंड स्टील कंपनी लिमिटेड)
स्‍थापना – 1 अप्रैल 1968
CEO – जियोंग-वू चोई
मुख्यालय- पोहांग, ग्योंग्संगबुक (Gyeongsangbuk), कोरिया गणराज्य (दक्षिण कोरिया)

———————-
9. BWF जूनियर रैंकिंग (जनवरी 2022) में अंडर-19 गर्ल्स सिंगल्स श्रेणी में वर्ल्ड नंबर 1 रैंकिंग हासिल करने वाली पहली भारतीय कौन हैं?

a. K मनीषा
b. गड्डे रुथविका शिवानी
c. तसनीम मीर
d. अश्मिता चालिहा

Answer: c. तसनीम मीर

– तसनीम मीर बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन (BWF) जूनियर रैंकिंग जनवरी 2022 में 10,810 अंकों के साथ अंडर-19 गर्ल्स सिंगल्स वर्ग में वर्ल्ड नंबर 1 हासिल करने वाली पहली भारतीय बनीं।
– उनके बाद रूस की मारिया गोलूबेवा और स्पेन की लूसिया रोड्रिग्ज का नंबर आता है।

———————
10. राष्‍ट्रीय बिलियर्ड्स खिताब 2021 किसने जीता?

a. ध्रुव सीतवाला
b. अमित पाठक
c. आदित्य मेहता
d. पंकज आडवाणी

Answer: d. पंकज आडवाणी

– पंकज आडवाणी का यह 11वां खिताब है।
– 88वीं राष्‍ट्रीय बिलियर्ड्स और स्‍नूकर चैंपियनशिप 2021 का आयोजन मध्‍य प्रदेश के भोपाल में किया गया।
– इसे स्‍नूकर फेडरेशन ऑफ इंडिया (BSFI) ने आयोजित कराया।


Free Download Notes PDF of Toady’s Current Affairs : – Click Here

Buy eBooks & PDF