14 & 15 May 2022 Current Affairs

Spread the love

यह 14 & 15 May 2022 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. किस अरब देश के राष्‍ट्रपति के निधन पर भारत ने 14 मई 2022 को राजकीय शोक घोषित कर तिरंगा आधा झुका दिया?

a. ईरान
b. यमन
c. कतर
d. यूएई

Answer: d. यूएई

– संयुक्‍त अरब अमीरात (UAE) के राष्‍ट्रपति शेख खलीफा बिन जाएद अल नह्यान का निधन 13 मई 2022 को हो गया।
– वह 73 वर्ष के थे।
– भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित कई नेताओं ने उनके निधन पर शोक जताया।
– भारत सरकार ने निधन पर 14 मई 2022 को एक दिन का राजकीय शोक घोषित किया। इस दौरान राष्‍ट्रीय ध्‍वज तिरंगा आधा झुका रहा।
– दूसरी ओर यूएई ने अपने देश में 40 दिनों का राष्‍ट्रीय शोक घोषित किया है।
– शेख खलीफा 3 नवंबर 2004 से UAE के राष्ट्रपति थे।
– वर्ष 2019 में वे चौथी बार राष्ट्रपति पद के लिए चुने गए थे।
– उनके पिता शेख जाएद बिन सुल्तान अल नह्यान 1971 से 2004 तक राष्ट्रपति रहे। वो देश के पहले राष्ट्रपति थे और यूएई के संस्‍थापक माने जाते हैं।
– 1948 में जन्मे शेख खलीफा अबुधाबी के 16वें अमीर यानी शासक थे।

————–
2. UAE के नए राष्‍ट्रपति कौन चुने गए?

a. मोहम्‍मद बिन राशि अल मखतूम
b. शेख मोहम्‍मद बिन जायद अल नाह्यान
c. शेख बिन राशि सुल्‍तान
d. इनमें से कोई नहीं

Answer: b. शेख मोहम्‍मद बिन जायद अल नाह्यान

– उन्‍हें 14 मई 2022 को यूएई का नया राष्‍ट्रपति चुना गया।
– वह दिवंगत पूर्व राष्‍ट्रपति शेख खलीफा बिन जाएद अल नह्यान के छोटे भाई हैं।
– वह इससे पहले आबू धाबी के रूलर थे।
– वह 29 भाई-बहन थे।

यूएई
– पीएम – मोहम्‍मद बिन राशिद अल मखतूम

————–
3. राष्‍ट्रपति ने देश का नया मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त किसे नियुक्त किया?

a. सुशील चंद्रा
b. राजीव कुमार
c. अमित मिश्रा
d. विवेक सिंह

Answer: b. राजीव कुमार

– उन्हें सुशील चंद्रा की जगह नियुक्त किया गया है।
– सुशील चंद्रा 14 मई को रिटायर हो गए।
– जिसके बाद राजीव कुमार ने कार्यभार संभाला।
– वह 15 मई 2022 से 18 फरवरी 2025 तक इस पद पर रहेंगे।

राजीव कुमार
– वह बिहार/झारखंड कैडर 1984 बैच के आईएएस अधिकारी है।
– उन्होंने 01 सितंबर 2020 को इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया (ECI) के इलेक्शन कमिश्‍नर के रूप में कार्यभार संभाला था।

भारत निर्वाचन आयोग के बारे में –
– एक स्वायत्त संवैधानिक निकाय है जो भारत में संघ और राज्य चुनाव प्रक्रियाओं का संचालन करता है।
– यह देश में लोकसभा, राज्यसभा, राज्य विधानसभाओं, राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के चुनाव का संचालन करता है।
– भारतीय संविधान का भाग 15 चुनावों से संबंधित है, जिसमें चुनावों के संचालन के लिये एक आयोग की स्थापना करने की बात कही गई है।
– संविधान के अनुच्छेद 324 से 329 तक चुनाव आयोग और सदस्यों की शक्तियों, कार्य, कार्यकाल, पात्रता आदि से संबंधित हैं।
– चुनाव आयोग की स्थापना 25 जनवरी, 1950 को संविधान के अनुसार की गई थी।
– निर्वाचन आयोग में मूलतः केवल एक चुनाव आयुक्त का प्रावधान था, लेकिन राष्ट्रपति की एक अधिसूचना के ज़रिये 16 अक्तूबर, 1989 को इसे तीन सदस्यीय बना दिया गया।
– इसके बाद कुछ समय के लिये इसे एक सदस्यीय आयोग बना दिया गया और 1 अक्‍टूबर, 1993 को इसका तीन सदस्यीय आयोग वाला स्वरूप फिर से बहाल कर दिया गया।
– तब से निर्वाचन आयोग में एक मुख्य चुनाव आयुक्त और दो चुनाव आयुक्त होते हैं।
– निर्वाचन आयोग का सचिवालय नई दिल्ली में स्थित है।
– मुख्य निर्वाचन अधिकारी IAS रैंक का अधिकारी होता है, जिसकी नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा की जाती है तथा चुनाव आयुक्तों की नियुक्ति भी राष्ट्रपति ही करता है।
– इनका कार्यकाल 6 वर्ष या 65 वर्ष की आयु (दोनों में से जो भी पहले हो) तक होता है।
– इन्हें भारत के सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों के समकक्ष दर्जा प्राप्त होता है और समान वेतन एवं भत्ते मिलते हैं।
– मुख्य चुनाव आयुक्त को संसद द्वारा सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश को हटाने की प्रक्रिया के समान ही पद से हटाया जा सकता है।

—————
4. भारत ने क्‍या वजह बताते हुए गेहूं के निर्यात पर रोक लगाई?

a. खाद्य सुरक्षा
b. रूस-यूक्रेन विवाद
c. कम उत्‍पादन
d. इनमें से कोई नहीं

Answer: a. खाद्य सुरक्षा

किसने निर्यात पर रोक लगाई?
– DGFT (डायरेक्‍टर जनरल ऑफ फॉरेन ट्रेड) ने रोक लगाई।
– गेहूं को अब Prohibited लिस्‍ट में रख दिया गया है।

क्‍यों लगाई रोक
– नोटिफिकेशन में DGFT ने कहा है कि गेहूं की कीमत ग्‍लोबल स्‍तर पर अचानक बढ़ गई है।
– इसकी वजह से भारत, इसके पड़ोसी देश और कई देशों की खाद्य सुरक्षा (Food Security) संकट (at risk) में है।
– भारत ने बढ़ती घरेलू कीमतों को नियंत्रित करने के उपायों के तहत गेहूं के निर्यात पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया है।

सरकार की अनुमति से निर्यात हो सकेगा
– हालांकि नोटिफिकेशन में यह भी कहा गया है कि भारत सरकार द्वारा किसी दूसरे देश की खाद्य जरूरत के लिए निर्यात की अनुमति दी जाएगी।
– इसके अलावा वो गेहूं निर्यात किए जा सकेगा जिनके ICLC जारी हैं, या शिपमेंट के लिए तैयार हैं।

रूस-यूक्रेन विवाद से दुनिया में गेहूं पर संकट
– चीन के बाद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा गेहूं उत्‍पादक देश है।
– लेकिन गेहूं निर्यातक की रैंकिंग में सबसे बड़ा देश रूस है।
– रूस-यूक्रेन विवाद और कई तरह के प्रतिबंधों की वजह से रूस का गेहूं अंतर्राष्‍ट्रीय बाजार में नहीं आ पा रहा है।
– ऐसे में अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर पर गेहूं की कीमत बढ़ गई है।

भारत में गेंहू के उत्पादन में गिरावट का अनुमान
– 2021-22 के रबी सीजन में गेंहू का उत्पादन घटने का अनुमान है।
– इस वर्ष गर्मी के मौसम के जल्दी आने के चलते सरकार ने 111.32 मिलियन टन से उत्पादन के अनुमान को घटाकर 105 मिलियन टन (10.50 करोड़ टन) कर दिया है।
– बीते एक साल में आटा करीब 13% महंगा हो चुका है।
– ऐसे में भारत सरकार को देश की खाद्य सुरक्षा की चिंता हुई है। इस वजह से DGFT ने गेहूं के निर्यात पर रोक लगाई है।

– केंद्र सरकार का यह फैसला तब आया है, जब अभी भारत ने गेंहू के निर्यात को बढ़ाने का लक्ष्य रखा था।
– गेंहू के निर्यात को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने एक डेलीगेशन भी गठित किया था।
– इस डेलीगेशन को गेहूं के निर्यात को बढ़ावा देने की संभावनाओं का पता लगाने के लिए मोरक्को, ट्यूनीशिया और इंडोनेशिया सहित नौ देशों में भेजने की बात सामने आई थी।
– लेकिन इस घोषणा के ठीक दो दिन बाद ही सरकार ने तत्काल प्रभाव से गेंहू के निर्यात पर रोक लगा दी।

—————
5. किस राज्‍य के मुख्‍यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने 14 मई 2022 को पद से इस्‍तीफा दे दिया?

a. असम
b. मिजोरम
c. मेघालय
d. त्रिपुरा

Answer: d. त्रिपुरा

– उन्‍होंने राज्‍यपाल सत्‍यदेव नारायण आर्य को इस्‍तीफा दे दिया।
– बिप्लब कुमार देब वर्ष 2018 में त्रिपुरा के सीएम बने थे।
– अगले ही साल इस राज्‍य में विधानसभा चुनाव भी है।
– माना जा रहा है कि राजनीतिक कारणों से यह इस्‍तीफा हुआ है।

त्रिपुरा की राजधानी – अगरतला

—————
6. भारत में ‘खुदरा महंगाई दर’ अप्रैल 2022 में कितनी रही?

a. 6.9%
b. 7.8%
c. 8.1%
d. 9.8%

Answer: b. 7.8%

– भारत की खुदरा मुहंगाई दर अप्रैल 2022 में सालाना आधार पर आठ साल के उच्च स्तर 7.8 प्रतिशत पर पहुंच गई।
– सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय (MoSPI) के राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) ने 12 मई 2022 को यह आंकड़ा जारी किया है।
– इससे पहले मार्च 2022 में यह दर 6.95 प्रतिशत रही।

RBI के लक्षित (टार्गेटेड) महंगाई दर से भी ज्यादा
– कानून के अनुसार RBI को खुदरा महंगाई दर को 4% के स्तर पर बनाए रखना आवश्यक है। यह नियम अक्टूबर 2016 में लागू हुआ था।
– लॉ में RBI के लिए महंगाई नियंत्रण के लिए कुछ गुंजाइश रखी गई है। किसी विशेष महीने में, महंगाई दर निर्धारित 4% से 2% घट या बढ़ सकती है।
– लेकिन अप्रैल 2022 में महंगाई इससे काफी ज्‍यादा (7.8%) रही, जो लगभग 4% के स्तर से दोगुना है।

क्या यूक्रेन-रूस विवाद के कारण भारत में महंगाई बढ़ी?
– भारत में महंगाई बढ़ने के कई कारण हैं, उनमें से एक यूक्रेन-रूस विवाद भी है।
– विवाद के कारण कच्चे तेल के बढ़ते दामों ने भी भारत में महंगाई बढ़ाई।
– ध्‍यान देने की बात यह भी है कि रूस-यूक्रेन विवाद फरवरी 2022 में शुरू हुआ, लेकिन भारत में महंगाई पहले से ही 6% से ऊपर रही है।
– अक्टूबर 2019 से खुदरा महंगाई उच्च स्तर पर रही है।
– तब से केवल एक बार RBI के 4% लक्षित महंगाई दर को छुआ है।
– बाकी सभी अन्य महीनों में, यह न केवल 4% से अधिक रहा है बल्कि नियमित रूप से 6% के अधिक स्तर से ऊपर रहा।

महंगाई की गणना कैसे होती है?
– महंगाई की गणना कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स (CPI) से की जाती है।
– इस इंडेक्स में अलग-अलग कैटेगरी होती है।
– इस इंडेक्स की तीन मुख्य कैटेगरी- खाद्य वस्तुएं (Food Items), ईंधन और प्रकाश (Fuel & Light) और कोर सेक्‍टर (core) [अन्य मुख्य वस्तुएं]
– इंडेक्स में खाद्य वस्तुएं (46%), ईंधन और प्रकाश (7%) और कोर (47%) होती है।
– वर्ष 2019-20 में महंगाई बढ़ने का मुख्य कारण था खाद्य वस्तुओं के प्राइस को 6% बढ़ाना।
– वर्ष 2022-21 में, जब महामारी ने अर्थव्यवस्था को प्रभावित किया, खाद्य कीमतों में 7.3% की वृद्धि हुई।
– यहां तक कि कोर (core) महंगाई में भी 5.5% की वृद्धि हुई।
– लेकिन इस दौरान ईंधन कीमत मुद्रास्फ़ीति (महंगाई) वर्ष 2019-20 में 1.3% और 2020-21 में 2.7% रही।
– वर्ष 2021-22 में, जिस वर्ष वैश्विक अर्थव्यवस्था ने तेजी से सुधार करना शुरू किया, भले ही खाद्य मूल्य मुद्रास्फीति 4% तक कम हो गई।
– लेकिन ईंधन की कीमतों में 11.3% की वृद्धि हुई और कोर (core) मुद्रास्फीति 6% तक बढ़ गई।

महंगाई से आम जनता पर क्या प्रभाव पडे़गा?
– लोग वस्तुओं की खरीदारी कम करेंगे।
– लोगों की चीजों को लेकर डिमांड कम हो जायेगी।
– बचतकर्ता और उधारकर्ता को दिक्कत होगी।

महंगाई से सरकार को क्या फायदा?
– यह सरकार को ऋण दायित्वों को पूरा करने में मदद करेगी।
– अल्पावधि में, सरकार, जो अर्थव्यवस्था में सबसे बड़ी कर्जदार है, अधिक महंगाई से लाभान्वित होती है।
– महंगाई से सरकार को अपने राजकोषीय घाटे के लक्ष्यों को पूरा करने का मौका मिलता है।

महंगाई से रुपए के विनिमय दर (exchange rate) पर प्रभाव
– उच्च मुद्रास्फीति का मतलब है कि रुपया कमजोर हो रहा है।
– यदि आरबीआई पर्याप्त तेजी से ब्याज दरों में वृद्धि नहीं करता है, तो कम रिटर्न के कारण निवेशक दूर रहेंगे।
– यह अधिक महंगाई की ओर ले जाता है।
– लगातार अधिक महंगाई लोगों के मनोविज्ञान को बदल देती है।
– लोग उम्मीद करते हैं कि भविष्य में कीमतें अधिक होंगी और मजदूरी की मांग अधिक होगी।
– लेकिन यह, बदले में, महंगाई को और बढ़ाता है।
– क्योंकि कंपनियां वस्तुओं और सेवाओं की कीमत और भी अधिक करने की कोशिश करती हैं।

भारत पर स्टैगफ्लेशन (मुद्रास्फीतिजनित मंदी) का खतरा
– आरबीआई के पास विश्वसनीय तरीके से ब्याज दरें बढ़ाने का रास्ता है।
– कठिनाई यह है कि मौजूदा समय में ब्याज दरों में वृद्धि, जब विकास करना मुश्किल है।
– यह स्टैगफ्लेशन की चिंताओं को जन्म दे सकता है।

नोट: स्टैगफ्लेशन (मुद्रास्फीतिजनित मंदी) एक ऐसी स्थिति है जिसमें अर्थव्यवस्था मुद्रास्फीति और बेरोजगारी की उच्च दर का सामना करती है।

—————
7. संयुक्त राष्ट्र में हिंदी को बढ़ावा देने के लिए भारत ने दिए कितनी रकम का सहयोग किया?

a. छह लाख डॉलर
b. सात लाख डॉलर
c. आठ लाख डॉलर
d. नौ लाख डॉलर

Answer: c. आठ लाख डॉलर

– भारत के स्थायीय उप प्रतिनिधि आर रविंद्र ने इस राशि का चेक संयुक्त राष्ट्र के वैश्विक संप्रेषण विभाग को सौंपा।
– इस रकम से संयुक्‍त राष्‍ट्र में हिन्‍दी भाषा को बढ़ावा मिलेगा।
– संयुक्त राष्ट्र के जन सूचना विभाग के सहयोग से वर्ष 2018 में ‘हिन्दी @संयुक्त राष्ट्र’ परियोजना की शुरुआत की गई थी, जिसका मकसद हिन्दी भाषा में संयुक्त राष्ट्र की लोगों तक पहुंच को बढ़ावा देना है।

————-
8. भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) के नए अध्‍यक्ष कौन बनें?

a. राहुल बजाज
b. संजीव बजाज
c. टीवी नरेंद्रन
d. विकास बजाज

Answer: b. संजीव बजाज

– संजीव बजाज ने वर्ष 2022-23 के लिए भारतीय उद्योग परिसंघ (Confederation of Indian Industry – CII) के अध्यक्ष का पद ग्रहण किया।
– उन्‍होंने टाटा स्टील के सीईओ, टी.वी. नरेंद्रन की जगह ली।

भारतीय उद्योग परिसंघ (CII)
– स्थापना: 1895
– मुख्यालय: नई दिल्ली, भारत

—————
9. नवरत्न कंपनी ‘आरईसी लिमिटेड’ के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक कौन बनें?

a. रविंदर सिंह ढिल्लों
b. विवेक आरोही
c. विशाल बहुगुणा
d. राहुल सिंह

Answer: a. रविंदर सिंह ढिल्लों

– REC Limited को पहले ग्रामीण विद्युतीकरण निगम लिमिटेड के नाम से जाना जाता था।

—————
10. विश्व प्रवासी पक्षी दिवस (World Migratory Bird Day) कब मनाया जाता है?

a. मई के दूसरे शनिवार
b. अक्‍टूबर के दूसरे शनिवार
c. जून के दूसरे शनिवार
d. a और b

Answer: d. a और b (मई और अक्‍टूबर के दूसरे शनिवार)

वर्ष 2022 में इस दिवस की तिथियां 14 मई और 8 अक्‍टूबर को हैं।

– वर्ष 2022 का थीम : प्रकाश प्रदूषण (Light Pollution)

– कृत्रिम प्रकाश विश्व स्तर पर प्रति वर्ष कम से कम 2 प्रतिशत बढ़ रहा है और यह कई पक्षी प्रजातियों पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है।
– प्रकाश प्रदूषण प्रवासी पक्षियों के लिए एक महत्वपूर्ण खतरा है, जो रात में उड़ने पर भटकाव पैदा करता है, जिससे इमारतों से टकराव होता है।
– उनकी बायोलॉजिक क्‍लॉक में गड़बड़ी होती है, या लंबी दूरी के प्रवास करने की उनकी क्षमता में हस्तक्षेप होता है।

– दुनिया में कुल फ्लाइवे – 9. (फ्लाइवे का मतलब कि प्रवासी पक्षियों के उड़ने का रूट। भारत मध्‍य एशिया फ्लाइवे में आता है।)