11th February 2022 Current Affairs

Spread the love

यह 11th February 2022 का करेंट अफेयर्स है, जो आपके कांपटीटिव एग्‍जाम्‍स में मदद करेगा। इसका PDF Download Link इस पेज के लास्‍ट में मौजूद है। Current Affairs PDF आप इस पेज के आखिरी हिस्‍से से Free में डाउनलोड करें।

1. जियोमैग्नेटिक स्टॉर्म (सोलर तूफान) से फरवरी 2022 में 40 सैटेलाइट नष्‍ट हो गए, ये किस स्‍पेस ऑर्गेनाइजेशन के उपग्रह थे?

a. इसरो
b. नासा
c. टेलीसेट
d. स्‍पेसएक्‍स

Answer: d. स्‍पेसएक्‍स

– यह तूफान 4 फरवरी 2022 को आया। इससे स्‍टारलिंक के 40 सैटेलाइट को धक्‍का लगा और ये पृथ्‍वी की ओर गिरने (falling out) लगे।
– पृथ्‍वी के वायुमंडल में आते ही इन सैटेलाइट में आग लग गई और नष्‍ट हो गए।
– हालांकि इससे पृथ्‍वी या यहां रहने वाले लोगों को नुकसान नहीं हुआ।
– इन सैटेलाइट को एलोन मस्‍क की कंपनी स्‍पेस एक्‍स ने एक दिन पहले ही (3 फरवरी) फाल्‍कन 9 रॉकेट से लांच किया था।
– प्रत्‍येक सैटेलाइट 260 किलोग्राम (575 पाउंड) तक के वजन का था।
– इन्‍हें पृथ्‍वी की सतह से 210 किलोमीटर की ऊंचाई पर स्‍थापित किया गया था।
– इस तूफान की भविष्यवाणी 29 जनवरी 2022 को ही कर दी गई थीं।

क्या होता हैं जियोमैग्नेटिक स्टॉर्म (सोलर तूफान)?
– यह तूफान सूर्य से उत्‍पन्‍न होता है।
– सूर्य गैसों का एक गोला है।
– इसमें 92.1% हाइड्रोजन और 7.8% हीलियम जैसी गैसे है।
– सूर्य में न्‍यूक्लियर फ्यूजन का प्रोसेस चलता रहता हैं।
– इनमें सें मुख्यता 11 साल के अंतराल पर यह प्रोसेस चरम पर होता हैं, जिनको सोलर साइकल कहा जाता हैं।
– सोलर साइकल के ही समय अरबों टन गर्म गैसों के फुव्वारे और लपटे फैलते हैं।
– इसके बारे में नासा के सोलर पार्कर प्रोब ने कुछ नई खोज की थी। इससे पता चला था कि कैसे सोलर विंड चार्ज बैक करते हुए अंतरिक्ष में निकलते हैं।
– सूर्य से आए चार्ज्ड पार्टिकल धरती के वायुमंडल की ऊपरी सतह पर मैग्‍नेटिक फील्‍ड से टकराते हैं।
– दरअसल, मैग्‍नेटिक फील्‍ड ऐसे सोलर और स्‍पेस से आनेवाले तूफान से बचाने का काम करता है और पृथ्‍वी पर रहने वाले लोगों को इसका एहसास भी नहीं होता है।
– जब सूर्य के चार्ज्‍ड पार्टिकल पृथ्‍वी के मैग्‍नेटिक फील्‍ड से टकराते हैं, तो तूफान मच जाता है।
– इसको ही जियोमैग्नेटिक स्टॉर्म कहते हैं।

कितना खतरनाक हैं जियोमैग्नेटिक स्टॉर्म?
– बहुत बार सोलर तूफान से धरती का बाहरी वायुमंडल गर्म हो जाता है।
– पृथ्‍वी का मैग्‍नेटिक फील्‍ड न हो, तो ये सोलर तूफान इसे बर्बाद कर सकते हैं।
– मंगल ग्रह का मैग्‍नेटिक फील्‍ड पृथ्‍वी की तुलना में 40 गुना कम है, इसलिए इस तूफान का ज्‍यादा असर मंगल पर होता है।
– पृथ्‍वी पर इसका सीधा असर सैटलाइट्स पर पड़ता है।

पृथ्वी पर क्या होगा इस तूफान का प्रभाव?
– इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार सौर तूफान की अधिकतर लपटें पृथ्वी तक नहीं पहुंचती हैं।
– परंतु करीब आने वाले सौर लपटें या तूफान, सोलर एनर्जेटिक पार्टिकल्स हाई स्पीड सोलर विंड्स और कोरोनल मास इजेक्शन्स जो पृथ्वी के नजदीक आते हैं, वह अंतरिक्ष के मौसम और ऊपरी वायुमंडल को इम्पेक्ट कर सकते हैं।
– ये तूफान जीपीएस, रेडियो और सैटेलाइट कम्युनिकेशन्स को भी प्रभावित कर सकते हैं।
– जियोमैग्नेटिक तूफान हाई-फ्रीक्वेंसी रेडियो कम्युनिकेशन्स और जीपीएस नेविगेशन सिस्टम्स में गड़बड़ी कर सकते हैं।
– इसके अतिरिक्त विमान, पावर ग्रिड्स और स्पेस एक्सप्लोरेशन प्रोग्राम को भी नुकसान पहुंचा सकता हैं।
– कोरोनल मास इजेक्शन्स, लाखों मील प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाले पदार्थ से लदे इजेक्टाइल्स के साथ मैग्नेटोस्पीयर में disturbance पहुंचा सकते हैं।

क्‍या हम सोलर विंड के इफेक्‍ट को देख सकते है?
– हां। हम इन्‍हें देख सकते हैं।
– दरअसल, सोलर विंड पृथ्‍वी के आयनोस्फीयर को गर्म कर सकते हैं। (जहां पृथ्वी का वायुमंडल अंतरिक्ष से मिलता है)
– इससे पृथ्वी पर यहां सुंदर औरोरा बनता है।
– इसे दुनिया के कुछ ही जगहों से देखा जा सकता है। जैसे – अमेरिका के कुछ स्थानों और दुनिया के सुदूर उत्तरी और दक्षिणी हिस्सों में।
– रंगीन अरोरा तब बनता है जब सूर्य से बहने वाले कण पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र में फंस जाते हैं।

स्टारलिंक के बारे में
– स्टारलिंक सैटेलाइट के जरिए हाईस्पीड इंटरनेट सेवा उपलब्ध कराने वाली कंपनी हैं।
– स्टारलिंक सैटेलाइट को स्पेसएक्स द्वारा निर्मित किया गया हैं।
– इस कंपनी के संस्थापक एलोन मस्क हैं।
– इस कंपनी का लक्ष्य हैं कि पूरे विश्व में सैटेलाइट द्वारा इंटरनेट सेवाएं देना।

कैसे काम करता है स्‍टारलिंक?
– दरअसल, स्पेसएक्स ने लगभग 2000 सैटेलाइटों को अंतरिक्ष में स्थापित किया है, जो पृथ्वी से क़रीब 550 किलोमीटर की ऊंचाई (पृथ्‍वी की लो ऑर्बिट) पर तेज़ी से घूम रहे हैं।
– ये हर 90 मिनट में पृथ्वी का एक चक्कर लगा रहे हैं।
– यही इंटरनेट प्रोवाइड करता है।
– इसके लिए छोटा-सा डिश एंट‍िना छत पर लगाया जाता है।
– यह अंतरिक्ष में घूम रहे सैटेलाइट से सिग्नल प्राप्त करता है और इंटरनेट प्रोवाइड कराता है।
– स्टारलिंक दुनिया की उन संभावित कंपनियों में से एक है, जो दुनिया को सैटेलाइट इंटरनेट सेवा मुहैया कराना चाहती है।

—————–
2. केंद्र सरकार ने ड्रोन के आयात पर बैन लगाने का फैसला किया, इसमें किस क्षेत्र को अपवाद में रखा गया है?

a. R&D
b. डिफेंस
c. सिक्‍योरिटी
d. उपरोक्‍त सभी

Answer: d. उपरोक्‍त सभी (रिसर्च एंड डेवलपमेंट, defence and security)

– हालांकि इन अपवादों के लिए भी केंद्र सरकार से अनुमति लेनी होगी।
– मिनिस्‍ट्री ऑफ सिविल एविएशन ने 9 फरवरी ड्रोन के इंपोर्ट पर बैन लगाया है।
– प्रतिबंध में completely built up (CBU), completely knocked down (CKD) और semi knocked down (SKD) प्रकार के ड्रोन्स भी शामिल हैं।
– और ड्रोन्स के पुर्जो (components) के आयात पर भी बैन नहीं हैं।

ड्रोन्स के आयात पर बैन क्यों?
– यह बैन भारत ने ‘मेड इन इंडिया’ को बढ़ावा देने के लिए किया हैं।
– इससे खासकर घरेलू निर्माण (domestic manufacturing) उद्योग को फायदा मिलेगा।
– दरअसल, ड्रोन्स manufacturing इस दशक में तेजी से बढ़ने वाला क्षेत्र दिखाई दे रहा हैं।
– ‘BIS रिसर्च’ के अनुसार, वित्त वर्ष 2022 में लगभग 28.5 अरब डॉलर मूल्य के वैश्विक ड्रोन बाजार होने की उम्‍मीद है।
– इसमें भारत के ड्रोन बाजार का लगभग 4.25 प्रतिशत हिस्सा होने का अनुमान है।

कौन अब भी ड्रोन आयात कर सकता है?
– सरकारी संस्थान, शिक्षण संस्थान और सरकारी रिसर्च और डेवलपमेंट संस्थान CBU, SKD and CKD प्रकार के ड्रोन्स का आयात कर सकते हैं।
– लेकिन इसके लिए उन्हें Directorate General of Foreign Trade से अनुमति लेनी होगी।
– यह अनुमति Directorate General of Foreign Trade और अन्य मंत्रालयों के विचार-विमर्श के बाद दी जायेगी।
– रिसर्च और डेवलपमेंट के लिए ड्रोन्स का आयात करने के लिए ड्रोन निर्माताओं को भी इसी प्रक्रिया से गुजरना होगा।

सरकार ने ड्रोन्स के लिए अबतक क्या-क्या कदम उठाए हैं?
– बीते साल 2021 में भारत सरकार ने ड्रोन्स और उसके पुर्जो के लिए Production-Linked Incentive (PLI) स्कीम को एप्रूव किया था।
– सरकार ने अनुमान लगाया है कि PLI स्कीम के तहत वित्तीय वर्ष 2024 तक भारतीय ड्रोन निर्माण क्षेत्र में 5 हजार करोड़ रूपए से अधिक तक का निवेश होगा।
– और साथ ही साथ 10 हजार डायरेक्ट जॉब्स का भी उत्पादन होगा।
– PLI स्कीम के तहत वित्त वर्ष 2024 में घरेलू उद्योग (domestic industry) के कुल कारोबार को 900 करोड़ रुपये तक बढ़ाने की उम्मीद है, जो वित्त वर्ष 2021 में अनुमानित 60 करोड़ रुपये से अधिक है।
– नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) के डिजिटल स्काई प्लेटफॉर्म पर भारत का एक हवाई क्षेत्र का नक्शा भी लॉन्च किया हैं।
– यह उन क्षेत्रों का सीमांकन करता है जहां ड्रोन का उपयोग बिना अनुमति के किया जा सकता है
– और जिन क्षेत्रों में ड्रोन ऑपरेटर सरकार से पूर्व अनुमति प्राप्त किए बिना ड्रोन संचालित नहीं कर सकते हैं।

——————-
3. वैज्ञानिक ल्यूक मॉन्टैग्नियर का निधन 08 फरवरी 2022 को हो गया, उन्‍हें किस वायरस की खोज के लिए नोबेल पुरस्‍कार मिल चुका है?

a. Covid-19
b. HIV
c. Polio
d. उपरोक्‍त सभी

Answer: b. HIV

– ल्यूक मॉन्टैग्नियर ने HIV (ह्यूमन इम्‍यूनोडेफिसिएंसी वायरस) की खोज वर्ष 1983 में की थी।
– उनका निधन 8 फरवरी 2022 को पेरिस (फ्रांस) के हॉस्पिटल में हुआ।
– वह 89 साल के थे।

ल्यूक मॉन्टैग्नियर के बारे में
– उनका जन्म वर्ष 1932 में सेन्ट्रल फ्रांस के चबरीस गांव में हुआ था।
– वर्ष 1972 में पाश्चर इंस्टीट्यूट के वॉयरोलोजी विभाग के हेड भी बनें।

1983 में HIV की खोज की
– अमेरिकन वैज्ञानिक रॉबर्ट गैलो और फ्रेंच वैज्ञानिक फ्रांकोइस बर्रे-सिनौसी व ल्यूक मॉन्टैग्नियर ने अपनी-अपनी रिसर्च टीम के साथ वर्ष 1983 में एड्स जैसी बीमारी को उत्पन्न करने वाले वायरस एचआईवी (HIV) की खोज की थी।

नोबेल प्राइज
– HIV की खोज करने के लिए उन्हें अपने सहयोगी फ्रेंकोइस बर्रे-सिनौसी के साथ वर्ष 2008 में नोबेल प्राइज मिला था।

कोरोना वायरस को लेकर किया था दावा
– उन्होंने ने वर्ष 2020 में दावा किया था कि कोरोना वायरस वुहान की चाइनीच लैब में निर्मित किया गया था।

—————–
4. मध्य प्रदेश कैबिनेट ने किस महापुरुष की 108 फीट ऊंची प्रतिमा के निर्माण के लिए 2141.81 करोड़ रूपए की स्वीकृति दी?

a. विवेकानंद
b. आचार्य शंकर
c. पंडित नंद किशोर
d. महाराणा प्रताप सिंह

Answer: b. आचार्य शंकर

– इस प्रतिमा को ओंकारेश्‍वर में स्‍थापित करने की योजना है।
– मध्य प्रदेश कैबिनेट ने 09 फरवरी 2022 को प्रतिमा निर्माण के लिए 2141.81 करोड़ रूपए के प्रस्ताव को सैद्धांतिक सहमति दी।
– इसके अलावा शंकर संग्रहालय और आचार्य शंकर अंतरराष्ट्रीय अद्वैत वेदांत संस्थान की इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर निर्माण के लिए भी सहमति दी गई हैं।
– इन तीनों चीजों का निर्माण 2141.81 करोड़ रूपए की ही धनराशि में होगा।
– यह फैसला मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में लिया गया।

मध्य प्रदेश
सीएम- शिवराज सिंह चौहान
राज्यपाल- मंगूभाई छगनभाई पटेल

—————–
5. ग्लोबल डिजिटल स्किल्स रेडिनस इंडेक्स (Global Digital Skills Readiness Index) 2022 में भारत का क्या स्कोर रहा?

a. 75
b. 99
c. 63
d. 55

Answer: c. 63

– इस रैंकिंग में दुनियाभर में सबसे बेहतर स्‍थान भारत का रहा।
– सेल्सफोर्स ने ग्लोबल डिजिटल स्किल्स इंडेक्स की रिपोर्ट 04 फरवरी 2022 को जारी की।
– इस रिपोर्ट के अनुसार भारत नें ग्लोबल डिजिटल स्किल्स रेडिनस इंडेक्स में 100 में से 63 अंक प्राप्त किए हैं।
– मतलब भारत डिजिटल क्षेत्र में काफी तेजी से बढ़ रहा हैं।
– यह इंडेक्स 19 देशों में 23,500 से भी अधिक वर्कर्स के सर्वेक्षण पर आधारित है, जिसमें औसत वैश्विक readiness स्कोर 100 में से 33 है।

टॉप पांच देश
– भारत (63)
– ब्राजील (53)
– थाईलैंड (48)
– मैक्सिको (47)
– अर्जेंटीना (41)

ग्लोबल डिजिटल स्किल्स इंडेक्स
– यह इंडेक्स विश्वभर के देशों की डिजिटल क्षेत्र के प्रदर्शन के बारे में बताता हैं।
– इस इंडेक्स में डिजिटल स्किल्स रेडिनेस से जुड़े डाटा के बारे में बताया जाता हैं।

डिजिटल स्किल्स क्‍या होता है?
– किसी डिजिटल डिवाइस, मोबाइल एप्लीकेशन या ऑनलाइन नेटर्वक को आसानी से प्रयोग कर लेना और बेसिक ऑनलाइन सर्चिंग से लेकर प्रोग्रामिंग और डेवलपमेंट के एक्सपर्ट बन जाना डिजिटल स्किल्स कहलाता हैं।
– कम्प्यूटर लिटरेसी, डाटा एंट्री, सोशल मीडिया, वेब प्रोसेसिंग, डाटा सांइस, प्रोग्रामिंग और डिजिटल मार्केटिंग आदि को ही डिजिटल स्किल्स कहते हैं।

सेल्सफोर्स (Salesforce) के बारे में
– सेल्सफोर्स एक customer relationship management (CRM) प्लेटफॉर्म है।
– यह मार्केटिंग, बिक्री, वाणिज्य, सेवा और आईटी जैसे क्षेत्रों में सहायता करने के लिए काम करता हैं।
– अरुंधति भट्टाचार्य सेल्सफोर्स इंडिया (भारतीय इकाई) की CEO और चेयरपर्सन हैं।
– अरुंधति भट्टाचार्य स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की चेयरपर्सन भी रह चुकी हैं।

——————-
6. ‘कश्‍मीर’ मामले पर विवादित सोशल मीडिया पोस्‍ट की वजह से किन ग्‍लोबल कंपनियों ने भारत से माफी मांगी?

a. हुंडई और किया मोटर्स
b. केएफसी
c. पिज्जा हट
d. उपरोक्त सभी

Answer: d. उपरोक्त सभी (हुंडई, किया मोटर्स, केएफसी,पिज्जा हट)

– दरअसल, पाकिस्‍तान अपने प्रोपेगेंडा के तहत 5 फरवरी को कश्मीर एकजुटता दिवस (Kashmir Solidarity Day) मनाता है।
– इसके लिए वहां छुट्टी भी रखी जाती है। पाकिस्‍तानी सरकार जुलूस निकवाती है।
– कई ग्‍लोबल कंपिनियों ने इस प्रोपेगेंडे में साथ आकर ‘कश्‍मीर सॉलीडेटेरी डे’ को लेकर सोशल मीडिया पोस्‍ट किए।
– इनमें साउथ कोरियन ऑटोमोबाइल कंपनियां किया मोटर्स और हुंडई, केएफसी और पिज़्ज़ा हट के भारतीय एफिलिएट्स शामिल थे।
– केएफसी(KFC) पाकिस्तान ने 5 फरवरी 2022 को एक ट्वीट किया जिस पर लिखा था “कश्मीर बिलॉन्ग टू द कश्मीरीज”।
– पिज़्ज़ा हट पाकिस्तान के एक अनवेरीफाइड इंस्टाग्राम हैंडल ने एक तस्वीर साझा कर लिखा कि “बी स्टैंड विद यू”।
– पिज़्ज़ा हट, किया मोटर्स और हुंडई ने भी “This Kashmir Solidarity Day, let’s join hands and stand united for the freedom of our Kashmiri brothers and sisters…” जैसी पोस्ट की।
– इस मुद्दे पर भारत की जनता ने कंपनियों के बहिष्‍कार की घोषणा कर दी।
– सरकार ने भी आपत्ति जताई।
– तब इन कंपनियों ने माफी मांगी।

विदेश मंत्रालय ने साउथ कोरिया के एंबेसडर से बातचीत की
– विदेश मंत्रालय के स्पोक्सपर्सन अरिंदम बागची ने 8 फरवरी 2022 को रिपब्लिक ऑफ कोरिया के एंबेसडर से ऑटोमोबाइल कंपनी के द्वारा की गई पोस्ट के बारे में बातचीत की।
– जिसके बाद साउथ कोरिया के विदेश मंत्री चूंग यूआई यौंग ने इस बात पर भारत और भारत के नागरिकों से माफी मांगी।
– अन्‍य कंपनियों ने भी मांफी मांगी।

भारत का अभिन्‍न हिस्‍सा है जम्‍मू कश्‍मीर
– केंद्र सरकार संसद में कई बार यह कह चुकी है कि जम्‍मू कश्‍मीर और लद्दाख भारत का अभिन्‍न हिस्‍सा है। इस पर किसी भी देश को प्रोपेगेंडा चलाने गलत है।

——————
7. ICC वनडे महिला प्‍लेयर बैटिंग रैंकिंग (फरवरी 2022) में किस खिलाड़ी को पहला स्‍थान मिला?

a. मिताली राज
b. एलिसा हीली
c. स्मृति मंधाना
d. मेग लेनिन

Answer: b. एलिसा हीली

– ICC ने 8 फरवरी 2022 को ये रैंकिंग जारी की है।
– भारत की सलामी बल्‍लेबाज स्मृति मंधाना इस रैंकिंग में पांचवें स्थान पर पहुंच गई हैं।

टॉप 5
1. एलिसा हीली (ऑस्ट्रेलिया)
2. मिताली राज (भारत)
3. बेथ मूनी (ऑस्ट्रेलिया)
4. एमी सैटरथवेट (ऑस्ट्रेलिया)
5. स्मृति मंधाना (भारत)

—————–
8. ICC वनडे महिला प्‍लेयर बॉलिंग रैंकिंग (फरवरी 2022) में किस खिलाड़ी को पहला स्‍थान मिला ?

a. झूलन गोस्वामी
b. दीप्ति शर्मा
c. जेस जोनासेन
d. स्टेफनी टेलर

Answer: c. जेस जोनासेन

– गेंदबाजों की रैंकिंग में ऑस्ट्रेलिया की जेस जोनासेन ने अपना शीर्ष स्थान बरकरार रखा है।
– दूसरे नंबर पर यहां भी भारत की खिलाड़ी झूलन गोस्‍वामी हैं।

टॉप 5
1. जेस जोनासेन (ऑस्ट्रेलिया)
2. झूलन गोस्वामी (भारत)
3. सोफी एक्लेस्टोन (इंग्‍लैंड)
4. मेगान शट (ऑस्ट्रेलिया)
5. शबनीम इस्माइल (साउथ अफ्रीका)

—————–
9. ICC वनडे महिला प्‍लेयर आलराउंडर रैंकिंग (फरवरी 2022) में किस खिलाड़ी को पहला स्‍थान मिला?

a. दीप्ति शर्मा
b. सोफी डिवाइन
c. एलिसा पेरी
d. मेटिल स्‍काइवर

Answer: c. एलिसा पेरी

– ऑस्ट्रेलिया की एलीसे पैरी ने इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे वनडे में 64 गेंद में 40 रन की पारी खेली।
– साथ ही उन्होंने सात ओवर की गेंदबाजी में 12 रन देकर तीन विकेट लिए।

टाप 5
1. एलीसे पैरी (ऑस्ट्रेलिया)
2. नताली साइवर (इंग्‍लैंड)
3. मरिज़ैन काप्पो (साउथ अफ्रीका)
4. दीप्ति शर्मा (भारत)
5. कैथरीन हेलेन ब्रंट (इंग्‍लैंड)

—————–
10. ICC वनडे महिला टीम रैंकिंग (फरवरी 2022) में पहला स्‍थान किसका है?

a. ऑस्‍ट्रेलिया
b. साउथ अफ्रीका
c. इंग्‍लैंड
d. भारत

Answer: a. ऑस्‍ट्रेलिया

टाप 5
1. ऑस्‍ट्रेलिया
2. साउथ अफ्रीका
3. इंग्‍लैंड
4. भारत
5. बांग्‍लादेश


Free Download Notes PDF of Toady’s Current Affairs : – Click Here